प्याज, टमाटर की कीमतों में आई गिरावट

प्याज, टमाटर की कीमतों में आई गिरावटटमाटर और प्याज की कीमतों में आई गिरावट।

नई दिल्ली (भाषा)। राष्ट्रीय राजधानी के थोक और खुदरा दोनों ही बाजारों में प्याज और टमाटर की कीमतों में गिरावट आना शुरू हो गई है। व्यापारियों के अनुसार आवक में सुधार से इनके भाव नरम हो रहे हैं।

अन्य हिस्सों में गिरने लगे हैं दाम

व्यापारिक आंकड़ों के अनुसार, प्याज की खुदरा कीमत 80 रुपये प्रति किलो से घटकर 50-60 रुपये किलो तक आ गयी है। इसी तरह टमाटर 70-80 रुपये प्रति किलो की जगह घटकर सोमवार को 45 रुपये किलो के भाव बिक रहा था। देश के अन्य भागों में टमाटर और प्याज के दाम गिरने लगे हैं।

थोक बिक्री कीमत में गिरावट आई

दिल्ली की आजादपुर मंडी में टमाटर व्यापारी संघ के अध्यक्ष अशोक कौशिक ने कहा, “दक्षिण भारत, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और राजस्थान से टमाटर की आपूर्ति में सुधार हुआ है। इससे इसकी थोक बिक्री कीमत में गिरावट आई है।“ उन्होंने बताया, “आजादपुर में टमाटर की आवक लगभग दोगुनी होकर 500 टन तक पहुंच गयी है। पिछले सप्ताह आवक लगभग 200-250 टन थी।“ टमाटर का थोक भाव स्थानीय मंडी में सोमवार को घटकर 20 से 30 रुपये किलो रहा। एक सप्ताह पहले यह 40 से 60 के बीच में था।

और सस्ता होने की उम्मीद

कौशिक ने आगे कहा, “आने वाले दिनों में टमाटर की आवक बढ़ने के साथ इसके और सस्ता होने की उम्मीद है।“ प्याज के मामले में राष्ट्रीय राजधानी के थोक और खुदरा दोनों बाजारों में प्याज की कीमत में गिरावट आई है, लेकिन यह गिरावट पर्याप्त नहीं कही जा सकती।

ओखी से कीमतों पर दबाव रह सकता है

आजादपुर मंडी के प्याज एवं आलू व्यापारी संघ के महासचिव राजेन्द्र शर्मा ने कहा, “ऐसा इसलिए है क्योंकि समुद्री तूफान ओखी के बाद महाराष्ट्र और गुजरात के उत्पादक क्षेत्रों में उत्पादन किये गये प्याज का भींग जाना था।” उन्होंने आगे कहा, "बाकी राज्यों में भेजे जाने के लिए ट्रक में लदान करने के पहले प्याज को सुखाये जाने की आवश्यकता है। हालांकि फसल अच्छा है, लेकिन कुछ समय के लिए इसके परिवहन में कुछ आरंभिक दिक्कतें रहेंगी जिससे कीमतों पर दबाव रह सकता है।”

1,000 टन से अधिक प्याज की आवक हुई

उन्होंने कहा, "लेकिन आजादपुर की मंडी में प्याज की आपूर्ति मांग को पूरा करने के लिहाज से पर्याप्त है। यहां की मंडी में सोमवार को महाराष्ट्र और राजस्थान से 1,000 टन से अधिक प्याज की आवक हुई, जबकि पिछले सप्ताह का 900 टन का स्टॉक भी उपलब्ध था।” उन्होंने कहा, "आज प्याज का थोक मूल्य गुणवत्ता के आधार पर करीब 25 से 35 रुपये किलो चल रहा है, जो पिछले सप्ताह के 50 रुपये प्रति किलो के स्तर से काफी कम है।” प्याज की आपूर्ति को बढ़ाने तथा कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने इसके निर्यात पर अड़चन लगाने के साथ कई अन्य उपाय भी किये हैं।

यह भी पढ़ें: ‘कर्जमाफी की बजाए किसानों को कर्ज लौटाने के लिए लंबा समय देना बेहतर’

कोल्ड स्टोरेज के बिना खाली ही रहेंगे किसान के हाथ

Share it
Top