बाराबंकी: चुनाव में बड़े वादे, फिर कोई झांकता नहीं

Virendra ShuklaVirendra Shukla   26 Feb 2017 3:16 PM GMT

बाराबंकी: चुनाव में बड़े वादे, फिर कोई झांकता नहींहर रोज नाव पर सवार होकर नौकरी करने को जाते है ग्रामीण।

सरसंडा (बाराबंकी)। “चुनाव के समय नेता बालू खात अक्सर हमारे गाँव आ जाते हैं और कहते हैं भाई बड़ी बालू है, एक बार हमें जिता दो, इलाके में सब सुविधाएं पहुंचा देंगे, लेकिन वोट लेने के बाद कोई नजर नहीं आता है।” गुस्से के साथ तेजन (35 वर्ष) कहते हैं। तेजन की तरह बाराबंकी के हेतमापुर इलाके सैकड़ों लोग गुस्से में हैं।

तेजन बाराबंकी जिला मुख्यालय से करीब 65 किलोमीटर दूर रामनगर तहसील के सरसंडा ग्राम पंचायत के रहने वाले हैं। इनकी ग्राम पंचायत के कुछ गाँव घाघरा के पार बहराइच की तरफ हैं। घाघरा पार के गाँवों जमका, परशुरामपुर, फाजिलपुर, पूरनपुर और कई गाँव अकौना ग्राम पंचायत के हैं, जहां न बिजली पहुंची है और न ही सड़क। स्कूल से लेकर अस्पताल तक पहुंचने के लिए नाव ही सहारा है। जमका गाँव में करीब 500 घर लेकिन कोई पक्का नहीं है, सब घासपूस हैं, जिनके बने भी थे वो घाघरा में कट गए।

तेजन बताते हैं, “हमारे गाँव से सबसे नजदीक का कस्बा सूरतगंज है तो करीब 15 किलोमीटर दूर है, नदी और रेता पार करने के बाद 5-6 किलोमीटर के बाद तो पक्की सड़क मिलती है। स्कूल के नाम पर एक प्राथमिक स्कूल है, अस्पताल जाना हो तो 8 किलोमीटर कम से कम जाना होगा।”

जमका के ग्राम प्रधान राम अवध निषाद कहते हैं, “कई बार बिजली के सर्वे हुआ लेकिन हुआ कुछ नहीं। ब्लॉक से भी हमें कोई मदद नहीं मिलती। आठ महीने तक पानी से घिरे रहने के बावजूद हम लोगों को ज्यादा सुविधाएं मिलना दूर, बल्कि और उपेक्षा ही होती है।”

बाराबंकी शहर से रोजाना यहां पढ़ाने आने वाली शिक्षिका बॉबी सिंह बताती हैं, इलाके करीब 80 फीसदी आबादी निरक्षर है, जब मेरी यहां तैनाती हुई स्कूल कोई आता नहीं था, मैंने बच्चों को समझा-समझाकर यहां तक लाई, लेकिन इतनी गरीबी में ये लोग बच्चों को पढ़ाए या किसी तरह अपना जीवन चलाएं।” कुछ बच्चे अब पास के कस्बों में पढ़ने जाने लगे हैं लेकिन नाव से आवाजाही के चलते घर वाले डरे रहते हैं। बाढ़ के चलते यहां साल में एक ही फसल होती है। बाकी वक्त किसानों के खेतों में पानी भरा रहता है।

कोल्हू में गन्ना पेर रही जमका की रुकमीना बताती हैं, खेती के अलावा दूसरा कोई काम नहीं है, साल के आठ महीना तो पानी भरा रहता है, गन्ना और गेहूं जैसी एक दो फसलें हो जाती है। कमाई को कोई दूसरा जरिया नहीं है।” हेतमापुर के आसपास के कई गाँवों की जमीनें नदी के उस पार हैं। कई किसानों ने रोजगार के लिए गाँव छोड़ दिए हैं तो जो बचे हैं वो नाव से नदी पार कर किसी तरह अपना अपनी गुजर-बसर कर रहे हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top