Ishtyak Khan

Ishtyak Khan

रिपोर्टर और जिला कॉर्डिनेटर स्वयं प्रोजेक्ट, औरैया, उत्तर प्रदेश


  • दूल्हों का नहीं कोई ठिकाना, शौचालय कैसे भेंट करेगी सरकार 

    औरैया। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत औरैया में फरवरी माह में 47 जोड़ों ने शादी की, सरकार ने सभी को भेंट के रूप में शौचालय के लिए धनराशि देने का ऐलान किया है। मगर सरकार के पास दूल्हों के घरों का पता नहीं है, ऐसे में शौचालय दिए जाए तो किसे।ये भी पढ़ें- यूपी: मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से...

  • मुनाफे की खेती बन रही है पुदीना की फसल 

    औरैया। न कीड़े लगने का डर, न ही बरसात के पानी का डर। यही कारण है कि पुदीना की फसल के प्रति किसानों का रुझान बढ़ रहा है।जड़ की बुवाई होने के बाद फसल 60 से 70 दिन में बाजार में पहुंच जाती है। इस फसल में किसी प्रकार का कोई रसायन नहीं डालना पडता है। यह मेथी की तरह तीन से चार-बार काटा जाता है। बाजार में...

  • ये किसान करता है वैज्ञानिक विधि से खेती, एक बार में उगाता है आठ फसलें

    वैज्ञानिक विधि से खेती करने से किसानों को काफी मुनाफा हो रहा है। वहीं किसानों में बहुफसली का चलन तेजी से बढ़ रहा है। जिले का एक युवा किसान एक साथ कई फसले तैयार कर मुनाफा कमा रहा है। इसके साथ ही वह अन्य लोगों को भी बहुफसली खेती के लिए प्रेरित कर रहा है।ये भी पढ़ें- कांट्रैक्ट फार्मिंग के लिए बनेगा...

  • एक लाख से अधिक आबादी वाले शहरों को अमृत योजना का मिलेगा लाभ

    यूपी के जिन शहरों की आबादी एक लाख से अधिक है उन कस्बों और शहरों में अमृत योजना के तहत पेयजल से जूझ रहे लोगों को निजात मिलेगी। कानपुर, झांसी, आगरा, अलीगढ सहित प्रदेश के सभी मंडलों के जिलों से उन नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों का चयन किया गया है जहां की आबादी एक लाख से अधिक की है।ये भी पढ़ें- विश्व बैंक...

  • यूपी में मूंगफली की खेती करने वाले किसानों को मुफ्त मिलेगा बीज

    औरैया। दलहनी और तिलहनी फसलों को प्रदेश में बढावा देने के लिए किसानों को जहां आधे रेट पर बीज दिया जा रहा है वहीं मूंगफली का बीज नेशनल आयल आॅन आयल सीडस एंड आयल पाम (एनएमओओपी) योजना के द्वारा निशुल्क दिया जा रहा है।पूरे प्रदेश में मूंगफली की खेती का लक्ष्य 95 हजार हेक्टेयर का रखा गया है। इसके लिए...

  • यूपी बोर्ड की पांच करोड़ उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन शुरू

    औरैया। यूपी बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन पूरे प्रदेश में शनिवार से शुरू हो गया। प्रदेश में पांच करोड़ उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन होना है। जिसके लिए 86 हजार शिक्षकों को लगाया गया है और 248 मूल्यांकन केंद्र बनाये गये हैं। मूल्यांकन का कार्य पांच अप्रैल तक चलेगा।जिले में आई साढे 7 लाख...

  • प्रदेश में चार लाख 76 हजार पशुओं का होगा टीकाकरण, अभियान शुरू

    औरैया। जिन बीमारियों से पशुओं की असमय मौत से किसानों को आर्थिक तंगी से जूझना पड़ता है। उनसे निपटने के लिए प्रदेश में टीकाकरण अभियान शुरू हो चुका है। 15 मार्च से शुरू हुआ अभियान 30 अप्रैल तक चलेगा। जिसमें पूरे प्रदेश के 4 लाख 76 हजार पशुओं का टीकाकरण किया जायेगा। प्रदेश के प्रत्येक जिले में अभियान...

  • मूंग और उड़द की खेती करने वाले किसानों को आधे दाम पर मिलेगा बीज

    मूंग और उड़द की खेती करने वाले किसानों को प्रदेश सरकार ने आधे रेट में बीज देने का फैसला किया है। पूरे प्रदेश में मूंग और उड़द के लिए 136100 हेक्टेयर का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।औरैया। उत्तर प्रदेश में मूंग और उड़द की खेती करने वाले किसानों को पिछले वर्ष की अपेक्षा इस साल सस्ता और आधे रेट पर बीज...

  • मछली खाने के हैं शौकीन, तो खाने से पहले करें टेस्ट

    औरैया। यदि अगर आप मछली खाने के शौकीन हैं तो सावधान हो जाइए, क्योंकि हो सकता है आप केमिकल युक्त मछली नहीं खा रहे हों। जो आपकी सेहत पर भारी असर डाल सकते हैं। स्वास्थ्य और सेहत के प्रति सजग रहते हुए सरकार ने दो टेस्ट किट लांच की है जिससे टेस्ट करने के बाद ही मछली खाएं।कोच्चि के सेंट्रल इंस्टीटयूट आफ...

  • प्रदेश के 26 जिलों के पशु पालकों को मिलेगा मुफ्त में चारे का बीज

    औरैया। सूखा से ग्रसित क्षेत्रों में प्रदेश के 26 जिलों को शामिल किया गया है। सूखा घोषित जिले के पशु पालक किसानों को पशुओं के चारे के संकट से निपटने के लिए विभाग खाद और बीज निशुल्क दे रहा है। इसके लिए किसानों का चयन पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर किया जायेगा। पशु पालक किसानों को पशुओं के चारे के लिए...

  • इस योजना से मछली पालकों का होगा फायदा, जल्द करें आवेदन 

    मछली पालकों के लिए एक खुशखबरी है शासन की ओर से 'नीली क्रांति' योजना के लिए पात्र लाभार्थियों से आवेदन मांगे जा रहे हैं। योजना में 40 से 60 फीसदी अनुदान दिया जा रहा है।ये भी पढ़ें- महराजगंज में तैयार हो रहे वियतनामी पंगेसियस मछली के बीज  शासन की तरफ से 'नीली क्रांति' योजना तालाब सुधार, निवेश व नर्सरी...

  • बीहड़ में बंजर जमीन पर बबूल काट अब कर रहे एलोवेरा की खेती

    औरैया। जिले की यमुना पट्टी में बसे गाँव बीहड इलाका के नाम से जाने जाते है। वो बीहड़ की जमीन जहां लोग दिन में जाने से डरते हैं। वहां एक किसान ने बंजर जमीन में खड़े बबूल के पेड़ काट कर ऐलोवेरा लगाया की खेती शुरु की है, जिसमें सात लाख रुपए की लागत आई है।ये भी पढ़ें- एलोवेरा की खेती का पूरा गणित समझिए,...

Share it
Share it
Share it
Top