रेल यात्रा के दौरान लगेज बुक न कराना पड़ सकता है भारी, कहीं भुगतना न पड़े ख़ामियाज़ा

Mohit AsthanaMohit Asthana   22 Sep 2017 1:51 PM GMT

रेल यात्रा के दौरान लगेज बुक न कराना पड़ सकता है भारी, कहीं भुगतना न पड़े ख़ामियाज़ाप्रतीकात्मक तस्वीर।

नई दिल्ली। नेशनल कंज्यूमर डिस्प्यूट्स रिड्रेसल कमीशन यानी एनसीडीआरसी ने कहा है कि अगर किसी पैसेंजर का बिना बुक किया गया कोई सामान ट्रेन से चोरी हो जाता है तो रेलवे उसके लिए जिम्मेदार नहीं होगी। इसके लिए उसे दोषी नहीं ठहराया जा सकता। एनसीडीआरसी ने लोअर कंज्यूमर फोरम के उस ऑर्डर को खारिज कर दिया जिसमें उसने एक महिला के खोए हुए सामान के लिए रेलवे को जिम्मेदार ठहराते हुए कम्पनसेशन देने को कहा था।

ये भी पढ़ें- जीआरपी या आरपीएफ को नहीं है रेल यात्रियों के टिकट चेक करने का अधिकार

क्या है मामला...

शिकायत के मुताबिक- 5 सितंबर 2011 को ममता अग्रवाल शालीमार एक्सप्रेस में सफर कर रहीं थीं। उनके पास एक सूटकेस था। इसमें तीन गोल्ड चेन, दो डायमंड रिंग्स और एक सिम्पल रिंग के अलावा 15 हजार रुपए कैश थे।

महिला ने इसकी शिकायत डिस्ट्रिक्ट फोरम में की। फोरम ने रेलवे से इस महिला को 1.30 लाख का कम्पनसेशन देने को कहा था। छत्तीसगढ़ स्टेट कमीशन ने भी इस ऑर्डर पर मुहर लगा दी। लेकिन एनसीडीआरसी ने इसे खारिज कर दिया।

रेलवे ने कहा

रेलवे एक्ट के सेक्शन 100 (1989) के मुताबिक, हम किसी भी पैसेंजर के लगेज के खोने, टूटने या नॉन डिलिवरी के लिए तब तक दोषी नहीं हैं जब तक उस लगेज को हमारे किसी इम्प्लॉई ने बुक ना किया हो। पैसेंजर के पास बुकिंग की रिसीप्ट होना भी जरूरी है।

मामले की सुनवाई के दौरान एनसीडीआरसी ने साफ कहा- इस मामले में हम रेलवे की तरफ से कोई गलती या लापरवाही नहीं देखते। पिछले दोनों फोरम ने जो ऑर्डर दिया है वो कानून और नियमों के मुताबिक नहीं है। लिहाजा, इन्हें रद्द किया जाता है। कमीशन ने रेलवे के किसी कर्मचारी की भी इस केस में कोई गलती नहीं पाई।

रेलवे की ओर से नहीं की गई कोई बुकिंग

कमीशन ने कहा- रेलवे ने कोई बुकिंग नहीं की थी। इसलिए, इस मामले में रेलवे एक्ट का सेक्शन 100 लागू होता है। पैसेंजर, को कम्पनसेशन नहीं दिया जाएगा।

ममता का आरोप है कि ट्रेन जब राऊरकेला में थी तब किसी ने उनका सूटकेस चुरा लिया। ममता ने इसके लिए रेलवे पर केस किया था। अब NCDRC ने इस पर आखिरी फैसला सुना दिया है।

ये भी पढ़ें- आश्चर्य ! आज भी भारत का ये रेलवे ट्रैक ब्रिटेन के कब्जे में है, हर साल देनी पड़ती है रॉयल्टी

ये है रेलवे सेक्शन 100

रेलवे में अगर कोई पैसेंजर अपना लगेज बुक कराता है और सफर के दौरान लगेज खो जाता है या टूट जाता है तो उसकी भरपाई रेलवे करेगा। यात्री जब रेलवे कर्मचारी द्वारा सामान बुक कराता है तो कर्मचारी द्वारा दी गई रसीद यात्री के पास होनी चाहिए।

दो तरीके से होता है सामान बुक

पूर्वोत्तर रेलवे के टी.टी शोभित शुक्ला ने गाँव कनेक्शन से बातचीत में बाताया कि अगर यात्री का सामान यात्रा के दौरान चोरी हो जाता है या टूट जाता है तो रेलवे एक ही सूरत में क्लेम दे सकता है। यात्री अपना सामान पार्सल के माध्यम से बुक कराए या फिर क्लॉक रूम से बुक कराए। उन्होंने बताया कि कीमती सामानों को भी बुक करा के ले जाते हैं तो रेलवे क्लेम देगा।

यात्रा के दौरान अगर आप लगेज ले कर यात्रा कर रहे है तो उसमें से कीमती सामान जैसे आभूषण, मोबाइल जैसी कीमती चीजों की भी बुकिंग की जाती है। अगर यात्रा के दौरान बुक किया हुआ सामान चोरी हो जाता है या टूट जाता है तो रेलवे उसका क्लेम देगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top