विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस : उत्तम स्वास्थ्य के लिये सुरक्षित भोजन जरूरी

दूषित भोजन करने से हर साल लाखों लोग बीमार हो जाते हैं और कभी-कभी व्यक्ति की मौत भी हो जाती है

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस : उत्तम स्वास्थ्य के लिये सुरक्षित भोजन जरूरीप्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

लखनऊ। इंडियन कांउसिल फॉर मेडिकल रिसर्च ने एक व्यक्ति के लिए कितना पोषण जरूरी है उसे कैलोरी के अनुसार मापदंड तय किया है। आईसीएमआर के मुताबिक एक औसत भारतीय के लिए भारी काम करने वालों के लिए रोजाना 2400 कैलोरी प्रति व्यक्ति और कम शारीरिक श्रम करने वाले लोगों के लिए 2100 कैलोरी पोषण जरूरी है। स्वस्थ शरीर के मालिक सुखी जीवन बिताते हैं। स्वस्थ रहने के लिए सुरक्षित एवं संतुलित आहार जरूरी है।

ये भी पढ़ें: आपकी सेहत बिगाड़ देगा कैल्शियम कार्बाइड से पका हुआ आम, ऐसे करें सही फल की जांच


रीजनल फूड रिसर्च एण्ड एनालिसिस सेण्टर, लखनऊ में प्रथम विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस पर निदेशक उद्यान यूपी डा. आरपीसिंह ने कहा, "सुरक्षित खाद्य पदार्थ के प्रयोग से हम उत्तम स्वास्थ्य सुनिश्चित कर सकते हैं। दुनिया भर में 10 में से एक व्यक्ति दूषित भोजन खाने के बाद बीमार पड़ जाता है तथा चार लाख से अधिक लोगों की मौत हो जाती है। असुरक्षित भोजन विशेष कर शिशुओं और बुजुर्गों को ज्यादा प्रभावित करता है। स्वच्छ भोजन करने से स्वच्छ विचार आते हैं। उन्होंने कहा कि आहार का असर व्यवहार पर पड़ता है। ऐसे में देश के हर नागरिक को स्वच्छ भोजन, संतुलित आहार एवं पौष्टिक आहार मिले, इसके लिए एफएसएसएआई को अहम जिम्मेदारी निभानी है।"

ये भी पढ़ें:देश में उचित पोषण नीति से रोकी जा सकती है भुखमरी, सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

प्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

सीमैप के पूर्व वैज्ञानिक डा. एके सिंह ने औषधीय एवं संगध पौधों के उपयोगों की जानकारी देते हुये बताया," इनके प्रयोग से कई स्वास्थय के लिए उपयोगी और पोषक उत्पाद बताये जा रहे हैं। फ्लोराफौना साइंस फाउन्डेशन विभिन्न उत्पादों के प्रसार और उद्यमिता विकास हेतु कार्य करने की योजना बना रहे हैं।"

पोषण सुरक्षा का मतलब यह भी है कि किसी भी व्यक्ति की अपने जीवन चक्र में ऐसे विविधता पूर्ण पर्याप्त मात्रा मेपहुंच सुनिश्चित होना जिसमें जरूरी कार्बोहाईड्रेट, प्रोटीन, वसा, सूक्ष्म पोषण तत्व की उपलब्धता हो। इन तत्वों की आपूर्ति अलग-अलग तरह के अनाजों, दालों, तेल, दूध, अण्डे, सब्जियों और फलों से होती है, इसलिए इनकी उपलब्धता और वहन करने की परिस्थितियां बननती चाहिये। इसी तरह पीने के साफ पानी की उपलब्धता भी जरूरी है।

ये भी पढ़ें: मधुमेह के खतरों से बचने के लिए भोजन की गुणवत्ता भी जरूरी


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top