सपा और कांग्रेस में गठबंधन होने के आसार नहीं, कांग्रेस की 8 जीती सीटों पर प्रत्याशी उतारने के बाद बिगड़ी बात

सपा और कांग्रेस में गठबंधन होने के आसार नहीं, कांग्रेस की 8 जीती सीटों पर प्रत्याशी उतारने के बाद बिगड़ी बातरालोद के बाद कांग्रेस के साथ ही सपा का गठबंधन होने के आसार नहीं दिख रहे हैं।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच का गठबंधन खटाई में पड़ता नजर आ रहा है। सपा ने आज जारी अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट में उन सीटों पर भी प्रत्याशी उतार दिए हैं, जिन पर कांग्रेस के विधायक जीते हुए हैं। सपा ने साफ किया है कांग्रेस को सिर्फ 85 सीटें देंगे।

समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार को 191 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की है, जिसमें 8 वो सीटें भी शामिल हैं जिन पर कांग्रेस के उम्मीदवार विजयी हुए। उनमें कांग्रेस विधायक दल के नेता प्रदीप माथुर की मथुरा सीट भी शामिल है, साथ ही सपा ने रामपुर की जिस सीट स्वार पर आजम खां ने बेटे अब्दुल्ला आजम को टिकट दिया है वो भी कांग्रेस की जीती सीट थी। सपा की सूची आने के बाद कांग्रेस मुख्यालय में आपात बैठक बुलाई गई है। माना जा रहा है ऐसे माहौल में कांग्रेस के कई नेता गठबंधन के पक्ष में नहीं है। इसी बीच रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया ने कहा कि सपा को कांग्रेस से गठबंधन की जरुरत नहीं है।

इससे पहले समाजवादी पार्टी ने कहा कि चुनावी तालमेल को लेकर अब तक कोई सकारात्मक बात नहीं की है और सपा उसे कुल 403 में से केवल 85 सीटें ही दे सकती है। सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नन्दा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी का मुख्य मकसद आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराना है, इसके लिए कांग्रेस से गठबंधन की कोशिश की गई लेकिन उसकी तरफ से अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है।

ये भी पढ़ें-

समाजवादी पार्टी की 191 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, शिवपाल को जसवंतनगर और गोप को रामनगर से टिकट

समाजवादी पार्टी ने कहा, गठबंधन तभी संभव जब कांग्रेस 85 सीटों पर राजी हो


Share it
Top