पानी का निकास न होने से घरों में घुसने लगा गंदा पानी 

पानी का निकास न होने से घरों में घुसने लगा गंदा पानी गंदे पानी से होकर हैंडपंप से भरते हैं लोग पीने के लिए पानी

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। बरसात ने गाँव में प्रधानों द्वारा कराए गए कार्यों की पोल खोल दी है। निरंगजनापुर गाँव में पहली बरसात से ही गंदा पानी घरों में घुसने लगा। पीने का पानी भरने के लिए लोगों को गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ रहा है।

जिला मुख्यालय से 36 किलोमीटर दूर गांव निरंजनापुर में पहली बरसात होने से घरों में पानी घुसने लगा है। गाँव की कुद गलियों का तो प्रधान ने निर्माण करा दिया कुछ नहीं कराया। प्रधान द्वारा निर्माण कार्य कराया गया और न कराया गया बराबर है। जिन गलियों में मिट्टी नहीं डलवाई तो उनमें भी बरसात के पानी के साथ तालाबों का पानी गांव में घुस रहा है।

जहां नहीं बनी है वहां तो आ ही रहा है। बरसात के पानी के साथ तालाब का पानी घरों में घुसने लगा है। इससे लोगों की परेशानी बढ गई है। गांव में लगे हैंडपंपों के आस-पास भी तालाब का पानी इकटठा हो चुका है। इससे लोगों को तालाब के पानी से घुसकर पीने के पानी को लाना पडता है। पीने का पानी भरने के लिए लोगों को काफी मशक्कत उठानी पडती है।

गांव के निवासी अवनीश कुमार (28वर्ष) का कहना है “प्रधान ने गाँव में जो गलियां बनवाई हैं उनमें सही से मिटटी नहीं डलवाई है।वह अधिक नीचे है, इसलिए बरसात में तालाबों का गंदा पानी गली से होकर घरों में घुसने लगता है।”

इस संदर्भ में ग्राम प्रधान राधा देवी का कहना है, “ग्राम पंचायत के खाते में कोई ऐसा धन नहीं आता है जिससे वह पानी की निकासी कराए। लोग खुद अपने घरों के सामने व्यवस्था करें जो पानी न आए।”

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top