एमबीए पास युवक ने खोली ‘अवध आर्गेनिक सब्जी वाला’ नाम से दुकान

एमबीए पास युवक ने खोली ‘अवध आर्गेनिक सब्जी वाला’ नाम से दुकानअपना गाँव के बाद फैजाबाद के विवेक चलाएंगे ‘अवध आर्गेनिक सब्जी वाला” नाम से खोली दुकान। (पीली टी शर्ट में) फाइल फोटो

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। प्रदेश भर में किसानों का रुझान जैविक खेती की तरफ बढ़ रहा है, लेकिन बाजार न मिल पाने के कारण किसान अपने उत्पाद नहीं बेच पाते हैं, अब फैजाबाद के विकास भवन में खुल रही दुकान ‘अवध ऑर्गेनिक सब्जीवाला’ पर प्रदेश भर के किसान अपनी सब्जी बेच भी सकेंगे।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

फैजाबाद के एमबीए तक की पढ़ाई कर चुके प्रगतिशील किसान विवेक सिंह (30 वर्ष) फैजाबाद के विकास भवन में ‘अवध ऑर्गेनिक सब्जीवाला’ दुकान खोल रहे हैं, जहां पर जैविक तरीके से तैयार सब्जियां मिलेंगी। विवेक बताते है, ‘’जैविक सब्जियों में स्वाद बहुत अलग होता है। किसी चीज को खींच कर बढ़ा देना और जो अपने आप से बढ़े, में काफी अंतर होता है और नुकसानदायक भी। उसे अपना पूरा समय ना देकर दवा के जरिए उसे समय से पहले बढ़ा देते हैं।‘’

विवेक ने बताया, ‘’हम जैविक तरीके से सब्जी तैयार करने के लिए बैक्टीरिया बनाते हैं, जिससे पौधों को उसका भोजन पर्याप्त मात्रा में मिल सके। यही बैक्टीरिया पौधों को उनका पोषक तत्व देता है। जैविक खेती में सबसे बड़ा काम यही होता, बैक्टीरिया को बनाना। इस बैक्टीरिया से पौधों को नाइट्रोजन भी प्राप्त होता है और नाइट्रोजन के लिए कोई दूसरी दवा भी नही डालनी पड़ती है।’’

विवेक ने बताया, “इस दुकान पर पूरे जिले से लेकर पूरे प्रदेश तक जहां भी जैविक खेती हो रही है, वो किसान अपनी सब्जी इस दुकान पर दे सकता है। यहां पर किसान को दुकान पर लगने वाली लागत को छोड़कर सारा पैसा किसान को वापस कर देंगे। इससे किसान को ज्यादा पैसा मिल सके क्योंकि किसान मंडी जाते हैं, तो उनका सामान बड़े व्यापारी खरीद लेते हैं। बड़े व्यापारी उसे और अधिक दामों में बेच देते हैं, तो इससे किसान को पूरा मुनाफा नहीं मिल पाता है। इसमें किसान और उपभोक्ता के बीच लगभग 400 प्रतिशत का गैप रहता है, तो हम किसान और उपभोक्ता के बीच के इस गैप को खत्म करेंगे।’’

विवेक पहले भी अपना गाँव नाम से जैविक सब्जियां बेचते थे।

‘’जैविक खेती करने से लगभग 80 प्रतिशत लागत कम हो जाती है। इसमें गोबर, गौमूत्र सब घर से ही मिल जाता है, जो कि हमारी काफी बचत करता है। हमारे अलावा 4-5 किसान हैं, जिनका उत्तर प्रदेश जैविक प्रमाणीकरण संस्था से हमने पंजीकरण करवाया है।
विवेक, किसान

जैविक खेती के प्रति किसानों को जागरूक करने की कोशिश

दुकान के उद्घाटन में पूरे प्रदेश से कई किसान आयेंगे, जो अपनी जैविक सब्जी यहां दे सकेंगे। यहां पर मिलने वाली सब्जी अन्य जगहों से दामों में भी सही मिलेगी। इस दुकान पर आलू, मटर, गाजर, चुकंदर, पत्तागोभी, टमाटर, बैंगन सब्जियां कोई भी यहां से ले सकेगा। हम हमेशा लोगों को जैविक खेती के लिए बढ़ावा देते आए हैं और आगे भी देते रहेंगे, जिससे ज्यादा से ज्यादा किसान जैविक खेती कर सकें।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top