Top

यूपी: 92185 महिला श्रमिकों को मिला मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना से लाभ

मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना के तहत लड़का पैदा होने पर एकमुश्त 20,000 और लड़की होने पर 25,000 रुपये की दी जाती है।

यूपी: 92185 महिला श्रमिकों को मिला मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना से लाभ

प्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश में 28 दिसम्बर 2018 से 30 जून 2021 तक 92185 महिला श्रमिकों को मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना से लाभ मिला है। योजना के तहत लड़का पैदा होने पर एकमुश्त 20,000 और लड़की होने पर 25,000 रुपये की दी जाती है।

उत्तर प्रदेश सरकार के मुताबिक मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना के अंतर्गत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में पिछले साढ़े तीन वर्षों में इस योजना में कुल 1,50,62,31,864 रुपए की धनराशि खर्च की जा चुकी है। योजना के तहत संस्थागत प्रसव की दशा में निर्धारित न्यूनतम वेतन की दर से 03 माह के वेतन के बराबर धनराशि के साथ 1000 रुपये चिकित्सा बोनस दिया जाता है। पंजीकृत निर्माण श्रमिक के अधिकतम 02 नवजात शिशुओं के लिए पौष्टिक आहार की मदद मिलती है।


उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत पुरुष श्रमिक की पत्नी को लड़का पैदा होने पर एकमुश्त 20,000 रुपये और लड़की होने पर 25,000 रुपये की धनराशि दी जाती है। बोर्ड में पंजीकृत महिला श्रमिकों को लड़का या लड़की पैदा होने पर यह धनराशि दी जाती है।

पुरुष कामगार की ओर से आवेदन किए जाने पर उनकी पत्नियों को मातृत्व हितलाभ के रूप में 6000 रुपये की धनराशि एकमुश्त दी जाती है जो पहले 02 किस्तों में दी जाती थी।

उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की वेबसाइट के मुताबिक 103.25 लाख मजदूर प्रदेश में पंजीकृत हैं। जिनमें से 12.01 लाख ने केवल 2021-22 में अपना पंजीकरण कराया है।


उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी बयान में कहा कि प्रदेश में योगी सरकार के गठन के बाद पूर्व में संचालित मातृत्व हितलाभ योजना के तहत 01 अप्रैल 2017 से मार्च 2020 तक 5,96,712,785 रुपये की धनराशि से 61535 लाभार्थियों को लाभ पहुंचाया जा चुका है। जबकि शिशु हितलाभ योजना में मार्च 2020 तक 1,32,36,32,000 रुपये की धनरशि व्यय कर 102129 लाभार्थियों को सीधे लाभ पहुंचाया गया। वहीं बालिका मदद योजना के तहत मार्च 2020 तक वर्तमान सरकार ने 8912 लाभार्थियों को 17,23,01,005 रुपये की धनराशि का लाभ पहुंचाने का काम किया है। बयान में यह भी कहा गया है कि इस योजना के जरिए न सिर्फ महिला श्रमिकों के जीवन स्तर में सुधार आया है बल्कि उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होने के साथ ही सामाजिक सुरक्षा का भी लाभ मिला है।

अगर आप मजदूर हैं और अपने उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में अपना पंजीकरण नहीं कराया है जो इस लिंक पर जाकर आप रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

अगर आप पंजीकृत मजदूर हैं और बोर्ड की योजनाओं का लाभ लेना चाहते हैं तो इस लिंक के जरिए आवेदन कर सकते हैं

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.