सेनेटरी योजना से किशोरियों में पड़ेगी स्वच्छता की आदत: डिम्पल यादव

सेनेटरी योजना से किशोरियों में पड़ेगी स्वच्छता की आदत: डिम्पल यादवसेनेटरी नैपकिन, स्वाती शुक्ला, उत्तर प्रदेश सरकार

लखनऊ। स्वच्छ भारत मिशन के तहत उत्तर प्रदेश सरकार की योजना सेनेटरी नैपकिन उत्पादन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में महिलाओं को  सशक्त व महामारी से फैलने वाली बीमारियों से बचाने के लिए सुझाव दिए गए। 

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुईं सांसद कन्नौज डिम्पल यादव ने बताया, ''स्वच्छ भारत मिशन योजना महिलाओं एवं किशोरियों के स्वास्थ्य की दिशा में ध्यान देने के साथ-साथ महिलाओं को जागरूक कर रही है। उप्र सरकार की सेनेटरी योजना से किशोरियों में स्वच्छता की आदत बनेगी जिससे उनको होने वाली बीमारियों में कमी आएगी। साथ ही साथ निर्बल आय वर्ग की महिलाओं को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।" उन्होंने कहा भारत में सिर्फ 23 प्रतिशत महिलाए सेनेटरी नैपकिन का प्रयोग करती है। वहीं 40 से अधिक जनपदों के पंचायत उद्योग में नैपकिन का उत्पादन हो रहा है। बाकी जनपदों में कार्य चल रहा है।

 वर्तमान समय लगभग 28 हजार सेनेटरी नैपकिन का उत्पादन प्रतिदिन किया जा रहा है, एक महीने में लगभग पांच लाख पीस उत्पादित किये जा चुके हैं। 20 लाख सेनेटरी नैपकिन के पीस उत्पादित किया जा चुके हैं। अगर विभाग द्वारा बिक्री की बात की जाए तो जेलों में निरुद्ध महिलाओं के लिए कारागार विभाग द्वारा लगभग 38 हजार, बेसिक शिक्षा विभाग 70 हजार, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा 2.5 लाख सेनेटरी नैपकिन क्रय किया गया। साथ ही महिला कल्याण विभाग द्वारा भी क्रय किया जाएगा और ओपन मार्केट में भी अब तक लगभग 78 सेनेटरी नैपकिन के पीस बेचे गए हैं। प्रमुख सचिव पंचायतीराज चंचल कुमार तिवारी ने कहा, ''लो कास्ट सेनेटरी नैपकिन का कार्य महिलाओं एवं किशोरियों की व्यक्तिगत स्वच्छता की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम है।" पंचायत उद्योग द्वारा उत्पादित सेनेटरी नैपकिन का छह पीस का एक पैकेट 15 रुपए की दर पर उपलब्ध है। बाल अधिकारी संरक्षण आयोग जूही सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार का यह कार्यक्रम किशोरियों एव महिलाओं के लिए ऐतिहासिक है। 

Tags:    India 
Share it
Top