Top

अच्छा काम करने के लिए गन्ना किसानों, चीनी मिलों और गन्ना समितियों को मिलेगा सम्मान

गन्ना किसान, उत्तर प्रदेश, सरदार वीएम सिंह, sugarcane farmer, sugarcane, sugarcane production in uttar pradeshसुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब प्रदेश सरकार गन्ने की कीमत तय कर सकती हैं।

लखनऊ। गन्ना विकास विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा प्रदेश में उत्कृष्ट कार्यों के लिए गन्ना किसानों, चीनी मिलों और गन्ना समितियों को सम्मानित किया जाएगा। पुरस्कार में भाग लेने वाले इच्छुक किसानों का 30 अक्टूबर तक नि:शुल्क फॉर्म भरा जाएगा।

अच्छा काम करने वाली तीन चीनी मीलों, तीन गन्ना समितियों और तीन किसानों को पहला दूसरा, तीसरा पुरस्कार मिलेगा। जिसमें प्रथम पुरस्कार पाने वाले को 51,000, दूसरे को 31,000 तीसरे को 21,000 की धनराशि के साथ ही स्मृति चिन्ह और प्रमाण पत्र भी दिए जाएंगे। इस कार्यक्रम में आने वाले खर्च को राज्य सरकार वहन करेगी।

पुरस्कार पाने वाले किसानों, चीनी मिलों और गन्ना समितियों के लिए कुछ विशेषताएं होनी आवश्यक हैं। ये पुरस्कार उन्हीं किसानों को दिया जाएगा जिनकी सरकारी योजनाओं में सहभागिता हो। इसके साथ ही प्रति हेक्टेयर प्राप्त गन्ने की उपज औसत गन्ना आपूर्ति हो। गन्ना समिति द्वारा लिए गये ऋण और उसकी वसूली, किसान के पास स्वीकृत गन्ना प्रजातियों की उपलब्धता साथ ही अपनाई गयी किसी अन्य पद्यति के आधार चयन किया जायेगा।

प्रदेश में जो गन्ना की चीनी मिलें समय से गन्ना मूल भुगतान, चीनी परता, ड्राल प्रतिशत, गन्ने की शुद्ध तौल और चीनी मिल परिक्षेत्रक्षेत्र में प्रजातीय संतुलन के आधार पर अंक दिए जायेंगे। अधिक अंक मिलने वाले को पहले, दूसरे और तीसरे पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: सूखे इलाकों में पैसे कमाना है तो करें लेमनग्रास की खेती, खेती और बिक्री की पूरी जानकारी

चीनी मिलों की तरह सरकारी गन्ना विकास समितियों को उनके द्वारा किए गये उर्वरक विपरण, समिति अभिलेखों का रखरखाव अच्छा होना चाहिए। इसके साथ ही परिसर और भवन की स्वच्छता, ऋण वितरण वसूली, फॉर्म मशीनरी बैंक की स्थापना, समिति की प्रबंध कमेटी की नियमित बैठक हो ये भी सुनिश्चित किया जाए। गन्ना विकास समिति की वार्षिक सामान्य सभा हो और समिति सम्पत्तियों के रख रखाव के आधार पर अंक दिए जायेंगे। तीन गन्ना समितियों को पहला दूसरा तीसरा पुरस्कार मिलेगा।

गन्ना किसानों, चीनी मिलों और गन्ना समितियों का पुरस्कार के चयन के लिए जिला, परिक्षेत्र और प्रदेश स्तरीय कमेटियों का गठन किया गया है।

इस योजना का क्रियान्वयन गन्ना आयुक्त उत्तर प्रदेश द्वारा किया जाएगा। इस योजना सहित गन्ना विकास विभाग में संचालित अन्य योजनाओं के अंतर्गत दिए जाने वाले जनपद स्तर पुरस्कार का भी वितरण प्रादेशिक स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर पुरस्कार दिए जायेंगे। इस योजना के तहत चीने मिलों, गन्ना समितियों और गन्ना किसानों का मनोबल बढ़ेगा। जिससे विकास कार्यों में गति आयेगी और किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।

यह भी पढ़ें: नुकसान हो तो उपभोक्ता फोरम का दरवाजा खटखटा सकते हैं किसान, जानिए कैसे

गेहूं के साथ इस घास के उगने से उत्पादन में 30-40 फीसदी तक आ जाती है कमी

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.