खेतों में ह्यूमिक एसिड के प्रयोग से बढ़ा सकते हैं मिट्टी की सेहत 

खेतों में ह्यूमिक एसिड के प्रयोग से बढ़ा सकते हैं मिट्टी की सेहत 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

बरेली। बरेली जिले के मीरगंज ब्लॉक के करनपुर गाँव के उन्नतशील किसान चौधरी जबरपाल सिंह आधुनिक तरीके से खेती करते हैं। दूसरे किसानों को भी खेती के नए तौर-तरीके बताते रहते हैं।

जबरपाल सिंह कृषि में ह्यूमिक एसिड के प्रयोग और उपयोगिता के बारे में बता रहे हैं।

सबसे पहले हम जानेंगे कि ह्यूमिक एसिड जैसे कि नाम के साथ एसिड शब्द आता है तो हमारे दिमाग में कई सवाल आते हैं कि ये फसल को नुकसान पहुंचाता होगा। आपको बता दूं ये किसी प्रकार का भी एसिड नहीं है, ये एक प्रकार का खदान से निकला हुआ पदार्थ है जो बंजर हुई मृदा को फिर से जीवनदान देता है ये पानी में घुलनशील नहीं होता है। आप सोचेंगे की ये अगर पानी में घुलता तो वो क्या है जो बाजार में मिलता है।

यह भी पढ़ें- दक्षिण के बाद अब पूर्वोत्तर में भी नारियल की बढ़ रही खेती

वो पोटेशियम ह्यूमेट है जो कि ह्यूमिक एसिड पर कास्टिक पोटाश की क्रिया द्वारा बनाया जाता है ज्यादातर ये चाइना से आता है। पोटेशियम ह्यूमेट से फसल को कोई नुकसान नहीं बल्कि ये आपकी उपज में वृद्धि के साथ साथ आपकी जमीन की भी उर्वरा शक्ति को बढ़ाता है। इसका उपयोग सभी प्रकार की फसलों पर सभी प्रकार के कीटनाशकों के साथ मिलाकर स्प्रे किया जा सकता है या फिर आप इसे ड्रिप इरिगेशन से भी दे सकते हैं या किसी प्रकार के रसायनिक खाद मिलाकर या अलग से भी उपयोग कर सकते हैं।

इससे होने वाले लाभ

  • इसका सबसे महत्वपूर्ण काम ये है कि ये मिट्टी को भुरभुरी करता है, जिससे जड़ों का विकास अधिक होता है।
  • ये प्रकाश संश्लेषण की क्रिया को तेज करता है, जिससे पौधे में हरापन आता है और शाखाओं में वृद्धि होती है।
  • ये पौधे की तृतीयक जड़ों का विकास करता है जिससे की जर्मी से पोषक तत्वों का अवशोषण अधिक हो सके।
  • पौधे में फलों और फूलों की वृद्धि करता है।
  • मिट्टी की उर्वरा शक्ति में वृद्धि करता है।
  • पौधे की चयापचयी क्रियाओं में वृद्धि करता है।
  • उपज में भी वृद्धि होती है।

यह भी पढ़ें- एमएनसी की मदद से देश में कोको की खेती बढ़ाने की तैयारी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top