ग्रीन हाउस सब्जियों की खेती नई विधियों को सीखने का मौका, इस इंस्टीट्यूट में करें ट्रेनिंग

कोर्स के दौरान ग्रीन हाउस सब्जियों को उगाने के साथ पॉली हाउस में फूलों को उगाने की तकनीक के बारे सिखाएगा।

ग्रीन हाउस सब्जियों की खेती नई विधियों को सीखने का मौका, इस इंस्टीट्यूट में करें ट्रेनिंग

शेफाली त्रिपाठी, गांव कनेक्शन

लखनऊ। खेती किसानी एक बार फिर से तेजी से उभरता सेक्टर है। गांव में खेती करने वालों की संख्या भले कम हो रही है लेकिन इस क्षेत्र में पढ़े लिखे युवा आ रहे हैं। वैज्ञानिक तरीकों से खेती कर मुनाफा भी कमा रहे हैं। खासकर बागवानी में भविष्य की अपार संभावाएं हैं। अगर आप बागवानी यानि हार्टीकल्चर का काम, नौकरी या स्वरोजगार की संभावनाएं तलाश रहे हैं तो आपके लिए मौका है।

बागवानी की खेती बेहतर ढंग से करें इसके लिए नोएडा स्थित निजी संस्थान " इंस्टीट्यूट ऑफ हॉटिकल्चर टेक्नालॉजी " ने एक शार्ट टर्म (अल्प अवधि) कोर्स लागू किया है, जिसके तहत लोगों को ग्रीन हाउस सब्जियों को उगाने के साथ पॉली हाउस में फूलों को उगाने की तकनीक के बारे सिखाएगा।

इंस्टीट्यूट द्वारा चलाये गए ये कोर्स एक सीमित समय के लिए ही हैं। कोर्स को भागों में बांटा गया है और तीनों कोर्स की फीस भी अलग निर्धारित की गई है। नोएडा में स्थित इस निजी संस्थान की कोऑर्डिनेटर लीना ने बताया कि ''कोई भी व्यक्ति अपने इच्छा के अनुसार कोर्स को चुन सकता हैं। कोर्स को तीन भागों में बाटा गया हैं। हर कोर्स के लिए अगल-अगल फीस निर्धारित की गयी हैं। यह सभी कोर्सेज अगल अगल दिन पर कराए जायेंगे।''


1.तीन दिवसीय पाठ्यक्रम: तीन दिवसीय कोर्स के दौरान इन पाठ्यक्रम को शामिल किया गया है।

ग्रीन हाउस में सब्जियां उगाने की तकनीक।

पॉली हाउस फ्लावर कोर्स में फूल उगाने की तकनीक।

ग्रीनहाउस नर्सरी में सब्जियों के संकर बीज उगाने की तकनीक।

अन्य जरुरी सूचनाएं:

प्रशिक्षण की तारीख 23 सें 25 अगस्त तक होगीं।

इस कोर्स की फीस 4500 रुपये है, जो प्रशिक्षण शुरु होने से पहले ही जमा करनी होगी।

2.पांच दिवसीय पाठ्यक्रम: इस दौरान सब्जियों की संरक्षित खेती (प्रोटेक्टेड क्लटीवेशन ऑफ वेजिटेबलस क्रॉप्स) के बारे में जानकारी दी जायेगी।

अन्य जरुरी सूचनाएं:

यह ट्रेनिंग 28 अगस्त से एक सितम्बर के बीच में होगी।

इस कोर्स की फीस 7500 रुपयें होगी, और इसे भी प्रशिक्षण शुरू होने से पहले जमा करना होगा।

3.सात दिवसीय कोर्सेज: इसमें निम्न कोर्सो को शामिल किया गया है।

इस दौरान बागवानी के उत्पादन के बारे में बताया जायेगा।

फूलों की संरक्षित खेती (प्रोटेक्टेड क्लटीवेशन ऑफ फ्लावर क्रॉप्स) के बारे में भी बताया जायेगा।

अन्य जरुरी सूचनाएं:

इसे 27 अगस्त से तीन सितम्बर तक चलेगा।

इस कोर्स में फीस 20,000 रुपयें होगी। इस कोर्स के दौरान भी फीस पहले ही जमा की जायेगी।

इस प्रशिक्षण की खास बात यह है कि इसके लिए किसी विशेष शैक्षिक योग्यता की जरुरत नहीं है। हर वो व्यक्ति जो इस ट्रेनिंग को लेना चाहता है,वह अपने आवश्यकतानुसार फीस भरकर कोर्स को चुन सकता है। कोर्स को करने के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ हॉटिकल्चर टेक्नोलॉजी के वेबसाइट पर उपलब्ध फॉर्म को भरकर सर्वप्रथम ऑनलाइन रजिस्टर कर आवेदन करना होता है, अगर आप ऑनलाइन रजिस्टर नही करना चाहते है,तो वेबसाइट पर उपलब्ध फार्म को डाउनलोड करके उसे भरकर उसे डॉक द्वारा भेज सकते है। फार्म भरने के बाद इंस्टीट्यूट से फोन और ईमेल के द्वारा फीस भरने की ऑनलाइन प्रक्रिया के बारे में बताया जायेगा। प्रशिक्षण इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों के द्वारा दिया जायेगा। प्रशिक्षण के बाद प्रशिक्षित लोगों को इंस्टीट्यूट सर्टिफिकेट भी दिया जायेगा। लिकं -http://www.iht.edu.in/announcement-course-long-term.aspx

ये भी पढ़ें-मटका विधि से लौकी-खीरा जैसी फसलें बोने पर मिलेगी दोगुनी पैदावार, 2 महीने में एक बार देना होगा पानी

ये भी पढ़ें- जौनपुर गाँव की महिला किसान खेती में करती हैं मटका खाद का प्रयोग

Share it
Top