एक ऐसा क्रिकेट स्टेडियम जो कूड़ा फेंकने वाली ज़मीन पर बना है 

एक ऐसा क्रिकेट स्टेडियम जो कूड़ा फेंकने वाली ज़मीन पर बना है फोटो साभार: इंटरनेट 

लखनऊ। डॉ भूपेन हजारिका क्रिकेट स्टेडियम, जिसे एसीए स्टेडियम और बार्सपारा क्रिकेट स्टेडियम उपनाम दिया गया, गुवाहाटी में एक क्रिकेट स्टेडियम है। यह एक नया स्टेडियम है जो घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों की मेजबानी करता है

गुवाहाटी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरे टी -20 की मेजबानी करने वाले बार्सपारा स्टेडियम, एक ऐसे क्षेत्र पर बना है जो एक डंपिंग ग्राउंड था।

स्टेडियम ने अब तक कुछ घरेलू क्रिकेट मैचों की मेजबानी की है, और मंगलवार को अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच भी आयोजित किया।2004 में राज्य सरकार ने असम स्टेट एसोसिएशन को 59 बीघा भूमि आवंटित की थी। तत्कालीन कांग्रेस के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने इस स्टेडियम के लिए पहला पत्थर रखा था, लेकिन अगले तीन सालों तक स्टेडियम के लिए कोई काम नहीं किया गया।

स्टेडियम के आसपास कई अवैध व्यवसाय थे जिसके कारण 2007 में एक बार फिर तरुण गोगोई ने इस स्टेडियम की आधारशिला रखी। इसके बाद, स्टेडियम ने 2013-14 के रणजी सीजन में चार मैचों की मेजबानी की।

ये भी पढ़ें- पहल- ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को सामने लाने के लिए बनेंगे मिनी स्टेडियम

एक अंतर्राष्ट्रीय मैच की मेजबानी में आने वाली परेशानियां

रणजी सीज़न में अच्छे परिणाम के बावजूद, इस ग्रैंड स्टेडियम को अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच आयोजित करने के लिए लंबे समय तक इंतजार करना पड़ा। कई मौकों पर, असम क्रिकेट एसोसिएशन ने मैदान पर एक अंतरराष्ट्रीय मैच की उम्मीद खो दी थी।

असम क्रिकेट एसोसिएशन पर स्टेडियम बनाने के लिए दिए गए धन का दुरुपयोग करने का आरोप था। बीसीसीआई ने क्रिकेट एसोसिएशन की भी जांच की|इसके बाद, 2015 में शशांक मनोहर के कार्यकाल के दौरान, राज्य क्रिकेट संघ के पास भारी पैसों की कमी थी।यहां तक कि बीसीसीआई भी लोढ़ा पैनल के साथ संघर्ष के कारण मदद नहीं कर सके थे।

लोढ़ा पैनल के आदेश के बाद, बीसीसीआई की ओर से पैसे देना बंद कर दिया गया और कुछ समय के लिए स्टेडियम का काम बंद हो गया। सबने उम्मीद खो दी थी तब राज्य संघ ने बैंकों से 6 करोड़ रुपये का ऋण लिया और स्टेडियम का काम पूरा कर लिया। पर अब भी, असम क्रिकेट एसोसिएशन ऋण का भुगतान नहीं कर पा रहा है।

ये भी पढ़ें- महिला विकेटकीपर के नाम पर हिमाचल स्टेडियम का पवेलियन

स्टेडियम में विशेष सुविधाएं

इस स्टेडियम में 37,500 लोगों की क्षमता है। इसके अलावा, मैच के दौरान बारिश से निपटने के लिए स्टेडियम में एक बहुत अच्छा जल निकासी व्यवस्था है। स्टेडियम में इनडोर अभ्यास पिचों के साथ-साथ स्विमिंग पूल और जिम जैसी सुविधाएं भी हैं| असम क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्यों का मानना है कि यह उनका ईडन गार्डन है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें

Share it
Top