महंगा हो सकता है प्याज 

महंगा हो सकता है प्याज प्रदेश की मंडियों में पिछले एक सप्ताह से प्याज की आवक लगातार घट रही है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। प्रदेश की मंडियों में पिछले एक सप्ताह से प्याज की आवक लगातार घट रही है। साथ ही इस बार प्याज का रकबा भी घटा है जिस कारण साल के अंत तक कीमतों बढ़ोत्तरी संभव है।

उत्तर प्रदेश में प्याज मुख्य रूप से नासिक और हरियाणा राज्यों से आता है, पर इन राज्यों में फसल आखिरी चरण में हैं, जिससे वहां की मंडियों में प्याज की लोकल आवक घटी है। इसका असर उत्तर प्रदेश की मंडियों में आने वाली प्याज की आवक पर पड़ रहा है।

लखनऊ में सीतापुर रोड पर नवीन गल्ला मंडी में सब्जियों के बड़े प्यापारी राकेश गुप्ता ( 45 वर्ष) पिछले पांच वर्षों से मंडी में सब्जियों का व्यापार कर रहे हैं। राकेश बताते हैं,’’ पिछले एक हफ्ते से मंडी में प्याज की आवक कम हुई। प्याज की लोकल आवक तो अच्छी है, पर दूसरे राज्यों से आने वाली आवक लगातार कम हो रही है।’’देशभर की मंडियों में आने वाली आवक की निगरानी व उनके व्यापार के लिए केंद्र द्वारा शुरू किए गए वेब पोर्टल एगमार्कनेट के मुताबिक उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की मंडियों में 15 जनवरी से 20 जनवरी 2017 तक दूसरे राज्यों से आने वाली प्याज की आवक 737 टन थी, जो 31 जनवरी से दो फरवरी तक घट कर 407 टन हो गई है।

‘’ मंडियों में बाहरी राज्यों से आने वाली प्याज की आवक कम रहने के दो मुख्य कारण हैं, पहला इस समय नासिक व हरियाणा जैसे राज्यों में प्याज की पिछली फसल खेतों में आखिरी चरण पर है, इससे इन राज्यों से आने वाली प्याज की आवक कम हो रही है।’’ दिनेश चंद्रा सह निदेशक कृषि विदेश व्यापार एवं कृषि विपणन विभाग, उत्तर प्रदेश ने बताया। दूसरा कारण बताते हुए वो आगे कहते हैं,’’ इस समय प्रदेश में चुनाव का माहौल है, इसलिए बाहरी राज्यों से जो भी बड़े वाहन आ रहे हैं, उनकी चेकिंग होती है, जिससे समय रहते माल मंडी तक नहीं आ पाता इसलिए आवक दिन के हिसाब से कम रजिस्टर होती है।’’

कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के वर्ष 2016-17 के वार्षिक आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2016-17 में देश में प्याज का उत्पादन 197 लाख टन होने का अनुमान है, जबकि पिछले वर्ष देश में 209 लाख टन प्याज का उत्पादन हुआ था। मंडियों में प्याज की लगातार घट रही आवक से बड़े व्यापारियों को आने वाले महीनों में नुकसान सहना पड़ सकता है पर छोटे व्यापारी और फुटकर विक्रेताओं पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। ‘

‘पूरे भारत में महंगा हो सकता है प्याज’

आने वाले समय में प्याज की मंहगाई बढ़ने का दावा करते हुए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कृषि अर्थशास्त्री राकेश सिंह बताते हैं,’’ महाराष्ट्र पूरे देश में प्याज की खेती का केंद्र है। इस वर्ष महाराष्ट्र के साथ-साथ पूरे देश में प्याज का रकबा घटा है। इसका मुख्य कारण है इस वर्ष बहुत सस्ते दाम पर प्याज का बिकना। इससे साल के अंत तक प्याज में जबरदस्त महंगाई हो सकती है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top