10 साल की बेटी को नशे और वेश्यावृत्ति से बचाने के लिए चेन से बांधकर रखता है ये पिता

10 साल की बेटी को नशे और वेश्यावृत्ति से बचाने के लिए चेन से बांधकर रखता है ये पितालड़की के पैरों में बंधी ज़ंज़ीर 

लखनऊ। कई बार मां-बाप चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, अपने बच्चों को कितना भी प्यार कर लें लेकिन अपने बच्चों को गलत रास्ते पर चलने से नहीं रोक पाते। ऐसे ही एक मज़बूर पिता की कहानी इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जो अपनी 10 साल की बेटी को नशे के जाल में फंसने से नहीं बचा पाया।

कई तरह से प्रयास करने के बाद जब उसे और कोई तरीका नहीं सूझा तो उसने अपनी बेटी को लोहे की ज़ंज़ीर से बांध दिया। असहाय पिता की इस कहानी को बांग्लादेश के जाने माने फोटोग्राफर जीएमबी आकाश ने फेसबुक पेज पर शेयर किया। उन्होंने इस लड़की की एक फोटो भी पोस्ट के साथ शेयर की।

यह भी पढ़ें : गुरमीत राम रहीम की गुफा का वीडियो हुआ वायरल, जानिए क्या है इसकी नोटिस

जीएमबी आकाश ने बांग्लादेश की 10 साल की इस लड़की और उसके 40 वर्ष के पापा कमल होसिन की कहानी उन्हीं के शब्दों में अपने फेसबुक पेज पर लिखी है। उन्होंने लिखा - पिछले दस दिनों से मैंने अपनी 10 साल की बेटी सांता को इस लोहे की चेन में बांध कर रखा है ताकि वो दोबारा घर से न भाग सके। मुझे हमेशा उसे खोने का डर लगा रहता है।

पिछली बार वह आठ रातों के लिए घर से गायब हो गई थी। मैंने उसे सुबह से लेकर रात तक हर जगह ढूंढा। मैं रेलवे स्टेशनों, पार्क, बाज़ारों में हर जगह उसे ढूंढा लेकिन वो कहीं नहीं मिली। आठ रातों तक पूरी कोशिश से हर जगह ढूंढने के बाद वह मुझे फार्म गेट फूट ओवर ब्रिज पर सड़क पर रहने वाली दूसरी नशे की आदी और वेश्यावृत्ति करने वाली लड़कियों के साथ मिली। वो उस गोंद को सूंघ कर नशा कर रही थी जिसका इस्तेमाल मैं जूतों की मरम्मत करने में करता हूं।

पिछले आठ महीनों से वो अक्सर घर से गायब रहती है। एक बार वो 10 रातों के लिए घर से गायब हो गई थी। मुझे लग रहा था कि मैं मर जाऊंगा, मैंने उसे हर जगह ढूंढा। मैं इसे जब भी इस ज़ंज़ीर से आज़ाद करता हूं ये गायब हो जाती है।

यह भी पढ़ें : अनंतनाग हमले के शहीद की बेटी को लिखा डीआईजी का ये ख़त आपको झकझोर देगा...

मैं एक मोची हूं और पूरे महीने में सिर्फ 5000 टका कमाता हूं। इतने पैसों में इस गरीब बस्ती में इस 8 बाई 8 फीट के कमरे में हम मुश्किल से रहते हैं। मैं इसे किसी अच्छे अस्पताल में या डॉक्टर के पास नहीं ले जा सकता। जब सांता 7 साल की थी तब इसकी मां की मौत हो गई थी। इसकी मां के जाने के बाद मैं इसका अच्छे से ख्याल नहीं रख पाया और मेरी बच्ची दूसरी लड़कियों के साथ मिलकर नशे की आदी हो गई।

जब भी मैं अपनी बच्ची के पैरों में ये ज़ंज़ीर बांधता हूं तो मुझे पल पल मरने जैसा अहसास होता है। मेरी आंखों में हर बार आंसू होते हैं जब भी मैं इसे लोहे की चेन में बांधता हूं लेकिन अपनी मासूम बच्ची को बचाने के लिए एक गरीब पिता के पास और कोई रास्ता नहीं है, एक ऐसी बच्ची जिसकी सुरक्षा करने के लिए उसकी मां भी नहीं हैं उसके पास।

सोशल मीडिया पर ये पोस्ट तेज़ी से वायरल हो रही है। अभी तक लगभग 6 हज़ार लोग इसे लाइक कर चुके हैं और 254 लोग इस पोस्ट को शेयर कर चुके हैं।

Share it
Top