दुधवा नेशनल पार्क में बढ़ेगा हाथियों का कुनबा, कर्नाटक से लाए जा रहे 11 हाथी

दुधवा नेशनल पार्क में बढ़ेगा हाथियों का कुनबा, कर्नाटक से लाए जा रहे 11 हाथीदुधवा में हाथियों की संख्या 24 हो जाएगी

दुधवा नेशनल पार्क को विश्वस्तरीय 'इको-पर्यटन' केन्द्र के रूप में विकसित करने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों के बीच इस पार्क को अगले कुछ दिन में कर्नाटक से 11 हाथियों का तोहफा मिलने जा रहा है।

दुधवा नेशनल पार्क के उप निदेशक महावीर कौजलागी ने कहा, ''कर्नाटक से 11 हाथी आने के बाद दुधवा में हाथियों की संख्या 24 हो जाएगी। उनके आने से यहां काफी सुविधा भी हो जाएगी, जिसमें बारिश के मौसम में वन क्षेत्र की गश्त भी शामिल है।''

ये भी पढ़ें- दुधवा के पर्यटन को चार चाँद लगाएगा 'थारु शिल्पग्राम'

उन्होंने कहा कि फिलहाल इन हाथियों का उपयोग गेंडों और अन्य वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए किया जाएगा यानी सुदूरवर्ती वन क्षेत्रों में हाथियों के जरिए गश्त की जाएगी। एक बार दुधवा पार्क के माहौल में ये 11 हाथी रम जाएं तो पर्यटकों के लिए भी इनका इस्तेमाल किया जा सकता है।

केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय की पहल पर कर्नाटक सरकार ने 11 प्रशिक्षित हाथियों को उत्तर प्रदेश के दुधवा नेशनल पार्क में भेजने का फैसला किया है। कर्नाटक के नागरहोल नेशनल पार्क और बांदीपुर बाघ अभयारण्य से इन हाथियों को दुधवा पार्क भेजा जाएगा।

अधिकारियों ने बताया कि उत्तर प्रदेश से 15 महावतों की टीम कर्नाटक के उक्त दोनों नेशनल पार्क पहुंच गयी है ताकि वे हाथियों से मेल-जोल बढ़ा सकें। उन्होंने बताया कि सभी हाथियों को बड़े-बड़े ट्रकों में लाया जाएगा। ग्यारह ट्रकों के काफिले में पशु चिकत्सिकों के साथ ही दोनों प्रदेशों के हैंडलर्स भी रहेंगे। उम्मीद है कि सड़क मार्ग के जरिए इन हाथियों को उत्तर प्रदेश पहुंचने में छह से सात दिन लगेंगे। दुधवा नेशनल पार्क मुख्यमंत्री योगी के दिल के काफी करीब है। वह इस पार्क को विश्वस्तरीय 'इको टूरिज्म' केंद्र के रूप में विकसित करने का निर्देश वन एवं पर्यटन अधिकारियों को दे चुके हैं।

ये भी पढ़ें- #WorldTigerDay : तस्वीरों में जानिए दुनिया में बची बाघ की प्रजातियों के बारे में

योगी ने 'यूपी इन्वेस्टर्स समिट' में कहा था, ''मैंने दुधवा पार्क जैसा शानदार वन्यजीव पार्क इस देश में दूसरा कोई नहीं देखा है । यहां बाघ, हिरण और चिड़िया हैं। हर किलोमीटर पर जानवरों को देखा जा सकता है।''

हिरण जैसे हैं कई जंगली जानवर

दुधवा नेशनल पार्क उत्तर प्रदेश के खीरी जिले में स्थित संरक्षित वन क्षेत्र है। यह भारत और नेपाल की सीमाओं से लगे विशाल वन क्षेत्र में फैला है। यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा एवं समृद्ध जैव विविधता वाला क्षेत्र है। यह पार्क विशेष रूप से बाघों और बारहसिंगा के लिए विश्व प्रसिद्ध है। दुधवा उद्यान जैव विविधता के मामले में काफी समृद्ध माना जाता है।

पर्यावरणीय दृष्टि से इस जैव विविधता को भारतीय संपदा और अमूल्य पारस्थितिकि धरोहर के तौर पर माना जाता है। इसके जंगलों में मुख्यतः साल और शाखू के वृक्ष बहुतायत से मिलते हैं। हिरनों की पांच प्रजातियां- चीतल, सांभर, काकड़, पाढ़ा और बारहसिंगा, बाघ, तेन्दुआ, भालू, सेही, उड़न गिलहरी, हस्पिडि हेयर, बंगाल फ़्लोरिकन, हाथी, सूँस (गैंजैटिक डाल्फ़िन), मगरमच्छ, लगभग 400 पक्षी प्रजातियां एंव सरीसृप, उभयचर, तितलियों के अतिरक्ति दुधवा के जंगल बहुत सी अन्य प्रजातियों का घर हैं।

ये भी पढ़ें- टाइगर रिजर्व में अब सैर सपाटा पड़ेगा महंगा

Share it
Share it
Share it
Top