नगर पालिका चेयरमैनी के लिए तीन दर्जन उम्मीदवार ठोंक रहे ताल

नगर पालिका चेयरमैनी के लिए तीन दर्जन उम्मीदवार ठोंक रहे तालनगरपालिका चुनाव।

वेदव्रत गुप्ता।

जसवंतनगर। नगर पालिका के चुनाव इतिहास में पहली बार अनुसूचित जातियों (दलित) के लिए आरक्षित हुई जसवंतनगर की नगर पालिका अध्यक्षी के लिए उम्मीदवारी के रूप में रोज नए नये नाम उभर रहे हैं । अब तक 38 से ज्यादा उम्मीदवारों के नाम उभरे हैं ।

दरअसल पहले हुए चुनावों में सीट प्रायः सामान्य, पिछड़े या महिला वर्ग के लिए आरक्षित रहती थी और समाजवादी पार्टी के इस गढ़ में लोग उम्मीदवार बनने की दावेदारी करने से पहले खूब सोच विचार करते थे। अब ऐसी बात नही रही है, इसलिये रोज नाम उछल रहे हैं।

दलित वर्ग की जातियों जाटव, कठेरिया, कोरी, बाल्मीकि,धोबी,खटीक, कंजड़ आदि में से उम्मीदवार उतरने हैं । इन जातियों के प्रभावशाली और गैर प्रभावशाली दोनों ही दम भर रहे। कोरी, शंखवार वर्ग से ही अकेले एक दर्जन उम्मीदवारों ने अपने लिए बाकायदा वोट मांगना और पैर छुआई शुरू कर दी है ।

इस समाज के सत्यनारायण शंखवार उर्फ पुद्दल, जो दिल्ली में व्यापार करते हैं , वे अध्यक्ष बनने की आश में दिल्ली छोड़ यहीं डेरा डाल दिया है । नोटरी लेखक सत्यभान शंखवार ,दाता राम शंखवार,संतोष शंखवार विक्रम शंखवार, मुन्नालाल माहौर , गिरजा शंकर शंखवार मिस्त्री आदि तो महीनों से प्रचार माहौल बंनाने में जुटे हैं ।पुद्दल और संतोष ने बाकायदा सपा टिकट के लिए दावेदारी ठोंकी है ।

25 हजार वोटर करेंगे फैसला

पालिका अध्यक्ष पद का फैसला जसवंतनगर कस्बे के 25099 मतदाता करने वाले है। जबकि कोरी समाज के मात्र 1200 वोटर हैं । दिवाकर यानी धोबी समाज के मुश्किल से 800 वोट हैं , मगर अभी तक पूर्व सभासद शिव नारायण उर्फ पप्पू दिवाकर , राजेन्द्र दिवाकर, अजय दिवाकर, अजित दिवाकर , आदि पार्टियों से टिकिट पाने की जुगत में एड़ी चोटी का पसीना बहा रहे हैं ।बताया गया है कि बीजेपी सगे भाइयों अजित और अजय दिवाकर के नामों पर विचार कर रही हैं । पप्पू दिवाकर पर नगर के एक बड़े सपा थिंक टैंक का हाथ रखा है ।

परिसीमन से जाटवों के वोटों में इजाफा

इस बार ग्राम सभा सिसहाट और कैस्थ के परिसीमन में जुड़ जाने से जाटव ब्रादरी के मत 2000 से ज्यादा हो गये हैं ।इसलिए इस समाज मे भी अध्यक्ष की कुर्सी की आश जागी है । नगर के सीनियर एडवोकेट रामशंकर जाटव,पालिका में कर्मी साहब सिंह वर्मा , सुनील कुमार मीटर रीडर अन्य उभरे नामों में सबसे ज्यादा गम्भीर उम्मीदवार हैं । खुद पालिका अध्यक्ष के लिए कई महीनों से प्रचाररत रहे दुष्यंत सिंह यादव भूरे आरक्षण से गुस्साए अपने गांव सिसहाट के किसी जाटव को उतारकर धमाका कर सकते हैं ।

कंजड़ जाति, जिसके बमुश्किल 600 वोट हैं , उससे भी ,शैलेन्द्र कबाड़ियाऔर मनीष,के नाम ,बेड़िया जाति से सुनील जौली,बाल्मीकि समाज से राजू बाल्मीकि, राम सनेही की दावेदारी है, जबकि कठेरिया जाति के प्रेमेंद्र छाओआ, प्रमोद कुमार आदि के नाम उभरे है । खटीक समाज से बकरी बाजार ठेकेदार अरविन्द्र कुमार नेतू, भगवान सिंह खटीक के नाम प्रकाश में आये हैं ।कठेरिया और खटीक समाज के वोट 500-600 के लगभग हैं ।

पालिका चुनाव का गणित यहां के कुल 25000 वोटों में से 16500 वोटों के मुस्लिम और बेकवर्ड होने और उनके समर्थन पर टिका है ।अन्य वैश्य, जैन और दलित वर्ग के वोटर हैं सपा के लिए यहां की पालिका प्रतिष्ठा की सीट है , जबकि बीजेपी सत्ता की हनक में यहां कब्जा करना चाहती है ।यहां मतदान26 नवंवर को होगा। नामांकन प्रक्रिया 1 नवंबर से शुरू हो रही है ।

ये भी पढ़ें:गुजरात चुनाव परीक्षा आखिर किसकी ?

ये भी पढ़ें:गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा को 150 से अधिक सीटें मिल जाएं तो इसे ईवीएम का चमत्कार समझें : राज ठाकरे

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top