गौरी लंकेश मर्डर केस : पुलिस ने तीन संदिग्धों के जारी किए स्केच और वीडियो, लोगों से मांगी मदद

गौरी लंकेश मर्डर केस : पुलिस ने तीन संदिग्धों के जारी किए स्केच और वीडियो, लोगों से मांगी मददपुलिस ने जारी किया स्केच

बंगलुरु। वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या को एक महीने से ज्यादा का समय हो चुका है, लेकिन मामले की जांच कर रही पुलिस की एसआईटी के हाथ अभी तक कोई अहम सुराग नहीं लगा है। लिहाजा अब पुलिस ने मामले में तीन संदिग्धों के स्केच जारी कर लोगों से मदद की गुहार लगाई। पुलिस एसआईटी प्रमुख बीके सिंह ने स्केच जारी करते हुए कहा कि जानकारी के आधार पर हमने ये स्केच जारी किए हैं। हम लोगों से सहयोग चाहते हैं और इसीलिए संदिग्धों के इन स्केच को जारी कर रहे हैं।

बीके सिंह ने कहा कि हमारे पास मामले का वीडियो भी है, जिसको भी जारी कर रहे हैं। दरअसल, पिछले महीने के पहले सप्ताह में गौरी लंकेश की अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमलावरों ने राज राजेश्वरी इलाके में स्थित घर में लंकेश की हत्या की थी। पुलिस को गौरी लंकेश का शव खून से सना हुआ मिला। साथ ही घटनास्थल से कारतूस के चार खोके मिले। हालांकि मामले में अभी तक अपराधी का पता नहीं चल पाया है।

गौरी लंकेश के दक्षिणपंथी संगठनों से थे वैचारिक मतभेद

गौरी लंकेश साप्ताहिक मैग्जीन 'लंकेश पत्रिके' की संपादक थीं। इसके साथ ही वो अखबारों में कॉलम भी लिखती थीं। टीवी न्यूज चैनल डिबेट्स में भी वो एक्टिविस्ट के तौर पर शामिल होती थीं। लंकेश के दक्षिणपंथी संगठनों से वैचारिक मतभेद थे। इस मशहूर हत्याकांड की जांच एसआईटी कर रही है।

ये भी पढ़ें:- ‘गौरी लंकेश मेरी बहन जैसी थीं, संघ के खिलाफ न लिखतीं तो ज़िंदा होतीं’

पुलिस के हाथ लगे सीसीटीवी फुटेज

इससे पहले पुलिस के हाथ सीसीटीवी फुटेज लगे थे, जिसमें बाइक सवार हमलावर हेलमेट पहने नजर आए थे। पुलिस के मुताबिक हमलावर पूरी बांह की शर्ट और पैंट पहने हुए थे। अब तक पुलिस 600 से ज्यादा डिजिटल वीडियो रिकॉर्डिंग का विश्लेषण कर चुकी है। इसके साथ ही कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से भी पूछताछ की गई थी।

संबंधित खबर : पत्रकार गौरी लंकेश का लिखा आख़िरी संपादकीय

हमलावरों ने की थी घर की रेकी

पुलिस जांच में यह बात भी सामने आई थी कि वारदात को अंजाम देने से पहले हमलावरों ने गौरी के घर की रेकी थी। बाइक से गौरी के घर के तीन चक्कर लगाए थे। मुख्य आरोपी की उम्र करीब 35 साल बताई जा रही है। उसने 7.65 एमएम पिस्टल से इस वारदात को अंजाम दिया था। इसी तरह के पिस्तौल से एमएम कलबुर्गी को भी गोली मारी गई थी।

यह भी पढ़ें : गौरी लंकेश ही नहीं, आवाज बुलंद करने वाले इन 12 पत्रकारों ने भी गंवाई जान

यह भी पढ़ें : गौरी लंकेश की हत्या पर सोशल मीडिया पर बोले लोग - गोलियां जान लेती हैं बहादुरी नहीं रोकतीं

Share it
Share it
Share it
Top