पहल- ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को सामने लाने के लिए बनेंगे मिनी स्टेडियम 

पहल- ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को सामने लाने के लिए बनेंगे मिनी स्टेडियम फोटो: प्रतीकात्मक 

वैशाली अवस्थी/स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को अब आगे आने का मौका मिल सकेगा। शासन ने ग्रामीण क्षेत्रो में छुपी प्रतिभाओं को मौका देने का निर्णय लिया है। इसके लिए मिनी स्टेडियम बनाने की कवायद शुरू हुई है। खेल एवं युवा कल्याण विभाग ने जिले की छह ग्राम पंचायतों में मिनी स्टेडियम निर्माण के लिए प्रस्ताव शासन के माध्यम से केंद्र सरकार को भेजा है। स्टेडियम में हर खेल विधा के कोर्ट बनाए जाएंगे। सरकार से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद स्टेडियम निर्माण का काम शुरू कराया जाएगा।

मौजूदा समय में ग्रामीण क्षेत्र में भी खासी प्रतिभाएं मौजूद हैं, लेकिन स्टेडियम व संसाधनों के अभाव में उन्हें राष्ट्रीयस्तर पर पहचान बनाने में खासी दिक्कतें आ रही हैं। इन्हीं दिक्कतों को दूर करने के लिए खेल एवं युवा कल्याण विभाग ने पहल की है। विभाग ने जिले के छह ब्लाकों की ग्राम पंचायतों में मिनी स्टेडियम निर्माण के लिए ग्रामसमाज की जमीन चिन्हित करके प्रस्ताव तैयार किया। इसके बाद प्रस्ताव को मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को भेज दिया है। जिन ग्राम पंचायतों में मिनी स्टेडियम बनाने की कवायद है उनमें बीघापुर का कैलावं, सुमेरपुर का बिहार, सिकंदरपुर सरोसी का सरैंया, पुरवा का झूलामऊ, बिछिया का तौरा और औरास का मैनीभावाखेड़ा शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- राष्ट्रीय खेल प्रतिभा खोज पॉर्टल का शुभारंभ, मोदी ने कहा, देश में अद्भुत खेल प्रतिभा

छह नए मिनी स्टेडियम निर्माण के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। इसकी मंजूरी का इंतजार किया जा रहा है। मंजूरी मिलने के बाद जैसे ही धनराशि जारी होगी, वैसे ही स्टेडियम का निर्माण कार्य शुरू कराया जाएगा।
अनिल कुमार बाजपेई, जिला खेल एवं युवा कल्याण अधिकारी

स्टेडियम का निर्माण लगभग छह एकड़ में होगा। इसमें इंडोरगेम, बैडमिंटन हॉल, जिम, एथलेटिक्स ट्रैक, कबड्डी कोर्ट आदि का निर्माण कराया जाएगा, जिससे खेल प्रतिभा को यहां पर तराशने का काम हो सकेगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top