आधे देश में मानसून की दस्‍तक, 48 घंटे में मुंंबई-गुजरात में हो सकती है बारिश

आधे देश में मानसून की दस्‍तक, 48 घंटे में मुंंबई-गुजरात में हो सकती है बारिश

लखनऊ। 8 से 10 दिन की देरी से चल रहा मानसून देश के लगभग आधे हिस्से तक पहुंच गया है। अगले 48 घंटे में पूर्वी और उत्तरी राज्यों में झमाझम बरसात का पूर्वानुमान लगाया गया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मानसून 29 जून तक दस्तक देगा, जबकि 30 जून तक देश के लगभग सभी प्रमुख राज्य मानसून की बारिश से पहुंच जाएंगी।

वहीं भारत मौसम वि‍ज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को मुम्बई में दक्षिण-पश्चिम मानसून के पहुंचने की घोषणा की, जहां अत्यधिक आर्द्रता के साथ बारिश होने में देरी से पानी की कि‍ल्लत की आशंका बढ़ गई है। साथ ही आईएमडी ने गुजरात में भी दक्षिण-पश्चिम मानसून के पहुंचने की घोषणा कर दी है, जहां राज्य के दक्षिणी क्षेत्रों में बौछारें पड़नी शुरू हो गई हैं।

मुम्बई में मानसून आमतौर पर हर साल 10 जून को पहुंच जाता है, लेकिन इस साल दो सप्ताह गुजर जाने पर भी उसकी कोई खबर नहीं है। पिछले 10 साल में यह पहला मौका है जब मानसून इतनी देरी से आ रहा है। भारत मौसम वि‍ज्ञान विभाग (आईएमसी) मुम्बई के उप महानिदेशक एस होसलीकर ने ट्वीट किया कि आईएमडी की तरफ से आज पूरे महाराष्ट्र को कवर करते हुए मुम्बई में मानसून के शुरू होने की घोषणा।

दंतेवाड़ा: नंदराज पहाड़ी मामले में आदिवासियों ने पूछा- सचिव को क्यों गांव आने से जा रहा है रोका?

वहीं नागरिक निकाय के एक अधिकारी ने बताया कि यदि मानसून मंगलवार को तय तिथि पर मुम्बई नहीं पहुंचता तो लोगों को एक बार फिर पानी की कटौती का सामना करना पड़ सकता है। दूसरी ओर, अहमदाबाद में आईएमडी निदेशक जयंत सरकार के अनुसार मानसून दक्षिण सौराष्ट्र पहुंच गया है और देश के बाकी हिस्‍सों में भी जल्द पहुंच जाएगा।

सरकार ने कहा, मानसून आज गुजरात पहुंच गया। नर्दन लिमिट ऑफ मानसूनह्ण (एनएलएम) उत्तरी सीमा अरब सागर से गुजर रहा है। मानसून दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र क्षेत्र के दक्षिणी हिस्‍सों में पहुंच गया है। मानसून जल्द ही गुजरात के बाकी हिस्‍सों में भी पहुंच जाएगा।

खुदकुशी कर चुके किसानों के घर से होकर गुजरनी चाहिए रथ यात्रा : शिवसेना

मध्‍यप्रदेश पहुंचेगा मानसून...

मानसून ने मध्य प्रदेश के पूर्वी और दक्षिणी भागों में सोमवार को दस्तक दे दी। आगामी 48 घंटों में इसके राज्य के अन्य भागों में पहुंचने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने सोमवार को कहा, 'मानसून मध्य प्रदेश के पूर्वी और दक्षिणी भागों में प्रवेश कर चुका है। इससे मध्य प्रदेश के बालाघाट, मंडला, छिंदवाड़ा और खंडवा जिलों में सोमवार को बारिश हुई।

झारखंड में कम बारिश से सूखे का खतरा बढ़ा...

झारखंड में इस साल जून में सामान्य से 55 फीसदी कम बारिश हुई है। राज्य में मानसून के अचानक कमजोर होने से अभी ज्यादा बारिश के आसार भी नहीं हैं। ऐसे में राज्य में सूखे के खतरे की आशंका बढ़ गई है। जानकारी के अनुसार से देर से मानसून आने के कारण पूरे राज्य में एक जून से अब तक केवल 62.7 मिमी बारिश हुई है जबकि राज्य में 30 जून तक 197.5 मिलीमीटर बारिश सामान्य रूप से होती है।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top