Top

रेलवे के आंकड़ों के अनुसार सुरक्षा उपाय अपनाने के बाद दुर्घटनाओं में आई कमी

रेलवे के आंकड़ों के अनुसार  सुरक्षा उपाय अपनाने के बाद दुर्घटनाओं में आई कमीकानपुर देहात के पुखरायां में 20 नवंबर को हुए हादसे की तस्वीर।

नई दिल्ली (भाषा)। रेल मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक आधुनिक तकनीक समेत सुरक्षा के कई उपाय अपनाये जाने के बाद रेल हादसों की संख्या में मामूली कमी दर्ज की गयी है। आंकड़ों के मुताबिक 2014-15 में 135 हादसे हुये और 2015-16 में घटकर 107 रह गये। 2016-17 में रेल हादसों का आंकडा घटकर 104 हो गया।

इस साल अप्रैल से जून के बीच वर्ष 2016 के मुकाबले रेल हादसों की संख्या 29 से घटकर 15 रही यानी इसमें करीब 48.3 फीसदी सुधार है। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ''सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुये दुर्घटना के रोकथाम के उपायों पर ध्यान केंद्रित किया गया है। दुर्घटनाओं को रोकने के लिये रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने 2016-17 के रेल बजट में दुर्घटनाओं को रोकने के लिये 'मिशन जीरो एक्सीडेंट' के नाम से विशेष अभियान शुरु किया था।''

ये भी पढ़ें : इंडियन रेलवे : पूछताछ का चक्कर छोड़िए, ट्रेन का पहला नंबर बताता है उसकी कैटेगरी

त्वरित पटरी नवीकरण, अल्ट्रासोनिक रेल पहचान प्रणाली और प्राथमिकता के आधार पर मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग को खत्म किए जाने जैसे सुरक्षा उपायों को रेल दुर्घटनाओं को रोकने के लिये अपनाया गया है। अधिकारी ने कहा कि वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान 1,503 मानवरहित समपार क्रॉसिंग को खत्म किया गया जबकि 484 मानवयुक्त समपार फाटकों को उपरिगामी सेतु या भूमिगत सेतु बनाकर खत्म किया गया जो अब तक एक रिकॉर्ड है।

ये भी पढ़ें : मैक्सिको से आया मक्का, चीन से आया चावल, जानें कहां से आया कौन सा खाना

उन्होंने कहा, क्योंकि मानवरहित रेलवे समपार फाटक सबसे ज्यादा ट्रेन हादसों की वजह बनते हैं, ऐसे में रेलवे की मंशा है कि 2020 तक ब्रॉडगेज खंड पर ऐसी सभी क्रॉसिंग को खत्म किया जाये।

ये भी पढ़ें : यूपी : प्रधानमंत्री फसल बीमा के सामने कर्ज़माफी में जुटे बैंकों का भी अड़ंगा, 2 दिन में कैसे पूरा होगा लक्ष्य ?

ये भी देखें - आदिवासियों का गाँव हुआ सोलर पैनल से रोशन

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.