शिवराज के राज में किसान बन सरकारी खर्च पर नीदरलैंड घूम आए मंत्री के बेटे-भतीजे

शिवराज के राज में किसान बन सरकारी खर्च पर नीदरलैंड घूम आए मंत्री के बेटे-भतीजेविदेश यात्रा के दौरान नीदरलैंड में मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा के पुत्र देवेश और भतीजा कृष्णा द्वारा ली गई सेल्फी

भोपाल। उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा ने अपने मंत्री पद का दुरुपयोग कर बेटे, भतीजे और करीबियों को किसानों की टीम में शामिल कर विदेश की सैर करवा दी। यह खुलासा आरटीआई से मिली जानकारी में हुआ है। बताया जाता है कि मंत्री पुत्र और भतीजे की विदेश यात्रा पर सरकारी खजाने से ढाई-ढाई लाख रुपए खर्च किए गए।

सरकार की एक योजना के तहत पिछले साल प्रगतिशील किसानों को फसल की विदेशी तकनीक की जानकारी दिलाने के लिए विदेश भेजा गया था। यह यात्रा 2 नवम्बर से 7 नवम्बर तक की रही। यात्रा में किसानों के साथ मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा के पुत्र देवेश और भतीजा कृष्णा भी गए थे।

ये भी पढ़ें:- मैक्सिको से आया मक्का, चीन से आया चावल, जानें कहां से आया कौन सा खाना

फूलों की खेती की तकनीक सीखने के लिए थी यात्रा

यह विदेश यात्रा फूलों की खेती की उन्नत तकनीक सीखने के लिए की गई थी। विभाग ने जिन लोगों का चयन किया गया, उनको दस्तावेजों में किसान दिखाया गया। हालांकि देवेश के रिकॉर्ड में तो खेती का कॉलम खाली है, जबकि कृष्णा को गेहूं और सोयाबीन का किसान बताया गया। इस हिसाब से मंत्री पुत्र और भतीजा सरकारी योजना के पात्र नहीं थे।

मंत्री बोले

मध्य प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा बताते हैं, "विदेश यात्रा के लिए जब पंजीयन हुआ था तब मैं मंत्री नहीं था। यह संयोग है कि जब ये विदेश गए तो मैं मंत्री बना और मुझे उद्यानिकी विभाग मिल गया। इसमें पद के दुरुपयोग की बात कहीं नहीं है। फिर भी मुख्यमंत्री जो निर्देश देंगे मुझे मान्य होगा।"

ये भी पढ़ें:- कृषि वैज्ञानिक ने बताए धान की फसल में लगने वाले रोग-कीट व उसके उपचार

यात्रा करने वाले ये किसान थे शामिल

सरकार की एक योजना के तहत पिछले साल प्रगतिशील किसानों को भेजा गया था। यात्रा में किसानों के साथ मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा के पुत्र देवेश और भतीजा कृष्णा भी गए थे। इनके अलावा दल में विदिशा से ही मंत्री के दो और करीबी रंधीर सिंह और महेंद्र सिंह भी थे। इस सूची में अफसरों के अलावा विदिशा, बैतूल, होशंगाबाद, देवास, उज्जैन, खरगोन, इंदौर, जबलपुर, रतलाम, धार, रायसेन के किसान शामिल थे।

वीडियो: बीजेपी कार्यकर्ता का चालान काटना दरोगा को पड़ा भारी, पैर छुए, हाथ जोड़े, मांगी माफी

किसानों का आधार नंबर फसल ऋण मोचन योजना से जोड़ रही है यूपी सरकार

यूपी : प्रधानमंत्री फसल बीमा के सामने कर्ज़माफी में जुटे बैंकों का भी अड़ंगा, 2 दिन में कैसे पूरा होगा लक्ष्य ?

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top