एमपी के होशंगाबाद में गेहूं की पांच हजार एकड़ फसल जलकर खाक, तीन लोगों की मौत

आग का कहर इतना भयानक था की होशंगाबाद इटारसी बाबई सहित ऑर्डनेंस फैक्ट्री एसपीएम की दमकल आग पर काबू नहीं कर पाई

एमपी के होशंगाबाद में गेहूं की पांच हजार एकड़ फसल जलकर खाक, तीन लोगों की मौत

होशंगाबाद (मध्यप्रदेश)। होशंगाबाद जिले में शुक्रवार रात करीब साढे सात बजे खेतों में आग लगने से पांच हजार एकड़ गेहूं की फसल जलकर खाक हो गई। हवा चलने की वजह से आग तेजी से आस-पास के इलाके में फैल गई। हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई जबकि तीन दर्जन से अधिक लोग आग की चपेट में आने से झुलस गए। भोपाल सहित आसपास की 50 से अधिक दमकल की गाड़ियां भी आग बुझा नहीं पाईं। दो गंभीर रूप से झूलसे लोगों को भोपाल रेफर किया गया।

होशंगाबाद कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी आशीष सिंह पवार का कहना है, " शुक्रवार रात करीब 7:30 बजे तेज हवाओं के चलते गेहूं की नरवाई में लगाई गई आग देखते-देखते होशंगाबाद से सटे 30 गांवों के खेतों में फैल गई और इसने भयावह रूप ले लिया। आग की चपेट में आने से तीन व्यक्तियों दिलीप चोरे (28वर्ष), अमित चोरे (32 वर्ष) एवं श्याम चोरे की मौत हो गई। ये तीनों पांजराकलां के निवासी थे। दो शव कल देर रात ही मिल गये थे जबकि एक शव आज सुबह मिला।

ये भी पढ़ें: आग का मौसम: ये सावधानियां बरतें नहीं होगा जान माल का नुकसान


आग सबसे पहले नरवाई गांव से शुरू हुई थी, जो तेज हवाओं की वजह से फैलती चली गई। आग कैसे लगी, इसकी वजह सामने नहीं आ पाई है। देर रात तक कुलामढ़ी, रसूलिया, निमसाड़िया समेत अन्य गांवों के घरों तक आग पहुंच गई थी। इस दौरान 10 से 15 फीट ऊंची लपटें देखी गईं थी। करीब 45 गांवों में आग फैल गई। आग लगने से पांच हजार एकड़ गेहूं की खड़ी फसल जलकर राख हो गई।

" रात के करीब आठ बजे थे। हम लोग खाना खाकर दरवाजे पर बात कर रहे थे। तभी हमारे गाँव के पूरब की तरफ हल्की-हल्की रोशनी दिखाई देने लगी। जब तक हम लोग बात समझ पाते, मोबाइल पर कुलामढ़ी, रसूलिया, निमसाड़िया गाँव में आग लगने की सूचना मिली। हमारा गाँव जहां आग लगी है वहां से करीब 30 किलोमीटर दूर है। आप सोच सकते हैं आग कितनी भयानक रही होगी।" ये कहना है आग प्रभावित गांवों से तीस किलोमीटर दूर रहने वाले किसान सज्ज्न यादव का।

ये भी पढ़ें: सांप दिखने पर खेत में लगाई आग, मर गए पांच तेंदुए के बच्चे

तेज आंधी के कारण आग होशंगाबाद इटारसी और बाबई के खेतों में लगातार फैलती चली गई। आग का कहर इतना भयानक था की होशंगाबाद इटारसी बाबई सहित ऑर्डनेंस फैक्ट्री एसपीएम की दमकल आग पर काबू नहीं कर पाई। इसके बाद तो भोपाल, सीहोर और रायसेन से भी दमकल को बुलाया गया।वहीं आग के चलते पूरे अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल बना गया। आग की सूचना मिलने पर जिले के तमाम आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और हालात को काबू करने की कोशिश करते नजर आए।

ये भी पढ़ें:तेंदूपत्ती से लदे ट्रक में लगा भीषण आग, जलकर हुआ खाक



More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top