महाराष्ट्र के एक हज़ार से ज्यादा मराठी स्कूल होंगे बंद

महाराष्ट्र के एक हज़ार से ज्यादा मराठी स्कूल होंगे बंदप्रतीकात्मक फोटो।

मुंबई। महाराष्ट्र में 1,314 मराठी स्कूल बंद करने का निर्णय राज्य सरकार द्वारा लिया गया है। राज्य में दिन पर दिन इंग्लिश स्कूलों में बच्चों की संख्या में इजाफा हो रहा है और वहीं दूसरी ओर मराठी मीडियम स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या कम हो रही है।

कोंकण विभाग के स्कूलों से विद्यार्थियों की संख्या काफी कम हुई है, कोंकण विभाग के सबसे ज्यादा 500 स्कूल बंद किए जाएगें। जिन स्कूलों में बच्चों की संख्या सिर्फ 10 है, ऐसे स्कूलों को बंद किया जाएगा। राज्य सरकार के इस निर्णय में 10 हजार विद्यार्थियों को और 2500 शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में स्थांनातरित किया जाएगा।

ये भी पढ़ें - इस प्राथमिक स्कूल में कक्षा दो का बच्चा सुनाता है 30 का पहाड़ा, हेडमास्टर अपनी जेब से खर्च कर दे रहे सुविधा

कुछ दिनों पहले राज्यभर के प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों का सर्वेक्षण किया गया था। इस सर्वेक्षण में राज्य के 5002 स्कूलों में बच्चों की संख्या काफी कम हुई है। 5002 स्कूलों में से 4,353 स्कूल जिला परिषद और 69 स्कूल निजी अनुदानित हैं। इन सभी स्कूलों के विद्यार्थियों और शिक्षकों को पास के स्कूलों में समावेश किया जाएगा। साथ ही जिन स्कूलों में बच्चों की संख्या 0 से 10 तक है, ऐसे 4,422 स्कूलों का फिर से सर्वेक्षण किया जाएगा। जिसमें से 1,314 स्कूलों को स्थांनातरित किया जाएगा। यह जानकारी राज्य के शिक्षणमंत्री विनोद तावडे ने पत्रकार परिषद में दी है।

ये भी पढ़ें - सरकार का सख्त रवैया देख प्राथमिक स्कूल पहुँचने लगे हैं आंदोलनकारी शिक्षामित्र

राज्य के 909 स्कूलों को स्थांनातरित नहीं किया जाएगा और यह स्कूल शुरू ही रहेंगे। जिसमें गडचिरोली के 137, चंद्रपुर में 16, सिंधुदुर्ग में 35, ठाणे में 44, रत्नागिरी में 125, रायगड़ में 107 और सातारा में 107 स्कूलों का समावेश है। ऐसा तावड़े ने स्पष्ट किया। जिन स्कूलों की गुणवत्ता धीरे-धीरे घटी है, उन स्कूलों को बंद करने के लिए राज्य के सभी कलेक्टरों को पत्र भेजा गया है। जिन स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 10 गुना से कम हुई है, उन स्कूलों को बंद करके, नजदीक के स्कूलों स्थानांतरित किया गया है।

ये भी पढ़ें - निजी स्कूलों को मात देता प्राथमिक स्कूल

Share it
Top