दूध उत्पादन के साथ मिलावट में भी आगे है यूपी, जानें कितना मिलावटी दूध पी रहे हैं आप

दूध उत्पादन के साथ मिलावट में भी आगे है यूपी, जानें कितना मिलावटी दूध पी रहे हैं आपगर्मियों में दूध में मिलावट के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश दूध उत्पादन में अग्रणी राज्य होने के साथ-साथ दूध की मिलावट में भी सबसे आगे है। गर्मी का मौसम आते ही दुधारू पशुओं में दूध देने की क्षमता कम हो जाती है और यही कारण है कि गर्मियों में दूध में मिलावट के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं।

सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) के अध्ययन के अनुसार, देश में 68 फीसदी दूध मिलावटी है। इसमें 33 फीसदी दूध पैकेट में बंद कर बेचने वाली कंपनियों का है। उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन 7.71 लाख लीटर दूध का उत्पादन हो रहा है जो देश के दूध उत्पादन का करीब 18 फीसदी है फिर भी उत्तर प्रदेश सिंथेटिक (कृत्रिम) दुग्ध उत्पादन में सबसे आगे है। वहीं देश में सर्वाधिक नकली दूध भी उत्तर प्रदेश राज्य में तैयार किया जाता है।

ये भी पढ़ें- ये है गर्मियों में दूध उत्पादन बढ़ाने का रामबाण नुस्खा

संडीला औद्योगिक क्षेत्र में स्थिति अभिषेक डेयरी में पिछले कई वर्षों से नकली दूध बनाने का कारोबार चल रहा था। जब इसकी सूचना खाद्य सुरक्षा अधिकारी को लगी तो छापा मारा गया। डेयरी में नकली दूध बनाने के लिए 41 लाख रुपए से अधिक का कैमिकल जब्त किया गया है। इस डेयरी से तैयार दूध को कई बड़ी कम्पनियों को सप्लाई किया जाता था, जो पैक होकर बाजार में बिकता था। इस डेयरी में दूध का कलेक्शन किया जाता है और फिर इसे बड़ी फैक्ट्रियों में भेजा जाता था। कैमिकल में स्किम्ड मिल्क पाउडर व फार्मर फ्रेश ब्रांड की 500 बोरियां बरामद हुईं। इसके अलावा 12 टीन वनस्पति घी व एसिड क्लीनर की 70 बोतलें मिली थीं।

पं. दीनदयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं गो अनुसंधान संस्थान में आयोजित सम्मेलन में उत्तर प्रदेश के दुग्ध विकास मंत्री चौ. लक्ष्मीनारायण ने इस सच को स्वीकार करते हुए कहा था, “उत्तर प्रदेश सिंथेटिक (कृत्रिम) दुग्ध उत्पादन में सबसे आगे है। जीवन से खिलवाड़ करने वाले लोगों को ऐसा करने से रोकने के लिए बहुत ही सख्त कानून बनाए जाने की आवश्यकता है।’’ सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने वाला यह राज्य प्रति व्यक्ति दूध की आपूर्ति में अभी भी काफी पिछड़ा हुआ है, यहां प्रति व्यक्ति दूध का उत्पादन केवल 335 मिली है, जबकि हरियाणा में पर 877 मिली और पंजाब में 1032 मिली है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top