देवां मेला के लिए प्रशासन ने कसी कमर, इस बार मेले में किसानों लिए होगी खास व्यवस्था

देवां मेला के लिए प्रशासन ने कसी कमर, इस बार मेले में किसानों लिए होगी खास व्यवस्थादेवा शरीफ।

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

बाराबंकी। हाजी वारिस अली शाह देवा शरीफ में आयोजित देवा मेला एवं प्रदर्शनी 06 अक्टूबर से 15 अक्टूबर 2017 तक आयोजित किया जा रहा है। मेले का शुभारम्भ जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी की पत्नी शान्ती तिवारी करेगी। इस वर्ष मेले का मुख्य पहल एक कदम स्वच्छता की ओर है। मेले को उत्कृष्ट बनाने के लिए शांति, सुरक्षा, सुव्यवस्था, स्वच्छता का विशेष प्रबन्ध किया गया है।

जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी ने सोमवार को अपने विचार पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सिंह के साथ लोक सभागार में प्रेस वार्ता के समय रखे। उन्होंने बताया कि देवा मेला को बहुउद्देशीय सन्देश देने वाले मेले के रूप में विकसित किया जा रहा है। मेले में प्रातः, सायं और रात्रि काल विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। स्थानीय प्रतिभाओं को सहभागी बनाने के प्रयास के साथ-साथ जनोपयोगी बनाने पर जोर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- गुलजार है देवा मेला का शिल्प बाजार

चुस्त होगी सुरक्षा व्यवस्था

मेले में उत्कृष्ट खान-पान के लिए फूड कार्नर, चिकित्सा व्यवस्था के लिए चिकित्सकों, पेयजल के लिए 38 हैण्डपम्प में से 19 अस्थाई हैण्डपम्पों की व्यवस्था की गयी है। 05 अग्नि शमन, प्रत्येक दुकान पर बालू पानी की व्यवस्था की जायेगी।

मेले में पुलिस बल की सुदृढ़ सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। सम्पूर्ण मेला 3 जोनों में बांटा गया है। जोन को 15 चौकियों में बांटा गया है तथा देवा मेला कोतवाली की भी व्यवस्था की गई है। मेले के लिए बाहर से भी पुलिस बलों की व्यवस्था की गई है। 200 कान्सटेबल, महिला पुलिस सिविल ड्रेस तथा गुण्डा समन दल घूम-घूम कर निगरानी रखेगा। मेले में वॉच टावर की भी स्थापना की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि देवा मेला की किसान गोष्ठी में किसानों की लागत कम रखते हुए उनकी आय दुगनी करने के सम्बन्ध में गोष्ठियां आयोजित होगी, जिससे किसान लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि मेले को सर्वागींण विकास से जोड़ने का प्रयास किया गया है।

यह भी पढ़ें- पर्यटन नक़्शे में शामिल होने के बावजूद विकास का इंतजार कर रहा देवा

पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि जायरीनों की सुविधाओं के लिए शौचालयों तथा मोबाइल ट्वायलेट की भी व्यवस्था की गई है। शौचालयों की सफाई हेतु 100 सफाई कर्मियों की ड्यूटी देवा मेला परिसर में लगायी गयी है। उन्होने बताया कि देवा मेला में आये हुए जायरीनों के रात्रि विश्राम के लिए पण्डाल की स्थापना की गयी है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए भी समुचित व्यवस्था की जा रही है।

खेती और रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Share it
Top