डीडी किसान चैनल ने किया कृषि संगोष्ठी का आयोजन

डीडी किसान चैनल ने किया कृषि संगोष्ठी का आयोजन2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने से सम्बंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई।

बाराबंकी। सोमवार को देवा ब्लाक के दफेदारपुरवा में दूरदर्शन केंद्र लखनऊ और डीडी किसान चैनल की ओर से कृषि संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने से सम्बंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। प्रगतिशील किसान मोईनुद्दीन के फार्म हाउस पर आयोजित वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने विषयक संगोष्ठी में अपर निदेशक कृषि एमए सिद्दीकी ने कहा कि किसान परंपरागत खेती के स्थान पर खेती की नवीन पद्धतियों को अपनाएँ जिससे फसली आय बढ़ने में सहायक होगी। उपनिदेशक कृषि डॉक्टर चंद्रप्रकाश ने कहा कि किसान कृषि उत्पादन बढाकर लागत कमकर एवं सही विपणन के द्वारा अपनी आय बढ़ा सकते हैं।

ये भी पढ़ें- किसान का दर्द: “किसी फैक्ट्री में स्क्रू बनता है, उसके मालिक को मुनाफा पता होता, हम किसानों को फसल का रेट नहीं पता होता”

इसके लिए बिचौलियों से मुक्त बाजार में अपनी फसल बेचनी पड़ेगी। जिला उद्यान अधिकारी जयकरन सिंह ने कहा कि प्रायः किसान आलू की पुरानी प्रजातियों को बोते हैं। जिससे उन्हें फसल का उचित मूल्य नहीं मिल पाता। किसान नवीन प्रजातियों को बोकर अपनी आय बढ़ा सकते हैं। गोष्ठी में मुख्य पशु चिकित्सक सुभाष चंद्र जायसवाल ने कहा कि आजकल आवारा पशुओं की समस्या से किसान त्रस्त है। जो लोग गौशाला खोलना चाहते हैं सरकार उन्हें अनुदान दे रही है। सरकार ने ऐसे सीमेन का विकास किया है।

ये भी पढ़ें- बिना जुताई के जैविक खेती करता है ये किसान, हर साल 50 - 60 लाख रुपये का होता है मुनाफा, देखिए वीडियो

जिससे बछिया है पैदा होगी इस प्रकार आने वाले समय में आवारा पशुओं से निजात मिल जायेगी। प्रगतिशील किसान मुईनुद्दीन ने कहा कि किसान धान गेहूं के बजाय फूल फल व सब्जियों की खेती करे जिससे उनकी आय बढ़ सकती है। इसके साथ-साथ मिटटी की जांच भी कराते रहे।गोष्ठी में ,गन्ना शोध परिषद शाहजहाँपुर के प्रसार अधिकारी संजीव पाठक, अपने विचार रखें। इससे पहले दूरदर्शन लखनऊ के उप महानिदेशक अभियांत्रिकी प्रेमप्रकाश शुक्ल और कार्यक्रम प्रमुख रमा अरुण त्रिवेदी ने वक्ताओं का स्वागत किया। गोष्ठी में किसानों की समस्याओं का भी समाधान किया गया।

खेती और रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top