स्‍कूल में 11 साल की छात्रा को मिली शर्मनाक सजा, टीचर ने लड़कों के टॉयलेट में किया खड़ा

स्‍कूल में 11 साल की छात्रा को मिली शर्मनाक सजा, टीचर ने लड़कों के टॉयलेट में किया खड़ाछात्रा

हैदराबाद। अभी गुरुग्राम के रेयान स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या के मामले माहौल गर्म है वहीं हैदराबाद के स्कूल में एक छात्रा के साथ सजा के नाम पर शर्मनाक हरकत हुई है। इस छात्रा को सही यूनिफॉर्म नहीं पहनने के नाम पर सजा के रूप में लड़कों के टॉयलेट में खड़ा कर दिया गया।

मामला सामने आने के बाद इसे लेकर विरोध हो रहा है। जानकारी के अनुसार छात्रा ने घटना को लेकर दिए बयान में कहा है कि जब में अपनी क्लास में जा रही ती तो पीटी टीचर ने मुझे रोका और मेरी यूनिफॉर्म के बारे में पूछा। मैंने बताया कि मेरी मां ने उसे धोया था जिसके चलते मैं उसे पहन कर नहीं आ सकी।

छात्रा बोली कि मैंने टीचर को यह भी बताया कि मेरे माता-पिता ने इस बात को लेकर एक नोट मेरी स्कूल डायरी में भी लिखा है लेकिन टीचर नहीं मानी और मुझ पर गुस्सा करने लगी। इसके बाद वो मुझे खींचकर ले गई और लड़कों के टॉयलेट में खड़ा कर दिया। मुझे वहां देख सभी मेरा मजाक उड़ाने लगे खासतौर पर लड़के।

ये भी पढ़ें:- गुरुग्राम: सुप्रीम कोर्ट जाएंगे प्रद्युम्न के पिता, जिला प्रशासन की जांच में स्कूल की सुरक्षा में कई खामियां

कुछ समय बाद टीचर ने मुझे हिदायत देते हुए क्लास में बैठने की दिया कि आगे से ऐसा ना हो। अब मैंने तय कर लिया है कि मैं स्कूल नहीं जाऊंगी। घटना सामने आने के बाद कुछ चाइल्ट राइट ग्रुप्स ने इसके खिलाफ विरोध दर्ज करवाया है।

ये भी पढ़ें-भीमानंद - 600 कालगर्ल थीं इस ‘इच्छाधारी’ के सेक्स रैकेट में !

चार दिन में चार बड़े मामले

पिछले चार दिनों में देश के अलग-अलग स्कूलों में छात्रों को लेकर लापरवाही के चार बड़े मामले सामने आ चुके हैं। आठ सितंबर को गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के बच्चे की गला रेतकर हत्या कर दी गई। बच्चे के माता-पिता ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है। वहीं गाजियाबाद के सिल्वर शाइन नाम के एक प्राइवेट स्कूल की स्कूल बस की चपेट में आकर एक छह साल की बच्ची की मौत हो गई। इसके बाद दिल्ली के गांधीनगर स्थित टैगोर पब्लिक स्कूल में चपरासी द्वारा नर्सरी की छात्रा से रेप का मामला सामने आया है।

ये भी पढ़ें-ख़बर जो सवाल खड़े करती है : भारत में दूध उत्पादन तो खूब हो रहा है लेकिन पीने को नहीं मिल रहा है

ये भी पढ़ें-ढोंगियों की ध्वजा ढोने की ये कैसी मजबूरी!

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top