जीवन बहुत छोटा है, कम से कम एक बार तो यहां घूम ही आइए

जीवन बहुत छोटा है, कम से कम एक बार तो यहां घूम ही आइएआज दुनिया भर में विश्व पर्यटन दिवस मनाया जा रहा है। 

लखनऊ। देश-दुनिया में ऐसी तमाम जगहें हैं जहां हर वर्ष लाखों लोग घूमने जाते हैं। घूमने का शौख रखने वाले लोग अच्छी जगहों की तलाश में रहते हैं। ऐसे में हम आज आपके दुनिया की कुछ ऐसे चुनिंदा पयर्टन स्थलों के बारे में बताएंगे जहां हमें अपने जीवनकाल में कम से कम बार तो जरूर ही घूमना चाहिए। छुट्टियों के समय यहां घूमने का प्लान किया जा सकता है।

अंगकोर वाट मंदिर, कंबोडिया

विश्व का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर परिसर तथा विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक कंबोडिया में स्थित है। यह कंबोडिया के अंकोर में है जिसका पुराना नाम 'यशोधरपुर' था। इसका निर्माण सम्राट सूर्यवर्मन द्वितीय (1112-53ई.) के शासनकाल में हुआ था। यह विष्णु मन्दिर है जबकि इसके पूर्ववर्ती शासकों ने प्रायः शिवमंदिरों का निर्माण किया था। कंबोडिया में बड़ी संख्या में हिन्दू और बौद्ध मंदिर हैं, जो इस बात की गवाही देते हैं कि कभी यहां भी हिन्दू धर्म अपने चरम पर था।

ये भी पढ़ें- विश्व पर्यटन दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, युवा भारत घूमें और देश की विविधता को स्वयं देखें

पौराणिक काल का कंबोजदेश कल का कंपूचिया और आज का कंबोडिया। पहले हिंदू रहा और फिर बौद्ध हो गया। सदियों के काल खंड में 27 राजाओं ने राज किया। कोई हिंदू रहा, कोई बौद्ध। यही वजह है कि पूरे देश में दोनों धर्मों के देवी-देवताओं की मूर्तियाँ बिखरी पड़ी हैं। भगवान बुद्ध तो हर जगह हैं ही, लेकिन शायद ही कोई ऐसी खास जगह हो, जहाँ ब्रह्मा, विष्णु, महेश में से कोई न हो और फिर अंगकोर वाट की बात ही निराली है। ये दुनिया का सबसे बड़ा विष्णु मंदिर है।

एंटेलोप कैनियन, एरिजोना

इस प्राकृतिक नैसर्गिक आश्चर्य के दो अलग-अलग भाग हैं। ऊपरी एंटेलोप घाटी और एंटिलोप घाटी जो एकदम पेंचकस की तरह है। जब आप इन तस्वीरों को देखेंगे तो आपको लगेगा कि जैसे फोटोग्राफर ने बड़ी चतुराई से फोटो खींची हो, लेकिन ये दृश्य सच में हैं, जो आपको आश्चर्यचकित कर देंगे।

ईस्टर ईस्टलैंड, रैपा न्यू, चिली

ईस्टर आइलैंड चिली देश का एक ऐसा द्वीप है, जहां लगभग 600 मूर्तियों का बड़ा कलेक्शन रखा है। इन्हें माआई नाम से पुकारा जाता है। कहा जाता है कि हथौड़े से ठोके जाने के बावजूद इनमें छोटी-मोटी खरोंच के अलावा कोई नुकसान नहीं पहुंचता। यहां कई रहस्यमयी मूर्तियां लगभग 100 टन वजनी और 30-40 फीट लंबी हैं। इन मूर्तियों को यहां के रापा नुई कहे जाने वाले लोगों ने बनाया था। वे पूर्वजों की याद व सम्मान में इन्हें बनाते थे। ये मूर्तियां वहां प्रतिष्ठा का कारण बनती जा रही थीं। इन्हें बनाने के चक्कर में पेड़ कट रहे थे, इस कारण एक समय ऐसा आया कि वहां खाना व रहना लोगों के लिए परेशानी बन गया। इस वजह से ही लोग मूर्तियों का काम अधूरा छोड़कर चले गए।

ये भी पढ़ें- यूपी के ग्रामीण पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा, गांवों में बढ़ेंगे रोजगार

ग्रैंड कैनोन, एरिजोना

200 मील की दूरी पर फैले विशाल चट्टान, दुनिया के अद्भुत चमत्कारों में से एक है। इस घाटी का नदार दृश्य देखते बनता है। ये आपको मंत्रमुग्ध कर देगा।

ग्रेट बैरियर रीफ, क्वींसलैंड, आस्ट्रेलिया

ग्रेट बैरियर रीफ, क्वींसलैंड (आस्ट्रेलिया) के उत्तरी-पूर्वी तट के समांतर बनी हुई, विश्व की यह सबसे बड़ी मूँगे की दीवार है। इस दीवार की लंबाई लगभग 1,200 मील तथा चौड़ाई 10 मील से 90 मील तक है। ये दुनिया में प्रवाल भित्तियों का सबसे बड़ा संग्रह है। ग्रेट बैरियर रीफ को इतना बड़ा माना जाता है कि इसे अंतरिक्ष से देखा जा सकता है। अगर आप बीच घूमने के शौकीन हैं तो यहां घूम सकते हैं।

ये भी पढ़ें-मोदी की चाय की दुकान बनेगी पर्यटन केन्द्र, सरकार ने दी मंज़ूरी

ग्रेट ब्लू होल, बेलिज़, सेंट्रल अमेरिका

द ग्रेट ब्लू होल नामक एक पनडुब्बी सिंकहोले को देखने के लिए सिर्फ एक शानदार जगह है। इस क्षेत्र में पानी 407 फीट गहरा और 980 फुट चौड़ा है।

चीन की महान दीवार

चीन की यह दीवार संसार की सबसे लम्बी मानव निर्मित रचना है। इसकी विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इसको अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है। कहते हैं कि मानव निर्मित यह एक ही ऐसी कृति है जो चाँद से देखी जा सकती है। यह दीवार 6400 किलोमीटर (4000 मील / 10000 ली, चीनी लंबाई मापन इकाई) के क्षेत्र में फैली है। घूमने के लिए ये शानदार जगह है। यहां जीवन में एक बार जरूर घूमना चाहिए।

माचू पिच्चू, पेरू

माचू पिच्चू दक्षिण अमेरिकी देश पेरू मे स्थित एक कोलम्बस-पूर्व युग, इंका सभ्यता से संबंधित ऐतिहासिक स्थल है। यह समुद्र तल से 2,430 मीटर की ऊँचाई पर उरुबाम्बा घाटी, जिसमे से उरुबाम्बा नदी बहती है, के ऊपर एक पहाड़ पर स्थित है। यह कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है। इसे अक्सर "इंकाओं का खोया शहर " भी कहा जाता है। माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे परिचित प्रतीकों में से एक है। 7 जुलाई 2007 को घोषित विश्व के सात नए आश्चर्यों में माचू पिच्चू भी एक है। सुंदर दृश्यों के साथ अपनी सुंदर सुंदरता को जोड़ने के लिए, आपको इसके लिए अपनी बैग पैक करना चाहिए।

ये भी पढ़ें- मोहब्बत की बेमिसाल धरोहर ताजमहल हो रहा है बदरंग

प्लाईटविस लेक्स नेशनल पार्क, क्रोएशिया

खूबसूरत झरनों, हरे-भरे साग और सुखदायक नीले पानी की धाराओं के साथ प्लाईटविस लेक्स नेशनल पार्क ताजा हवा में सांस लेना और प्रकृति का प्यार बहुत नजदीक से महसूस कराता है।

रीड फ्लूट गुफा, चीन

इतने सारे रंगों का इतना सुंदर मेल शायद ही कहीं देखने को मिले। इंद्रधनुष जैसा प्यारा है यहां की इन गुफाओं का नजारा। इन गुफाओं की खूबसूरती 180 साल पुरानी है जो कि चीन की खूबसूरत रीड फ्लूट गुफाओं की हैं। इन गु्फाओं के प्रवेश द्वार के पास एक खास किस्म की रीड पाई जाने के कारण इनका नाम रीड फ्लूट पड़ा। रीड का मतलब होता है बांसुरी।

चीनी के लोगों ने इसमें तरह तरह के रंगों की लाइट लगा कर इसकी खूबसूरती में चार चांद लगा दिए हैं। ये गुफाएं जमीन से 790 फीट अंदर हैं और पर्यटकों के घूमने के लिए चीन की सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

स्टोनहेंज एवेबुरी, इंग्लैंड

लंदन से कुछ मील की दूरी पर विलटशायर काउंटी शहर है। ये इलाका सदियों पहले बने अपने अदभुत निर्माणों के लिए जाना जाता है। ये निर्माण स्टोनहेंज के नाम से जाने जानते हैं। सिर्फ आम लोग ही नहीं दुनिया के खास लोग भी इस जगह को देखने आते हैं।

हांलाकि पुरातत्व वैज्ञानिक अभी तक यहां के रहस्य की खोज कर रहे हैं कि आखिर ये कैसे बने और इन्हें किसने किस मकसद से बनाया लेकिन अब उनके सामने एक और चुनौती खड़ी हो गई है। स्टोनहेंज से ही कुछ और दूरी पर पुरातत्व वैज्ञानिकों को ठीक इसी तरह का एक और लेकिन इससे भी कहीं बड़ा निर्माण मिला है जिसे नाम दिया गया है सुपरहेंज।

स्टोनहेंज की बाहरी परिधि के भीतर 85 नीले पत्थरों के बना एक सर्कल है जिसका निर्माण काल ईसा से 2000 वर्ष पूर्व का माना जाता है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि इसे बनाने में इस्तेमाल किए गए पत्थर पैम्पशायर एवन स्थान से लाए गए होंगे क्योंकि आस पास के इलाके में इस तरह के पत्थर नहीं पाए जाते हैं। निर्माण के तीसरे चरण में स्टोनहेंज में 75 विशालकाय बलुआ पत्थरों को लगाया गया होगा। वैज्ञानिक मानते हैं कि ये पत्थर एवेबुरी से 20 मील दूर के इलाके से लाए गए थे और उन्हें तराशने के बाद लगाया गया होगा। सूर्य अस्त के समय यहां का नजारा देखने लायक होता है।

तियांजी माउंटेन, चीन

मार्बल के पत्थरों वाली तियांजी माउंटेन चीन के यून्नान प्रांत के झंगजियाजी क्षेत्र में स्थित है। स माउंटेन के इर्द-गिर्द बादलों का जमघट लगा रहता है। माउंटेन के आस-पास मौजूद जंगल और हरी-भरी झाड़ियां इसके सौंदर्य को और बढ़ा देते हैं। कहा जाता है कि काफी पहले चीन के एक सफल किसान रहे जियांग डाकुन ने इस चोटी का नाम तियांजी रखा था, जिसका अर्थ स्वर्ग का बच्चा या स्वर्ग का टुकड़ा होता है।

ताज महल

यमुना नदी के किनारे सफेद पत्थरों से निर्मित अलौकिक सुंदरता की तस्वीर 'ताजमहल' न केवल भारत में, बल्कि पूरे विश्व में अपनी पहचान बना चुका है। ताजमहल को दुनिया के सात आश्चर्यों में शामिल किया गया है।

सुदूर देशों में स्थित इटली में एक छोटा सा शहर हैं वैनिस, मान्यता है कि इसकी प्राकृतिक खूबसूरती एक कलाचित्र के समान दिखाई देती है, यह शहर सांस्कृतिक एवं व्यापारिक केंद्र है।

वेनिस, इटली

नहर पर गॉनडोला नाव में सवार होकर सैलानी घूमते हैं। हर साल वैनिस में 120 रैगाटा आयोजित किए जाते हैं। रोमांचित कर देने वाला रैगाटा खेल वैनिस में पर्यटकों के बीच बेहद लोकप्रिय है। हजारों लोग इस खेल में भाग लेते हैं। इस दौरान दर्शकों में उत्साह एवं तालियों की गूँज दूर तक सुनाई देती है।

येलोस्टोन नेशनल पार्क, यूएसए

संयुक्त राज्य अमेरिका में यह राष्ट्रीय उद्यान बहुत सारे पर्यटकों को आकर्षित करता है। इलाके में बर्फ से ढकी पहाड़ी चोटियां , शुद्धतम जल से लबालब झीलें और नदियां, भरपूर वन्य जीवन, वनस्पतियाँ तो हैं ही साथ ही यह धरती मां की जीवंत प्रयोगशाला भी है, जिस में विकास और विनाश के रहस्य अध्ययन करने का पूरा-पूरा अवसर है।

ये वे जगहें हैं जहां आपको एक बार तो जरूर घूमना चाहिए। अगर घूमने के शौकीन है तो यहां घूमने का प्लान बना सकते हैं।

Share it
Share it
Share it
Top