Top

पुराना ख‍़त : गणेश शंकर विद्यार्थी ने अपने भाई को लिखा था ये पत्र

पुराना ख‍़त :  गणेश शंकर विद्यार्थी ने अपने भाई को लिखा था ये पत्रगणेश शंकर विद्यार्थी

पूज्य भाई साहब

प्रणाम।

झाँसी से लिखे हुए पत्र आपको मिल गए होंगे। उसके सबेरे ही मैं यहाँ बनापुर चतुर्वेदी जी के साथ चला आया। यहाँ अच्छी तरह से हूँ। कोई कष्ट नहीं। चतुर्वेदी जी की माता बड़े प्रेम से भोजन कराती हैं और उनके भाई सेवा करते हैं। आज होली का दिन है। आप लोगों को मेरी चिंता होगी, परंतु चिता तनिक भी न कीजिएगा। यहाँ कोई कष्ट नहीं है और सबका व्यवहार घर का-सा है। 5 तारीख को यहां से चलेंगे और 6 तारीख को सबेरे कानपुर पहुँचेंगे। घर पर पहुँच कर आप लोगों से मिल भी लेना है। हो सका, तो नहा-धोकर कुछ खा-पी लूँगा। उसके पश्चात अपने को पुलिस के हाथों में दे देना है। उसी दिन फतेहपुर चला जाना होगा और 10-12 दिन के भीतर ही सब फैसला हो जाएगा। सजा कितनी होगी, सो नहीं कहा जा सकता। मेरा खयाल है कि एक वर्ष के लिए यह कष्ट सिर पर पड़ेगा। आप लोग मेरे दुर्बल शरीर के कारण चिंतित होंगे। आप इसकी चिंता न करें। मुझे कष्ट नहीं होगा। मैं आराम से रहूँगा। मुझे आराम पहुँचाने वाले सब जगह हैं और सबसे अधिक भरोसा ईश्वर का है। इस कष्ट का सहना आवश्यक हो गया है। यदि इस कष्ट के सहने से मैं अपना कदम पीछे हटाऊँगा, तो मेरा जीवन बहुत कडुआ हो जायेगा। इसलिए, आप लोग ईश्वर पर भरोसा रखकर, सहर्ष आज्ञा दीजिएगा। मुझे बाबूजी की चिंता है। बड़ा कठिन समय है। आप उन्हें धीरज दीजिएगा। आशा नहीं कि वह इस चोट को सह सकें। आप चिंता न करें और घर वालों को भी परमात्मा पर भरोसा बंधाएँ। मनुष्य के जीवन में बहुधा संकट के समय आया करते हैं, परंतु वे सदा नहीं रहते। मेरा तो वहाँ तक विश्वास है कि इस संकट में मुझे कोई विशेष लाभ होगा... अपने हृदय को तनिक भी न गिरने दीजिएगा। मुझे आशीर्वाद देते रहिए। अम्माँ को प्रणाम। बाबूजी को क्या लिखूँ। बच्चों को प्यार।

चरण सेवक

गणेश शंकर

रामधारी सिंह दिनकर का लोकनायक जयप्रकाश नारायण को पत्र

विष्णु प्रभाकर का पत्र उनकी पत्नी सुशीला के नाम

पुराना ख़त : महात्मा गांधी ने हिटलर को लिखा था...

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.