लखनऊ में यूपी के पहले पुलिस विश्‍वविद्यालय बनाने की चल रही है योजना 

लखनऊ में  यूपी के पहले पुलिस विश्‍वविद्यालय बनाने की चल रही है योजना प्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ। यूपी में पहला पुलिस विश्वविद्यालय राजधानी के सरोजनी नगर इलाके में स्थित पिपरसंड में बनेगा। इसके लिए पूरा खाका तैयार करने की जिम्मेदारी पुलिस की ट्रेनिंग शाखा को दी गई है। शनिवार को गुजरात के रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय के डायरेक्टर जनरल के साथ डीजीपी की मीटिंग के बाद इस काम में तेजी आई है।

ट्रेनिंग शाखा के एक अधिकारी का कहना है कि पुलिस विश्वविद्यालय के लिए पहले से प्रक्रिया चल रही थी, लेकिन काफी धीमी गति से काम हो रहा था। अब डीजीपी ने दिलचस्पी दिखाई है और पुलिस से संबंधित देश की इकलौती यूनिवर्सिटी (रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय) के साथ मिलकर प्लान तैयार किया जा रहा है।

सूत्रों का कहना है कि पुलिस विश्वविद्यालय में 12वीं के बाद सिक्योरिटी मैनेजमेंट में बैचलर ऑफ आर्ट, पुलिस साइंस डिप्लोमा, साइबर सिक्योरिटी के स्पेशलाइजेशन के साथ कंप्यूटर साइंस एंड टेक्नोलॉजी विषय से बी-टेक आदि के कोर्स कराए जाएंगे।

ये भी पढ़ें-यूपी में 1 दिसंबर से नए अंदाज में दिखेगी ट्रैफिक पुलिस, डीजीपी ने जारी किया निर्देश

यही नहीं, स्नातक के बाद पीजी डिप्लोमा इन पुलिस साइंस, पीजी डिप्लोमा इन इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी, पीजी डिप्लोमा इन साइबर फोरेंसिक, क्रिमनॉलजी, पुलिस एडमिनिस्ट्रेशन से एमए, क्राइम सिक्योरिटी लॉ विषय से मास्टर इन लॉ, साइबर सिक्योरिटी विषय से एम-टेक के डिग्री कोर्स शुरू कराए जाएंगे।

तीन से चार साल तक का लगेगा समय

हालांकि, यह काम अभी शुरुआती चरण में है। मगर, सरकार दिलचस्पी दिखाती है तो भी विश्वविद्यालय बनने में कम से कम दो- तीन साल का समय लगेगा। ट्रेनिंग विंग के अधिकारियों के अनुसार, वे इसके लिए पहले से तैयारी कर रहे हैं। उनके पास ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट है।

विश्वविद्यालय के लिए काफी चीजें शासन स्तर से और सरकार में बैठे लोग तय करते हैं। इसके लिए पुलिस एक्ट में संशोधन करना होगा, जो विधानमंडल के दोनों सदनों और राज्यपाल की सहमति के बिना मुमकिन नहीं है। यह सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद बजट की व्यवस्था और ढांचा खड़ा करने में समय लगेगा।

ये भी पढ़ें-दो रुपए के सिक्के से ट्रेन को रोक कर करते थे लूट-पाट, पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस प्रशिक्षण संस्थान के लिए 144 एकड़ जमीन सरोजनीनगर में उपलब्ध है। इसलिए ज्यादा संभावना है कि इसी क्षेत्र में पुलिस विश्वविद्यालय बने। गुजरात से आए 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी और अहमदाबाद स्थित रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय के डीजी विकास सहाय जल्द ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात करेंगे और यूपी में पुलिस विश्वविद्यालय क्यों जरूरी है, इस बारे में चर्चा करेंगे।

ये भी पढ़ें-यातायात के नियमों का पालन कराने के लिए यूपी पुलिस ले रही सुपरमैन का सहारा

Share it
Top