आलू की लगातार गिरती कीमतों ने एक बार फिर उत्तर प्रदेश के किसानों को किया परेशान

पिछले साल कोविड लॉकडाउन के चलते आलू की कीमतें 42 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गईं थीं, क्योंकि सप्लाई चैन प्रभावित हुई थी। मुनाफा कमाने की उम्मीद में किसानों ने इस साल बड़े पैमाने पर आलू की खेती की, लेकिन बंपर फसल ने अब कीमतों में गिरावट ला दी है।

Virendra SinghVirendra Singh   18 Sep 2021 7:03 AM GMT

बाराबंकी/सीतापुर/फर्रुखाबाद (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश का फर्रुखाबाद जिला आलू के उच्च उत्पादन के लिए जाना जाता है। आलू के चिप्स बनाने वाली कई बहुराष्ट्रीय खाद्य कंपनियां यहां से आलू खरीदती हैं और किसानों को आमतौर पर उनकी उपज का उचित मूल्य मिलता है।

लेकिन वर्तमान में जिन गांवों में आलू की खेती मुख्य आधार है, वहां मातम छाया हुआ है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आलू की कीमत गिर गई है। पिछला साल आलू की फसलों के लिए एक अच्छा साल था और किसानों ने ज्यादा मात्रा में आलू की खेती की। इस साल बंपर फसल की वजह से कीमतों में गिरावट आई है और किसानों को परेशानी हो रही है।

पिछले साल आलू की कीमत 43 रुपये प्रति किलोग्राम के मुकाबले, आलू की कीमतें प्रदेश भर की सब्जी मंडियों में लगभग 10- 15 रुपये प्रति किलोग्राम के आसपास है। किसानों के अनुसार, पिछली गर्मियों में कोविड19 लॉकडाउन ने आपूर्ति श्रृंखला को बुरी तरह प्रभावित कर दिया था और आलू की कीमतें चरम पर पहुंच गई थीं लेकिन वही कीमत अब तेजी से नीचे आ गई है।

"पिछले साल आलू की ऊंची कीमतों को देखते हुए, हमने बड़े पैमाने पर आलू की खेती शुरू की। लेकिन वह फैसला अब हमारे लिए एक महंगी गलती साबित हो रही है, क्योंकि उत्पादन में वृद्धि ने बाजारों को बर्बाद कर दिया है, "फर्रुखाबाद के कैमगंज ब्लॉक के कमलपुर गांव के 33 वर्षीय आलू किसान मोहित सिंह ने गांव कनेक्शन को बताया।

सरप्लस होने के कारण इस साल आलू का बाजार भाव बेहद कम रहा है। "हमें एक क्विंटल (100 किलोग्राम) आलू के लिए मुश्किल से 500-700 रुपये मिल रहे हैं। इन कीमतों के साथ, लाभ की कल्पना करना असंभव है, "सिंह ने कहा।


नुकसान की फसल

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में आलू का उत्पादन 2020-21 में बढ़कर 53.69 मिलियन टन हो गया, जबकि 2019-20 में यह 48.56 मिलियन टन था।

उत्तर प्रदेश, जो भारत का सबसे अधिक आलू उत्पादक राज्य है, देश के कुल आलू उत्पादन में 35 प्रतिशत का योगदान देता है। आलू की खेती के तहत राज्य में 610,000 हेक्टेयर क्षेत्र के साथ, 2019-20 में 14.78 मिलियन टन आलू का उत्पादन हुआ था

बाराबंकी जिले के उद्यान निरीक्षक गणेश चंद्र मिश्रा ने गांव कनेक्शन को बताया, "इस साल (2020-21) में, किसानों ने अधिक रकबे पर आलू की खेती करके अपनी उपज बढ़ाई।"

उनके अनुसार, इस साल बाराबंकी जिले में लगभग 18,000 हेक्टेयर आलू की खेती की गई थी और अनुकूल मौसम की वजह से बंपर फसल हुई थी। पिछले साल 16,000 हेक्टेयर भूमि पर आलू की खेती हुई थी।

मिश्रा ने कहा, "इस साल जिले में कुल उत्पादन साढ़े चार लाख क्विंटल रहा है।"

उद्यान निरीक्षक ने कहा, "पिछले साल, सितंबर तक लगभग सत्तर प्रतिशत आलू कोल्ड स्टोरेज से बाहर ले जाया गया था, लेकिन इस साल आलू के चौंतीस प्रतिशत से अधिक को भंडारण से बाहर नहीं किया गया है।"

मिश्रा ने कहा कि बाराबंकी में 34 कोल्ड स्टोरेज हैं और उनकी क्षमता 354,000 क्विंटल है।


'आलू की कीमतों में और गिरावट की आशंका'

"अगली फसल दिवाली के आसपास तैयार हो जाएगी। मेरी राय में, किसानों को अब आलू को भंडारण से बाहर ले जाना चाहिए और उन्हें किसी भी कीमत पर बेचना चाहिए क्योंकि नई फसल आने के बाद कीमतें और गिर जाएंगी, "सीतापुर में बागवानी निदेशक सौरभ श्रीवास्तव ने गांव कनेक्शन को बताया।

श्रीवास्तव के अनुसार जिले में कुल 30,000 मीट्रिक टन आलू कोल्ड स्टोरेज में रखा गया है और अभी तक केवल 10,000 मीट्रिक टन ही बिक्री के लिए निकाला जा सका है।

जाहिर सी बात है सीतापुर में भी मायूसी है।

महमूदाबाद, सीतापुर के आलू की खेती करने वाले हरनाम मौर्य ने गांव कनेक्शन को बताया, "इस साल किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।" उन्होंने कहा कि आलू की कम कीमत ने उन सभी उम्मीदों को नष्ट कर दिया है जो उन्होंने अपने नुकसान की भरपाई के लिए की थीं, जब उनके द्वारा उगाई गई दूसरी सब्जियों में भी उन्हें नुकसान हुआ है।

मौर्य ने समझाया, "एक एकड़ [0.4 हेक्टेयर] आलू में पैंसठ हजार रुपये तक की लागत लगती है और सभी चीजें अच्छी तरह से चल रही हैं, इससे लगभग पच्चीस क्विंटल उत्पादन होगा।"

उन्होंने कहा कि आलू को कोल्ड स्टोरेज में रखने पर करीब 400 रुपये प्रति क्विंटल का खर्च आता है। "आलू की वर्तमान दर लगभग छह सौ रुपये प्रति क्विंटल है। इसलिए, किसानों को इस साल भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है, "मौर्य ने कहा।

बाराबंकी के फतेहपुर ब्लॉक के मोहम्मद आलम ने गांव कनेक्शन को बताया, 'यह तय है कि कुछ दिनों में आप देखेंगे कि किसान अपने आलू को कोल्ड स्टोरेज में फेंक देते हैं क्योंकि इससे उनका नुकसान ही होता है।

अंग्रेजी में खबर पढ़ें


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.