छेड‍़खानी से तंग आकर बेटी सहित माँ ने चलती ट्रेन से लगाई छलांग

छेड‍़खानी से तंग आकर बेटी सहित माँ ने चलती ट्रेन से लगाई छलांगप्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ। भारतीय रेल आने वाले समय में बुलेट ट्रेन चलाने का सपना देख रही है। मौजूदा समय में जो ट्रेन चल रही है उनमें सुविधा या सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर नए-नए नियम ला रही है लाखों पैसे खर्च कर रही है बावजूद इसके क्या यात्री सुरक्षित हैं खासकर महिला यात्री। महिला यात्री की सुरक्षा के मामले में जीआरपी या आरपीएफ स्टाफ कितना जागरूक है ये तब देखने को मिला जब माँ-बेटी चलती ट्रेन से कूद गई। अब आपको बताते है क्या थी वजह जिसके कारण माँ-बेटी को चलती ट्रेन से कूदना पड़ा।

दिल्ली के गीता नगर निवासी प्राइवेट कर्मी की पत्नी बेटी के साथ हावड़ा (कोलकता) अपने मायके गई थी। शुक्रवार को प्राइवेट कर्मी की पत्नी 12 वर्षीय बेटी के साथ हावड़ा-आनंद विहार एक्सप्रेस से दिल्ली लौट रही थीं। दोनों जनरल बोगी में यात्रा कर रही थी। महिला ने बताया कि हावड़ा से उनकी बोगी में चार-पांच युवक बैठे थे। ट्रेन चलने के बाद रास्ते में युवकों ने उनसे और बेटी से छेड़छाड़ शुरू कर दी।

ये भी पढ़ें- कोहरे में लेट न हो ट्रेंनें इसके लिए भारतीय रेल तकनीक का कर रहा परीक्षण

महिला का आरोप है कि युवकों ने उसके साथ भी बदसलूकी की। उन्होंने विरोध किया और बोगी में मौजूद यात्रियों से मदद की गुहार लगाई, लेकिन कोई आगे नहीं आया। जब मुगलसराय स्टेशन पर ट्रेन रुकी तो उन्होंने स्टेशन पर उतर कर हंगामा किया। इसकी सूचना मिलने पर जीआरपी कर्मी आए, लेकिन शोहदे बोगी से जा चुके थे। इसके बाद शोहदों के डर से वह बेटी के साथ दूसरी बोगी में जाकर बैठ गईं।

इसके बाद फतेहपुर से पहले रसूलाबाद स्टेशन के पास में ट्रेन धीमी होने पर बेटी के साथ उतर गई। उसका सामान ट्रेन में ही छूट गया था। वे लोग रसूलाबाद स्टेशन गए वहां से आरपीएफ ने महिला को फतेहपुर स्टेशन भेज दिया। फतेहपुर जीआरपी थाने में उन्होंने पुलिस को पूरा वाकया बताया। ट्रेन में सामान छूटने की जानकारी भी दी। जीआरपी फतेहपुर के सूचना देने पर जीआरपी सेंट्रल ने ट्रेन से उनका बैग उतार लिया। महिला के मुताबिक फतेहपुर जीआरपी ने इलाहाबाद-उधमपुर एक्सप्रेस से उन लोगों को कानपुर भेज दिया।

ये भी पढ़ें- रेल यात्रा के दौरान अगर कोई करता है आपको परेशान तो इस ऐप के जरिये ले सकती हैं आरपीएफ की मदद

महिला ने पुलिस को बताया कि शोहदों की हरकतों से वह और बेटी बहुत भयभीत थी। उन लोगों को लगा कि इस ट्रेन में भी शोहदों न चढ़ आए हो। रात अधिक होने पर शोहदे उन लोगों को आगे भी तंग करेंगे। इसी डर से वह बेटी को लेकर चंदारी स्टेशन के पास चलती ट्रेन के कूद गईं थी। इससे उन लोगों के सिर व शरीर पर चोटें आईं। घटना की सूचना पाकर जीआरपी मौके पर पहुंची और उन लोगों को हैलट में भर्ती कराया। महिला ने बताया कि उसका सामान ट्रेन में ही रह गया, जिसे सेंट्रल स्टेशन पर जीआरपी ने उतारा है।

खेती और रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top