छत्तीसगढ़ : इस गाँव के लोगों ने भिखारी के लिए बनाया पक्का मकान

छत्तीसगढ़ : इस गाँव के लोगों ने भिखारी के लिए बनाया पक्का मकानभिखारी के लिए घर बनाते गांव के लोग

कोंडागांव (छत्तीसगढ़) (आईएएनएस/वीएनएस)। छत्तीसगढ़ के कोंडागांव से 17 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत बड़ेकनेरा में भीख मांगकर जीवन यापन करने वाले हीरानाथ सागर ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि कभी वह एक पक्के मकान का मालिक बनेगा।

वर्षों से पॉलिथीन लगी हुई जर्जर झोपड़ी में रहकर ठंड, गर्मी, बरसात को झेलना उसकी नियति बन चुकी थी। इसे देखकर ही गांव के ही कुछ जागरुक युवा पंचों ने पंचायत के तहत प्रधानमंत्री आवास योजना सूची में उसका नाम दर्ज करवाकर उसके लिए पक्का मकान बनाने का जिम्मा उठाया, क्योंकि निराश्रित हीरानाथ सागर स्वयं सक्षम नहीं था कि वह नाम दर्ज कराने के बाद भी मकान निर्माण कराने की पहल कर सके।

यह भी पढ़ें : गाँव की लड़कियों को एक चाय वाला बना रहा खिलाड़ी

इसके साथ ही पंचायत के तकनीकी सहायक वीरेंद्र साहू ने मकान का ले-आउट तैयार करके घर निर्माण का कार्य शुरू कर दिया। इस कार्य में युवा पंच प्रकाश चुरगिया ने स्वयं के चार पहिया वाहन से मकान निर्माण सामग्री का वहन किया। इस एकजुटता का परिणाम यह हुआ कि, लगभग दो महीने में एक छोटा पक्के छत वाला मकान तैयार हो गया।

ग्राम की महिला शक्ति स्थानीय स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने भी अपना योगदान देते हुए मकान के रंग-रोगन का कार्य किया और इस कार्य में जनपद पंचायत सीईओ दिगेश पटेल, करारोपण अधिकारी प्रमोद कुमार साव, सचिव महेश्वर कोर्राम, उप सरपंच आनंद पवार का भी योगदान रहा। वर्तमान में हीरानाथ सागर अपने नव निर्मित मकान में निवास कर रहा है और शासन की योजना की तारीफ करते हुए नहीं थकता।

यह भी पढ़ें : इन 6 भिखारियों की आप बीती सुनकर आप की सोच बदल जाएगी

बड़ेकनेरा के ग्रामीणों ने दिखाया कि आपसी सहभागिता और संवेदनशीलता से समाज के अंतिम छोर के व्यक्तियों को योजनाओं से किस प्रकार लाभान्वित किया जा सकता है और वास्तव में वे साधुवाद के हकदार भी हैं, जिन्होंने एक निराश्रित बेघर व्यक्ति की व्यथा को गहराई तक महसूस कर उसे छत मुहैया कराया।

संबंधित ख़बर- भिखारियों की जिंदगी में कभी झांककर देखा है ?

Share it
Share it
Share it
Top