लखनऊ मेट्रो में भर्ती के नाम पर जालसाजी करने वाले गिरफ्तार

लखनऊ मेट्रो में भर्ती के नाम पर जालसाजी करने वाले गिरफ्तारहिरासत में अभियुक्त ।

गॉंव कनेक्शन संवाददाता

लखनऊ। राजधानी में बेरोजगारों से मेट्रो ट्रेन परियोजना में नौकरी के नाम पर लाखों रुपये ऐठने वाले एक गिरोह को सर्विलांस की मदद से विभूतिखंड पुलिस ने मंगलवार शाम गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि, अपने मित्र की जॉब कंसलटेंसी की मदद से बेरोजगार युवकों का रिज्यूम एकत्र कर, उन्हें अपना शिकार बना लाखों रुपये ऐठने का काम करते थे। वहीं एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, आरोपियों के पास से दो लैपटॉप, मानीटर, डेढ़ दर्जन अभ्यार्थियों के रिज्यूम सहित छह मोबाइल फोन बरामद हुए हैं। इन्हें कब्जे में लेकर आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

इसे भी पढ़े- आपकी रूह कंपा देंगी एसिड अटैक सर्वाइवर्स की ये 10 कहानियां

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि, राजधानी में बढ़ रही ठगी की घटनाओं के संबंध में एक शिकायत मिली थी। पीड़ित नवीन वाजपेयी ने अपने साथ हुई ठगी का मुकदमा तालाकटोरा थाने में दर्ज कराया था। इस शिकायत के आधार पर सर्विलांस टीम को लगाया गया था। सर्विलांस प्रभारी अमरेश त्रिपाठी को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई की मेट्रो ट्रेन परियोजना में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह विभूतिखंड थाना क्षेत्र में एक ऑफिस खोल लाखों रुपये ऐठने का काम कर रहा है।

लखनऊ मेट्रो

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस सूचना पर पुलिस ने दबिश देकर पांच लोगों को मौके पर पकड़ लिया, इनके पास से एक दर्जन से ऊपर रिज्यूम मिला। पुलिस की गिरफ्त में आये आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि, हम लोग राजधानी में संचालित मेट्रो ट्रेन रेल परियोजना में युवकों को नौकरी दिलाने के लिए कुछ रिज्यूम अपने परिचत के माध्यम से एकत्रित कर लेते थे। साथ ही साजिश के तहत सभी बेरोजगार युवकों से चार-चार लाख रुपये लेकर मेट्रो योजना में नौकरी दिलाने के लिए अपना जाल बिछाया था।

ये भी पढ़ें- ‘गले में गमछा डाले भाजपा के गुंडों से रहें सावधान’

इस जालसाजी में सफल होकर आरोपियों की मंशा करोड़ों रुपये कमा राजधानी से फरार होने की योजना थी, लेकिन वक्त रहते सभी आरोपियों को पुलिस ने धर-दबोचा। पुलिस की गिरफ्त में आये आरोपी जितेन्द्र सिंह, सुनील प्रताप सिंह, हिमांशु सिंह, ऋषभ सिंह और नीरज सिहं को जेल भेज दिया है। यह सभी आरोपी इंदिरानगर थाना क्षेत्र के हैं, जहां बचपन में सभी ने साथ में पढ़ाई की थी और जल्द अमीर बनने के सपने को पूरा करने के लिए जरायम की दुनिया में कदम रख दिया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top