‘निचले स्तर तक बुनियादी सुविधायें मिले, इसलिये चुनाव में उतरा’   

‘निचले स्तर तक बुनियादी सुविधायें मिले, इसलिये चुनाव में उतरा’    फोटो साभार: टि्वटर

बरेली/बाराबंकी/लखीमपुर खीरी (भाषा)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि वह निकाय चुनावों में इसलिए सक्रिय हुए हैं, ताकि निचले स्तर तक निकायों को ताकत मिले और बुनियादी सुविधाएं नीचे तक पहुंच पाएं। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने निकायों को कमजोर किया, जिससे शहरों का विकास नहीं हो पाया।

विरासत में मिली खराब कानून व्यवस्था

योगी ने शनिवार को बरेली में निकाय चुनाव के प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित सभा में कहा, “प्रदेश में हमें खराब कानून व्यवस्था चलाने को विरासत में मिली थी। पूर्व की सरकार दंगा कराने में विश्वास रखती थी। दंगों से उद्योग का पलायन हुआ।“ उन्होंने कहा, “वह स्वयं निकाय चुनावों में इसलिए सक्रिय हुए हैं ताकि निचले स्तर तक निकायों को ताकत मिले और बुनियादी सुविधाएं नीचे तक पहुंच पाएं।“

दिसंबर से चलेगा भू-माफिया के खिलाफ अभियान

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, “दिसंबर से भू-माफिया के खिलाफ अभियान चलेगा। प्रदेश में 1,53,000 भू-माफिया चिन्हित हुए हैं, जिन्होंने सरकारी व्यापारियों की और किसानों की जमीन पर कब्जा कर लिया है। स्थानीय निकायों के विकास का रोडमैप तैयार हो गया है। अब इसी रोडमैप से स्थानीय निकायों का विकास होगा। अब राजनीतिक ध्रुवीकरण नहीं होगा।“

युवा अभी से कर लें तैयारियां

सीएम योगी ने कहा, “आठ महानगरों में मेट्रो सेवा शुरू कराई जाएगी। बरेली में औद्योगिक विकास के साथ सड़कें चौड़ी होंगी, एक लाख शिक्षकों समेत 4 लाख भर्तियां की जाएंगी। 50 हजार पुलिस भर्ती होगी, इसके लिए युवा अभी से तैयारी कर लें।“ उन्होंने कहा, “प्रदेश में जल्द नई फेरी और औद्योगिक नीति लागू हो जाएगी। प्रदेश में नए उद्योग-धंधे लगेंगे और दस लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा। सड़कों से कब्जे हटेंगे।“

अब किसी से भेदभाव नहीं

इससे पहले बाराबंकी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, “उनकी सरकार बोलती कम है, काम ज्यादा करती है। हमारी सरकार ने भूमि के अवैध कब्जे को मुक्त कराने के लिए एंटी भू-माफिया टॉस्क का गठन किया है। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गत 15 वर्षो में प्रदेश को नरक जैसा बना दिया था, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चलाये गये स्वच्छता अभियान के बाद से प्रदेश में सड़क, जल निकासी, लाइट, नालों की सफाई के कार्य युद्ध स्तर पर चलाये जाने से जनता को नारकीय जीवन से मुक्ति मिल रही है। अब बिना भेदभाव के महादेवा एवं देवा दोनों जगहों पर लाइट उपलब्ध है। बाराबंकी जिले में महादेवा में भव्य शिव मंदिर है जबकि देवां शरीफ की मजार भी मशहूर है।“

आठ माह में कोई भी दंगा-फसाद नहीं

मुख्यमंत्री ने अपराधियों और उपद्रवियों के खिलाफ सख्त रुख अपनाकर, अपराध रोकने और कानून का राज स्थापित करने का दावा करते हुए कहा, “पिछले आठ माह से प्रदेश में एक भी जगह दंगा-फसाद नहीं हुआ है। यही कारण है कि व्यापारी प्रदेश में पुन: वापस आकर अपने व्यापार की शुरुआत कर दी है।“ उन्होंने कहा, “कानून न मानने वाले प्रदेश व जिला छोड़कर बाहर चले जाये। इससे पहले अवैध बूचड़खाना, खनन बन्द किए जाने की कार्रवाई की है।“

पटरी दुकानदारों को हटाएंगे नहीं

उन्होंने कहा, “भूमाफिया जो गरीब जनता या सरकारी भूमि पर कब्जा कर रहे हैं। उन पर कार्रवाई करने के लिए एंटी भूमाफिया टीम का गठन कर अवैध कब्जेदारों के विरुद्ध सख्त रवैया अपनाया जाएगा। नगर विकास के लिए पटरी दुकानदारों को हटायेंगे नहीं, बल्कि उन्हें दूसरी जगह स्थापित किया जाएगा, जिस प्रकार दीपावली पर पूरी अयोध्या जगमगा रही थी, ठीक उसी प्रकार नगर निकायों व टाउन एरिया में भी एलईडी की लाइटें जगमगायेंगी। इसका बोझ जनता पर नहीं पड़ेगा।“

बाढ़ नियंत्रण के लिए 500 करोड़ का बजट जारी करेंगे

कार्यक्रम के दौरान दो दर्जन से ज्यादा सहायक अध्यापकों ने नियुक्ति की मांग करते हुए पोस्टर आदि लेकर सभास्थल पर मुख्यमंत्री के सामने प्रदर्शन किया जिन्हें पुलिस ने शांत कराया। लखीमपुर खीरी में निकाय चुनाव की जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “खीरी में दिसंबर के बाद बाढ़ नियंत्रण के लिये परियोजना शुरू की जायेगी, जिसके लिये 500 करोड़ रुपये का बजट जारी किया जायेगा।“

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के दूसरे चरण का मतदान रविवार को होगा

निकाय चुनाव दूसरा चरण : पहली बार 30 ड्रोन कैमरों से रखी जाएगी पैनी नजर

उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव : सौ साल में पहली बार एक महिला बनेगी लखनऊ की मेयर

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top