देश में बढ़ रहा है यूपी पुलिस का रुतबा, अब मिले ये शानदार सम्मान

देश में बढ़ रहा है यूपी पुलिस का रुतबा, अब मिले ये शानदार सम्मानसम्मान ग्रहण करते एडीजी अनिल अग्रवाल और महिला सम्मान प्रकोष्ठ की डीजी सुतापा सन्नयाल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर उठते सवालों के बीच देशभर की पुलिसिंग में यूपी पुलिस का रुतबा बढ़ रहा है। तकनीकि का बेहतर इस्तेमाल कर पुलिस ने कई बड़े सम्मान अपने नाम कर चुकी यूपी पुलिस को अब फिक्की और विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन ने सम्मानित किया है।

ये सम्मान महिलाओं की मदद में बेहतर मुकाम हासिल करने वाले विकल्प पोर्टल, (महिला सम्मान प्रकोष्ठ), इमरजेंसी में लोगों की सहायक बन रही यूपी ड़ायल 100 सेवा और तकनीकि से कदमताल करती ट्विटर सेवा को दिया गया है। दिल्ली में आयोजित समारोह में महिला सम्मान प्रकोष्ठ की डीजी सुतापा सान्याल, यूपी 100 के लिए एडीजी अनिल अग्रवाल और ट्विटर सेवा के लिए संजय सिंघल (आईपीएस)को सम्मानित किया गया। इस दौरान एसीपी राहुल श्रीवास्तव भी मौजूद रहे।

वर्ष 2016 में पूर्व डीजीपी जवीद अहमद की अगुवाई में यूपी पुलिस ने लोगों तक सीधी पहुंच बनाने, थानों में भीड़ कम करने और डिजिटलाइजेश की राह पर चलते हुए ट्वीटर सेवा की शुरुआत की थी।

ट्विटर सेवा को अवार्ड देने वाली संस्था डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन के हेड ओसामा मंजर कहते हैं, “यूपी पुलिस ने एक सार्वजनिक मंच पर पुलिस तक आम जनता की पहुंच को आसान बनाने का एक अभूतपूर्व काम कर दिखाया है। यह लोगों की शिकायतों को सुलझाने के लिए और लोगों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को पूरा करने का एक अच्छा प्रयास है। ये सामुदायिक पुलिस व्यवस्था का एक बढ़िया उदाहरण है।”

ये भी पढ़ें : यूपी की हाईटेक पुलिस को ट्विटर से बदलाव लाने के लिए मिला सोशल मीडिया एम्पावरमेंट अवार्ड

यूपी पुलिस की टि्वटर सेवा शहर के लोगों को ही नहीं, बल्कि गांव के लोगों को भी पुलिस की सहायता तुरंत पहुंचा रही है। जब से यूपी पुलिस ने टि्वटर सेवा शुरू की है, तबसे एक तरफ जहां पुलिस का लोगों की समस्याओं के प्रति पहले से ज्यादा जबावदेह बनी है, वहीं लोगों को न्याय भी जल्दी मिलने लगा है।

पुलिस के अधिकारी भी टि्वटर सेवा में पब्लिक की बढ़ती भागीदारी से खुश हैं। उनका कहना है यूपी पुलिस की टि्वटर सेवा ने पुलिस और पब्लिक के बीच की दूरी को कम किया है। यूपी पुलिस की टि्वटर सर्विस की सेवा की देखरेख के प्रति लोगों ने बताया कि एक दिन में 50 से लेकर 100 ज्यादा ट्वीट सिर्फ गांव से आ रहे हैं।

पुलिस की सलाह, समस्याओं को फोटो क्लिक करके भेजें

टि्वटर सर्विस में शब्दों की एक सीमा है। इसमें मैसेज करते हुए 140 से ज्यादा शब्दों को नहीं लिख सकते हैं। ऐसे में जब गांव के लोग ट्वीट करते हैं तो उनको शब्दों की लिमिट नहीं पता होती और उनका ट्वीट पूरा नहीं आ पाता है। ऐसे लोगों को यूपी पुलिस के टि्वटर हैंडलर से जुड़े लोगों ने सलाह दी है कि लोग अपनी शिकायत या समस्याओं को लिखने की बजाए उसकी फोटो क्लिक करके भेजें। क्योंकि टिवटर में एक इमेज में 8 से ज्यादा शब्द नहीं होते हैं ऐसे में लोग इसके जरिए अपनी बात को बेहतर तरीके से ट्वीट करके बता सकते हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top