Virendra Shukla

Virendra Shukla

Swayam Desk कम्यूनिटी जर्नलिस्ट, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश


  • Video : देखिए कैसे बनता है गन्ने से गुड़

    हेतमापुर (बाराबंकी)। गुड़ तो हम सब खाते हैं लेकिन गुड़ को बनते हुए देखना भी बहुत खास होता है। खेतों में कई महीने तक फसल लगने के बाद किसान गन्ना काटते हैं, उसकी कोल्हू में पेराई करते हैं और फिर गन्ने के रस को उबालने के बाद गुड़ बनता है।चीनी मिलें तो गन्ने से शक्कर बनाती हैं लेकिन देश में बड़े पैमाने...

  • नुकसान से बचना है तो किसान बीज, कीटनाशक और उर्वरक खरीदते समय बरतें ये सावधानियां

    सूरतगंज (बाराबंकी)। ज्यादातर किसान फसलों में कितनी और कौन की उर्वरक डालनी है या फिर कीड़े और रोग लगने पर कौन सा कीटनाशक डालना है, इसके लिए खुद की मर्जी या फिर स्थानीय दुकानदारों की सलाह लेते हैं। लेकिन ये कई बार उन्हें ना सिर्फ काफी नुकसान पहुंचाता है बल्कि पैसे खर्च करने के बावजूद फसल को फायदा...

  • रामदाना की खेती करें किसान, कम पानी और मेहनत में कमाएं अच्छा मुनाफा

    रामसनेहीघाट (बाराबंकी)। गुणों से भरपूर रामदाना सभी प्रकार की जलवायु में आसानी से उगने वाला है। इसका प्रयोग भोजन के रूप में भारत और दक्षिणी अमेरिका में हजारों वर्षों से होता आया है। उत्तर प्रदेश में भी इसकी खेती का प्रचलन काफी तेजी से बढ़ रहा है।रामदाने की खेती कम मेहनत और कम पानी के द्वारा की जा...

  • इस मशीन को खेत में लगाने पर आसपास भी नहीं आएंगे नीलगाय-जंगली सुअर जैसे जानवर

    लखनऊ। नीलगाय, जंगली सुअर समेत छुट्टा जानवर किसानों की फसल को बर्बाद कर देते हैं। छुट्टा जानवरों के आंतक से किसानों को निजात दिलाने के लिए गुजरात के किसान बचुभाई ठेसिया (65 वर्ष) ने झटका मशीन इजात की है। इस मशीन से पशु और व्यक्ति घायल भी नहीं होते और खेत की सुरक्षा भी होती है।बचुभाई ठेसिया गुजरात के...

  • किसान मेंथा के साथ सूरजमुखी की मिश्रित खेती से बढ़ा सकते हैं आमदनी

    स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्टबाराबंकी। किसान अब परंपरागत खेती के अलावा फूलों और औषधीय फसलों की खेती करने लगे हैं। मुनाफा देखकर बारांबकी के किसान आजकल सूरजमुखी, शतावर, आर्टीमीशिया, अमेरिकन गुलाब और गेंदा की खेती की ओर रुख कर रहे हैं।बाराबंकी मुख्यालय से 35 किलोमीटर दूर देवा ब्लाक के ढिंढोरा गाँव के...

  • सिलाई-कढ़ाई से संवार रही ग्रामीण महिलाओं की जिंदगी

    कहते हैं कि मंज़िलें उन्हें मिलती हैं जो ठोकर खाने से गुरेज़ नहीं करते.. उन्हे नहीं जो सिर्फ रास्तों के मुश्किल होने की शिकायत करते रहते हैं। रास्ते तो बाराबंकी की सौम्या तिवारी के लिए भी आसान नहीं थे, लेकिन सौम्या ने हार नहीं मानी। अपने ख्वाबों को खुद पंख दिये, खुद उड़ना सीखा और आज वो इस काबिल हैं...

  • दीमक के प्रकोप ने किसानों की उड़ा दी नींद

    स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्टबाराबंकी। किसान फसलें उगाने के लिए बड़ी मेहनत करते हैं। फसलें उगाने के लिए उन्हें काफी पैसा भी खर्च करना पड़ता है, लेकिन मिट्टी में पनपने वाले दीमक और फफूंदी फसलों को नष्ट कर देते हैं, जिससे किसानों की फसल नष्ट हो जाती है।दीमक एक ऐसा कीट है, जिस वस्तु या किसी खेत में लग जाए...

  • बाराबंकी : खर्च हुए कम दिखाया ज्यादा, हाकिम की नज़रें हुई टेढ़ी तो घेरे में आ गए प्रधान और सचिव  

    वीरेंद्र शुक्ला, कम्युनिटी जर्नलिस्टबाराबंकी। ब्लॉक सूरतगंज के ग्राम पंचायत सरसंडा में निर्माण कार्यों में अनियमितता को लेकर ग्राम प्रधान को डीएम ने नोटिस जारी कर दिया है। लगभग 39,000 के घपले का मामला सामने आया है। इसका एक सप्ताह में जवाब देने को कहा गया है। जवाब संतोषजनक न मिलने पर कार्रवाई की...

Share it
Top