Top

डेंगू से बचाव के लिए विभाग ने कसी कमर

Deepanshu MishraDeepanshu Mishra   23 March 2017 2:25 PM GMT

डेंगू से बचाव के लिए विभाग ने कसी कमरडेंगू जैसी संक्रमित बीमारियों के बचाव में की जा रही तैयारी।

दीपांशु मिश्रा, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। पिछले वर्ष लखनऊ में डेंगू से हुई मौतों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने अभी से ही तैयारी शुरू कर दी है। अंदेशा जताया जा रहा है कि इस बार डेंगू जैसी बीमारियों से लोगों की मौतें नहीं होंगी।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

पिछले साल कई इलाकों में डेंगू और कई संक्रमित बीमारियों से लोगों की मौत हो गई थी। फैजुल्लागंज में डेंगू से 90 से अधिक लोगों ने जान गंवाई थी। चिनहट, उदयगंज और इंदिरानगर सहित कई इलाकों में भी इसका प्रकोप रहा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (लखनऊ) डॉ जीएस बाजपेई ने बताया, “जिन इलाकों में पिछली बार डेंगू पाया गया था और जिन इलाकों के लोगों की डेंगू के कारण मौत हुई थी, उन इलाकों का एक नक्शा तैयार कर लिया गया है।जिन घरों के लोगों की डेंगू से मौत हुई थी, उनके घरों की और उनके आस-पास के घरों की नाम पता के साथ पूरी जानकारी बना ली गई है।”

मुख्य चिकित्साधिकारी लखनऊ) डॉ जीएस बाजपेई

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने आगे बताया, “लोगों के संपर्क में लगातार विभाग कार्य कर रहा है। इसके अलावा लोगों को जागरुक भी किया जा रहा है। मैसेज के द्वारा भी लोगों को ये बताया जा है कि वो अपना ध्यान रखें। जागरुकता के दौरान उनको ये भी बताया जा रहा है कि वो अपने घर के आस-पास सफाई रखें, कहीं पर भी पानी का भराव न होने दें। साफ़ पानी भी जमा न होने दें क्योंकि सभी संक्रमित बीमारियां गन्दगी के कारण ही होती है।”

सफाई का काम नगर निगम के ज़िम्मे

सीएमओ डॉ. जीएस बाजपेई ने आगे बताया, “लोग सफाई को लेकर खुद जागरुक नहीं है। उसके बाद बीमार होने पर गलती विभाग की दी जाती है कि स्वास्थ्य विभाग ने कुछ नहीं किया। इस वजह से लोग बीमार पड़ रहे हैं। पूरे शहर में वॉर्ड के हिसाब से एंटी लार्वा का छिड़काव भी किया जा रहा है। किसी भी बीमारी की सबसे बड़ी वजह होती है, सफाई जो कि नगर निगम का काम है। नगर निगम सफाई पर ध्यान दे तो लोग कम बीमार पड़ेंगे।”


ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.