बीएचयू में छात्र नेता की गिरफ्तारी के बाद छात्रों का उपद्रव, पुलिस को सौंपे गये उपद्रवी छात्रों के नाम

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   21 Dec 2017 10:54 AM GMT

बीएचयू में छात्र नेता की गिरफ्तारी के बाद छात्रों का उपद्रव, पुलिस को सौंपे गये उपद्रवी छात्रों के नामबीएचयू में छात्र नेता की गिरफ्तारी के बाद छात्रों का उपद्रव

लखनऊ। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के छात्र नेता आशुतोष सिंह की गिरफ्तार के बाद विश्वविद्यालय का माहौल एक बार फिर अशांत हो गया। आशुतोष सिंह की गिरफ्तारी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों के साथ पुलिसकर्मियों की झड़प हो गई। जिसके बाद छात्रों ने कुछ गाड़ियों में आग लगा दी और कई के शीशे तोड़ दिए। प्रदर्शनकारी छात्रों ने कैंपस के अंदर स्थित एटीएम व कैंपस में कई जगह लगे सीसीटीवी कैमरों को भी तोड़ दिया। इसके बाद बीएचयू कैंपस में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया हैं।

बीएचयू के छात्रों द्वारा की गई गुंडागर्दी, तोड़फोड़ व आगजनी के मामले को चीफ प्राक्टर रोयाना सिंह ने गंभीरता से लिया है। चीफ प्राक्टर ने देर रात लंका पुलिस को दी सूचना में कहा कि छात्रों ने सीसी कैमरों को क्षतिग्रस्त करने के साथ ही महिला महाविद्यालय के समीप प्राक्टोरियल बोर्ड की गाड़ी क्षतिग्रस्त करने के बाद परिसर में विभिन्न स्थानों पर उत्पात मचाया।

ये भी पढ़ें- बीएचयू विवाद : “कुर्ते में हाथ डाला था, कोई कहां तक बर्दाश्त करे”  

छात्र नेता आशुतोष सिंह का समाजवादी युवाजन सभा से सम्बंध है। वह पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह के बेटे हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि आईआईटी बीएचयू के छात्रों के एक कार्यक्रम में बाधा पहुंचाने के आरोप में पुलिस ने आशुतोष को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद छात्र उग्र हो गए और तोड़फोड़ पर उतारू हो गए।

आशुतोष सिंह बीएचयू परिसर में चर्चा का विषय बने हुए हैं। आईआईटी बीएचयू में सांस्कृतिक कार्यक्रम में समर्थकों संग हंगामा, आईआईटी निदेशक के फेसबुक अकाउंट से छात्रों से गाली गलौज व सर सुन्दरलाल चिकित्सालय के चिकित्सा अधीक्षक के साथ फोन पर गाली गलौज का मामला चर्चा में है।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सितंबर 2017 में बीएचयू में एक बवाल हुआ जिस पर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा हुई थी। कथित रूप से छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की घटना का विरोध कर रहे छात्र-छात्राओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था, जिसके बाद कई दिनों तक आंदोलन चला था। बीएचयू देश के 43 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में से एक है।

वीडियो-पिछले दिनों, बीएचयू में हुई छेड़खानी के बाद हुआ था देशभर में हंगामा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top