बीएचयू में बवाल : दो अक्टूबर तक कैंपस बंद, कर्फ्यू जैसे हालात, ट्विटर पर छाया बवाल

बीएचयू में बवाल : दो अक्टूबर तक कैंपस बंद,  कर्फ्यू जैसे हालात, ट्विटर पर छाया बवालबीएचयू कैंपस

बनारस। बीएचयू में छेड़खानी का विरोध करते हुए सिंहद्वार पर दो दिनों से धरना-प्रदर्शन कर रहीं छात्राओं का आंदोलन शनिवार को और हिंसक हो गया। शनिवार देर रात तक यूनिवर्सिटी परिसर में बवाल होता रहा। रात एक बजे तक पुलिस और छात्राओं के बीच झड़प होत रही। हालात इतने बेकाबू हो गए कि 1500 से ज्यादा पुलिस बल को तैनात करना पड़ा। पुलिस और छात्राओं के बीच हुई झड़प में कई छात्राएं घायल हो गईं। पुलिस ने हवाई फायरिंग की और छात्राओं ने पथराव किया। इस प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी को दो अक्टूबर तक बंद रखने का ऐलान कर दिया गया।

कैंपस में कर्फ्यू जैसे हालात, 35 राउंड से अधिक की गई हवाई फयरिंग

वीसी लॉज के सामने छात्र-छात्रओं पर लाठीचार्ज के बाद उग्र हुए आंदोलन में पुलिस को छात्रों पर काबू पाने के लिए 35 राउंड से अधिक हवाई फायरिंग करनी पड़ी। रात करीब पौने ग्यारह बजे छात्रों और बीएचयू के सुरक्षाकर्मियों के बीच रुइया छात्रवास चौराहे के सामने तनातनी चल रही थी। रात करीब एक बजे छात्रओं को काबू करने के फिर से लाठी चार्ज किया गया। ठीक आधी रात के वक्त बीएचयू सुलग रहा था। डीयू परिसर में भारी मात्रा में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। एक तरह से कर्फ्यू जैसे हालात बन गए हैं। एसपी सिटी, सीओ कैंट, एसओ चेतगंज, एसओ लंका, एएओ भेलूपुर फोर्स के साथ अंदर छात्रों से मोर्चा ले रहे थे। ठीक इसी समय डीएम, एसएसपी और सीओ भेलूपुर, मौके से आठ सौ मीटर दूर संत रविादास गेट पर खड़े थे। रात करीब एक बजे आलाअधिकारी बीएचयू में दाखिल हुए।

ट्विटर पर छाया बीएचयू बवाल, अखिलेश ने भी किया ट्वीट

बीएचयू में छात्रा के साथ हुई छेड़खानी और प्रदर्शन पर पुलिस की कार्रवाई का विरोध ट्विटर पर भी दिखाई दे रहा है। ट्विटर पर #अबकी_बार_बेटी_पर_वार और #UnSafeBHU जैसे हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं। इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, "बल से नहीं बातचीत से हल निकाले सरकार।बीएचयू में छात्रों पर लाठीचार्ज निंदनीय ।दोषियों पर हो करवाई।"

वहीं कुमार विश्वास ने भी इस मुद्दे पर काफी ट्वीट और रीट्वीट किए हैं। विश्वास ने ट्वीट किया, “बेटियों के हॉस्टल में लाठी भाँजते सराकर के इन नंपुसक हाथों की बेशर्मी देख कर भी जो लोग इसे जायज़ ठहरा कर सो पा रहे हैं उनके धैर्य को प्रणाम।”

संबंधित खबर :- बीएचयू विवाद : “कुर्ते में हाथ डाला था, कोई कहां तक बर्दाश्त करे”

मरीजों को हो रही दिक्कत

बीएचयू का सिंहद्वार बंद होने से मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सिंहद्वार के बगल के गेट से एंबुलेंस को कैंपस में प्रवेश दिया जा रहा है। पर बहुत से लोगों को नरिया गेट से अंदर जाना पड़ रहा है। अचानक बढ़ी भीड़ के चलते नरिया गेट मार्ग बुरी तरह जाम की चपेट में रहा। इस रोड पर चले रहे खोदाई के काम ने जाम के कोढ़ में खाज का काम किया। मोटरसाइकिल से कैंपस में जाने वाले को भी काफी समय लग जा रहा था। बाइक पर अपने भाई को हॉस्पिटल दिखाने लेकर जा रहे भेलूपुर के रमेश यादव ने बताया कि उन्हें मेन गेट से अंदर जाने नहीं दिया गया। अब नरिया गेट से बाहर जा रहे हैं। जाम में फंसे हुए बीस मिनट से ऊपर हो गया है।

पुलिस लाठीचार्ज से घायल हुई छात्राएं, देखे वीडियो...

देखें वीडियो...

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top