फल और सब्जियों को विदेशों में निर्यात कर कमाएं मोटा मुनाफ़ा, पढ़िए कहां है किसकी डिमांड

फल और सब्जियों को  विदेशों में निर्यात कर कमाएं मोटा मुनाफ़ा, पढ़िए कहां है किसकी डिमांडविश्व में भारत से कई तरह की सब्जियों का होता है बड़ा निर्यात। (फोटो साभार: गल इमेज)

इस बजट में ऑपरेशन ग्रीन पर काफी फोकस किया गया, जिसके तहत सब्जियों और फलों की खेती करने वाले किसानों को आर्थिक और तकनीकी सहायता देकर आगे बढ़ाया जाना है। फल और सब्जी उगाने वाले किसान देश के साथ उन्हें विदेश भी भेज सकते हैं

यह खबर उन लोगों के लिए आशा की एक किरण है जो ऐसी जगह रहते हैं जहां फलों का उत्पादन ज्यादा होता हो। फल और सब्जी के निर्यात कर वे मोटा मुनाफ़ा कमा सकते हैं। हालांकि, इसके लिए आपको अपने क्षेत्र के बाजार को बारीकी से समझने के साथ ही कुछ सरकारी कागजात बनवाने होंगे। इसके बाद आपके कॅरियर के लिए यह एक नया मुक़ाम साबित होगा। ऐसे में आइए जानते हैं किन देशों में किन चीजों की ज्यादा आयात की जाती है…

इन देशों में है इन चीजों की ज्यादा मांग

उत्पाद विश्व के मुख्य बाजार

फूल: यूएसए, जापन, यूके, नीदरलैंड्स और जर्मनी

बीज: पाकिस्तान, बांग्लादेश, यूएसए, जापना और नीदरलैंड्स

प्याज़: बांग्लादेश, मलेशिया, श्रीलंका, यूएई, पाकिस्तान और नेपाल

सब्जी: यूएई, बांग्लादेश, पाकिस्तान, नेपाल व श्रीलंका

अखरोट: स्पेन, इजिप्ट, जर्मनी, यूके और नीदरलैंड्स

आम: यूएई, बांग्लादेश, यूके, सउदी अरब और नेपाल

अंगूर: नीदरलैंड्स, यूके, यूएई, बांग्लादेश और बेल्जियम

फल: बांग्लादेश, यूएई, नीदरलैंड्स, नेपाल, सउदी अरब

मेवे: रूस, फ्रांस, यूएसए, जर्मनी और स्पेन

आम का गूदा: सउदी अरब, नीदरलैंड्स, यूएई, यमन, अरब रिपब्लिक और कुवैत

अचार व चटनी: रूस, यूएसए, बेल्जियम, नीदरलैंड्स और फ्रांस

प्रॉसेस्ड फल: यूएसए, नीदरलैंड्स, यूके, यूएई और सउदी अरब

भैंस का मांस: मलेशिया, फिलिपींस, सउदी अरब, जॉर्डन और अंगोला

भेंड़ व बकरे का मांस: सउदी अरब, यूएई, कतर, ओमान और कुवैत

पोल्ट्री उत्पाद: यूएई, कुवैत, ओमान, जर्मनी और जापान

दूग्ध उत्पाद: बांग्लादेश, अल्जीरिया, यूएई, यमन, अरब रिपब्लिक और इजिप्ट

एनिमल केसिंग (झलार): जर्मनी, पुर्तगाल, फ्रांस, स्पेन और इटली

प्रॉसेस्ड मांस: सीचेल्स, यूएई, हांगकांग, जर्मनी और यूएसए

मूंगफली: इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलिपींस, यूके और सिंगापुर

लुबिया का बीज: यूएसए, चीन, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड्स

ये भी पढ़ें- आईआईएम के टॉपर ने पहले दिन बेची थी 22 रुपए की सब्जियां, आज करोड़ों में है टर्नओवर

निर्यात के लिए ऐसे मिलेगा लाइसेंस

फल और सब्जी के निर्यात के कारोबार को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको लाइसेंस लेना होगा। यह लाइसेंस डायरेक्टर जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड (डीजीएफटी) की ओर से जारी किया जाता है। लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए आपको डीजीएफटी के नजदीकी कार्यालय में संपर्क करना होता है। आप डीजीएफटी की वेबसाइट http://dgft.delhi.nic.in पर जाकर “Aayaat Niryaat Form – ANF2A”पर क्लिक करके आवेदन कर सकते हैं। फॉर्म के साथ आपको पैन नंबर देना अनिवार्य होता है। साथ ही, एक करेंट बैंक अकांउट नंबर व एक हजार रुपए की फीस देनी अनिवार्य है। इसके आद रजिस्ट्रेशन कम मेम्बरशिप सर्टिफिकेट (आरसीएमसी) से निर्यात की मंजूरी लेनी अनिवार्य होती है।

गाजर की भी कई राज्यों में रहती है डिमांड

ये भी पढ़ें- मुनाफे वाली खेती : भारत में पैदा होती है यह सब्जी, कीमत 30,000 रुपये किलो

कारोबार : इसका भी रखें ख्याल

इस कारोबार में सफल होने के लिए बहुत जरूरी है कि आपके पास गोदाम की उचित व्यवस्था हो। कोल्ड स्टोरेज का भी सहारा ले सकते हैं। फल व सब्जी की गुणवत्ता को बरकरार रखने के लिए आप जितना खर्च करेंगे उससे आपका व्यवसाय उतना ही फले-फूलेगा। समय के साथ खुद को विश्व बाजार के अनुरूप अपडेट करते रखना भी काफी अहम है। सोशल मीडिया पर आपको अपने उत्पादों का भरपूर प्रचार करना होगा। वहीं, एक्सपोर्ट करने के लिए आपको ऑनलाइन उपलबध डायरेक्टरी का काफी फायदा हो सकता है।

संबंधित ख़बरें

1000 रु महीने नौकरी करने वाला ये किसान फूलों की खेती से अब कमाता है करोड़ों रुपये

फल और मिठाई लेने से पहले देख लें, कहीं आप तक तो नहीं पहुंच रहा है ये जहर

टमाटर की नई किस्म, एक पौधे से 19 किलो पैदावार का दावा

एलोवेरा की खेती का पूरा

गणित समझिए, ज्यादा मुनाफे के लिए पत्तियां नहीं पल्प बेचें, देखें वीडियो

एमबीए किया, फिर नौकरी, मगर गेंदे के फूलों की खेती ने बदली किस्मत, पढ़िए पूरी कहानी

First Published: 2018-02-05 13:47:35.0

Share it
Share it
Share it
Top