हरी खाद के इस्तेमाल से अच्छे उत्पादन के साथ आएगी लागत में कमी

हरी खाद के इस्तेमाल से   अच्छे उत्पादन के साथ आएगी लागत में कमीखरी खाद के रुप में ढौंचा का होता है खूब इस्तेमाल।

लखनऊ। लगातार बढ़ते रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से मिट्टी की उर्वरकता घटती जा रही है। ऐसे में किसान इस समय हरी खाद का प्रयोग करके न केवल अच्छा उत्पादन पा सकते हैं, साथ ही मिट्टी की उर्वरा शक्ति भी बढ़ाई जा सकती है।

हरी खाद उस सहायक फसल को कहते हैं, जिसकी खेती मिट्टी में पोषक तत्त्वों को बढ़ाने और उसमें जैविक पदाथों की पूर्ति करने के लिए की जाती है। मई से जून महीने में ढैंचा जैसी हरी खाद की बुवाई की जाती है और अगस्त महीने में इसकी कटाई की जाती है।

ये भी पढ़ें : पंजाब के गोदामों में पांच वर्ष में 700 करोड़ रुपये का सरकारी गेहूं हुआ खराब: कैग

इस विधि में हरी खाद की फसल को उसी खेत में उगाया जाता है, जिसमें हरी खाद का प्रयोग करना होता है। फसल तैयार होने के बाद लगभग 40-50 दिनों में फूल आने से पहले ही मिट्टी को पलट दिया जाता है। मिट्टी में थोड़ी नमी होने से से ये अच्छी तरह से सड़ जाती है।

ये भी पढ़ें : कृषि मृदा स्वास्थ्य कार्ड की मदद से रासायनिक उर्वरकों की खपत घटी, उत्पादन बढ़ा : राधा मोहन सिंह

जब फसल की बढ़वार अच्छी हो गई हो और फूल आने के पहले इसे हल या डिस्क हैरो से खेत में पलट कर पाटा चला देना चाहिए। यदि खेत में पांच-छह सेमी. पानी भरा रहता है तो पलटने व मिट्टी में दबाने में कम मेहनत लगती है। जुताई उसी दिशा में करनी चाहिए जिसमें पौधों को गिराया गया हो। इसके बाद खेत में आठ-दस दिन तक चार-छह सेमी पानी भरा रहना चाहिए जिससे पौधों के अपघटन में सुविधा होती है। यदि पौधों को दबाते समय खेत में पानी की कमी हो या देर से जुताई की जाती है तो पौधों के अपघटन में अधिक समय लगता है।

ये भी पढ़ें : किसानों के लिए खुशखबरी: ट्रैक्टर के कल-पुर्जों, कपड़े के जॉब वर्क पर जीएसटी में भारी कमी

Share it
Top