मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज उन्नाव में करेंगे ‘सौभाग्य योजना’ का शुभारंभ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज उन्नाव में करेंगे ‘सौभाग्य योजना’ का शुभारंभमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

उन्नाव। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी सौभाग्य योजना का शुभारंभ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज जिले के बीघापुर में करेंगे। बीघापुर के रेलवे स्टेशन के निकट स्थित एक मैदान में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा हैं। यहां योजना के तहत 50 लाभार्थियों को सौभाग्य योजना के प्रमाण पत्र भी दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को लेकर शनिवार को प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार ,सी एम डी कामरान रिजवी, जिलाधिकारी रवि कुमार एनजी ने कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। प्रमुख सचिव ने तैयारियों का जायजा लेते हुए पूरे पंडाल स्थल का भौतिक निरीक्षण किया तथा आवश्यक दिशा निर्देश दिए। कार्यक्रम में केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, सूबे के ऊर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा, प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री, सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री मोहसिन रजा सौभाग्य योजना के शुभारंभ कार्यक्रम में बीघापुर पहुचेंगे।

सौभाग्य योजना का शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित के विधानसभा क्षेत्र से होगा। विस् अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित भगवंतनगर विधानसभा से विधायक हैं। कार्यक्रम स्थल भगवंत नगर विधानसभा क्षेत्र में ही आता है। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद यह पहला मौका है जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उन्नाव जिले में पहुंच रहे हैं।

कल की तैयारी में जुटे अफसर।

ये भी पढ़ें: मोदी ने शुरू की सौभाग्य योजना, गरीबों को मिलेगी मुफ्त बिजली

क्या है ‘सौभाग्य योजना'

‘सौभाग्य योजना' का मकसद हर घर तक बिजली का कनेक्शन पहुंचाना है। इस योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में रहने वाले गरीबों के घर बिजली पहुंचाने की योजना का लक्ष्य रखा गया है। देश के दूरदराज इलाकों में जहां हर घर में बिजली का कनेक्शन पहुंचाना मुश्किल है वहां सरकार घरों को रोशन करने के लिए सौर ऊर्जा का सहारा लेगी और लोगों को बैटरी, 5 LED लाइट और एक पंखा देगी। सौभाग्य योजना से दिसंबर 2018 तक हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है, ताकि देश का कोई भी घर अंधेरे में ना रहे।

कार्यक्रम में केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, सूबे के ऊर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा, प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री, सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री मोहसिन रजा उपस्थित रहेंगे।

ये भी पढ़ें: सौभाग्य योजना के लिए हर साल 28,000 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की जरूरत

ये भी पढ़ें:मोबाइल नंबर की तरह बदल सकेंगे बिजली का कनेक्शन, बिजली कानून में होगा संशोधन

Share it
Share it
Share it
Top