29 साल पुराना अंधविश्वास आज तोड़ेंगे योगी

29 साल पुराना अंधविश्वास आज तोड़ेंगे योगीसाभार: इंटरनेट।

उत्तर प्रदेश की सियासत में ऐसी मान्यता है कि जो भी मौजूदा सरकार का मुख्यमंत्री नोएडा जाता है तो उससे सत्ता छिन जाती है। ये बात राजनीति में इस कदर घर कर गई कि 29 साल से ये अंधविश्वास कायम है। लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज नोएडा जाकर इस अंधविश्वास को तोड़ देंगे।

गौरतलब है कि सीएम योगी आदित्यनाथ 25 दिसंबर को नोएडा-दिल्ली के बीच शुरू होने जा रही मेट्रो की नई लाइन शुभारंभ कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इस प्रोग्राम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शामिल होना है। जिससे पहले यहां तैयारियों का जायजा लेने शनिवार को योगी आदित्यनाथ नोएडा पहुंच रहे हैं।

ये भी पढ़ें- यूपी के पाठ्यक्रम में शामिल होगी जीरो बजट कृषि : योगी आदित्यनाथ

सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ शब्दों में दावा किया कि नोएडा बस एक मिथक है और वो इसे तोड़कर रहेंगे। इसलिये एक नहीं दो-दो बार नोएडा की धरती पर कदम रखकर योगी आदित्यनाथ ये जताएंगे कि वो सियासत के साथ धर्म कर्म और पूजा पाठ में भले ही डूबे रहते हों लेकिन अंधविश्वासों से परे हैं चाहे ये अंधविश्वास उनकी कुर्सी से ही क्यों न जुड़ा हो।

बता दें कि सपा सरकार में मुख्यमंत्री रहे अखिलेश यादव भी अपने कार्यकाल के दौरान नोएडा जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। इतना ही नहीं नोएडा से जुड़ी कई योजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास अखिलेश ने लखनऊ बैठे बैठे ही कर डाला।

29 वर्षों से कायम है अंधविश्वास

नोएडा को लेकर अंधविश्वास 23 जून, 1988 से जुड़ा है। जब कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री और गोरखपुर निवासी वीर बहादुर सिंह 23 जून, 1988 को नोएडा पहुंचे। नोएडा दौरे के अगले दिन ही परिस्थितियां कुछ ऐसी बनीं कि उनको अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। उनके इस्तीफा दिये जाने के बाद से ही अंधविश्वास पनपा कि जो भी नोएडा जाता है, उसकी कुर्सी चली जाती है।

ये भी पढ़ें- जो जीत रहा है, वही सिकंदर है: योगी

इसके बाद इस अंधविश्वास का डर नारायण दत्त तिवारी, मुलायम सिंह यादव, कल्याण सिंह, रामप्रकाश गुप्ता, राजनाथ सिंह, मायावती से लेकर अखिलेश यादव तक को सताता रहा। इस अंधविश्वास को तोड़ने के लिये 2011 में तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती नोएडा गई थी लेकिन 2012 में उनके हाथ से सत्ता चली गई।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top