ऋषि परंपरा का प्रसाद है योग: सीएम योगी 

Jitendra TiwariJitendra Tiwari   16 Jun 2017 11:05 AM GMT

ऋषि परंपरा का प्रसाद है योग: सीएम योगी गोरखपुर में योग शिविर में योगी आदित्यनाथ 

गोरखपुर। गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में गुरुवार को योग शिविर का शुभारंभ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया। इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून से पूर्व योग के बारे में विस्तार से चर्चा करने के लिए यह शिविर आयोजित किया गया है। योगी ने कहा कि योग भारत की प्राचीन विद्या है। ऋषि परंपरा का प्रसाद है योग। इस अद्भुत विद्या को पीएम मोदी के कारण विश्व में पहचान मिल पायी है। सीएम योगी ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पीएम मोदी ने योग को बढ़ावा देने के लिए लोगों से आग्रह किया है। इस बार भारत सहित 200 देशों में योग मनाया जाएगा।

ये भी पढ़ें- यूपी में दबंगों ने फूंका एक दलित का घर

दुनिया में मशहूर हुआ योग

सीएम ने कहा कि पिछले दो वर्ष से योग प्रशिक्षण के साथ हमने शिक्षा जगत को लेकर भी चर्चा की है। योग भारत की देन है, दुनिया भारत की इस प्राचीन विद्या के पीछे भाग रहा। दुनिया जान रही कि हम स्वस्थ होने के साथ आध्यात्मिक दृष्टि से भी स्मृद्ध होंगे। योगी ने कहा कि 15 मिनट के प्राणायाम में काफी लाभ है। 5 मिनट का ध्यान 1 घण्टे के योग पर भारी है। शारीरिक आध्यात्मिक दृष्टि से योग महत्वपूर्ण हैं। योग दिवस पर इसे आप सब व्यापक स्तर पर फैलाएं। इसे आप सब जनांदोलन बनाएं।

ये भी पढ़ें - किसानों को दी आधुनिक खेती की जानकारी

प्रधानमंत्री मोदी उस दिन लखनऊ में रहेंगे, केंद्रीय मंत्री भी कई जगह रहेंगे। योगी ने लोगों से निवेदन किया कि गोरखपुर के हर पार्क में उस दिन योग हो। प्रशासन की ओर से उस दिन विश्वविद्यालय में कार्यक्रम होगा। कोई न कोई मंत्री उस इस शहर में मौजूद रहेगा। योगी ने संबोधन की समाप्ति वंदेमातरम् बोल कर किया। उड़ीसा से आये महंत शिवनाथ ने बताया कि योग से तीन फायदे गिनाए। शारीरिक, मानसिक व अध्यात्मिक शांति मिलेगी। इस मौके पर पूर्व कुलपति प्रो. यूपी सिंह, राम अचल सिंह, कुलपति विजय कृष्ण सिंह और श्रीनिवास सिंह माजूद रहे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top