यूपी एटीएस की पहल ने युवाओं को आतंक की राह पर जाने से रोका

Abhishek PandeyAbhishek Pandey   10 Jun 2017 5:34 PM GMT

यूपी एटीएस की पहल ने युवाओं को आतंक की राह पर जाने से रोकायूपी एटीएस। प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। यूपी एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड) ने बीते 27 अप्रैल 2017 को एक हेल्प लाइन नम्बर उन मां-बाप के लिए जारी किया था, जिनके बच्चे जिहादी तंजीमों के बहाव में आकर गलत रास्ता चुन लेते हैं। इस हेल्पलाइन के माध्यम से अबतक 136 कॉल एटीएस अधिकारियों को आ चुकी हैं। इसमें 31 मामले बेहद संवेदनशील थे, जिन्हें एटीएस अधिकारियों ने काउंसलिंग के माध्यम से आतंक की राह की ओर बढ़ रहे युवाओं को समाज के मुख्य धारा से जोड़ने का काम किया है।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

आईजी एटीएस असीम अरुण ने बताया कि, देश में बढ़ती आतंकवादी घटनाओं और इस ओर युवाओं के रुझान को देखते हुए यूपी एटीएस ने एक हेल्प लाइन नम्बर जारी किया था, जिस पर कोई भी युवा एवं उनके मां-बाप कॉल कर मामले की जानकारी दे सकते हैं। इसके पीछे एटीएस का मकसद केवल इतना है कि, सोशल मीडिया पर कुछ जिहादी तंजीमें इतना अधिक सक्रिय हो गई है कि, वह जिहादी बातें कर पढ़े-लिखे युवाओं को भी अपने प्रभाव में लेने से बाज नहीं आ रहे।

ये भी पढ़ें : आईएसआई के निशाने पर यूपी, युवाओं को पैसे का लालच देकर अपने नेटवर्क में शामिल किया जा रहा

ज्यादातर युवा इन सोशल साइटों पर फैलाई गई अफवाहों और ब्रेन वॉश के चक्कर में फंस कर जिहाद का रास्ता पकड़ लेते हैं, जिसके चलते उनकी पूरी जिंदगी खत्म हो जाती है। इन सब को देखते हुए एसटीएस ने उन मॉं-बाप से अनुरोध किया था कि, अगर आपका बच्चा किसी गलत राह पर जा रहा है तो उसकी काउंसलिंग करवा वक्त से पहले उसे रोका जा सकता है।

आईजी असीम अरुण ने आगे बताया कि, अबतक सात ऐसे मामले काउंसलिंग में माध्यम से सामने आये हैं जो बेहद संवेदनशील थे। जहां सात युवाओं को सोशल साइट के द्वाार जिहादी तंजीमों ने अपने गिरफ्त में कर लिया था। हालांकि वक्त रहते इन युवाओं के घरवालों ने एटीएस हेल्प लाइन पर फोन कर मदद मांगी। जिसके बाद हमारी काउंसलिंग टीम ने उन युवाओं से घंटों बातचीत कर उनकी मानसिक स्थिति समझ उन्हें सही रास्ते पर ले आई।

ये भी पढ़ें : यूपीएटीएस व महाराष्ट्र एटीएस को मिली भारी सफलता, फैजाबाद के बाद मुम्बई में एक और आईएसआई एजेंट को पकड़ा

आज के दिन वह सभी युवा जिहादी ताकतों से दूर अपनी आम जिदंगी जी रहे हैं। वहीं एटीएस में काउंसलिंग के माध्यम से कुछ युवाओं ने दोबारा से स्कूल में एडमिशन लेकर अपनी शिक्षा शुरू कर दी है। जबकि कुछ युवाओं ने प्रधानमंत्री स्किल्ड योजना के तहत काम सीख रहे हैं, जो आने वाले समय में काम में दक्षता प्राप्त कर अपनी नौकरी शुरू कर देंगे। एटीएस के इस कदम से वह मां-बाप बेहद खुश हैं, जिनके बच्चों को वक्त रहते काउंसलिंग कर सही राह पर लाया गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top