आयुष्मान भारत योजना के लिए रजिस्ट्रेशन कराने का मैसेज एक दम झूठा है

सोशल मीडिया के इस दौर में सबसे तेज होने की होड़ सी लग गयी है। इसी में कुछ लोग ऐसे में भी शामिल हो जाते हैं जो फेक मैसेजे से लोगों का नुकसान पहुंचाने की फिराक में रहते हैं।

आयुष्मान भारत योजना के लिए रजिस्ट्रेशन कराने का मैसेज एक दम झूठा है

क्या वाकई मक्का में होटल की बिल्डिंग गिरने से हाजी शहीद हुए हैं? सोशल मीडिया के इस दौर में सबसे तेज होने की होड़ सी लग गयी है। इसी में कुछ लोग ऐसे में भी शामिल हो जाते हैं जो फेक मैसेजे से लोगों को नुकसान पहुंचाने की फिराक में रहते हैं। जैसे आयुष्मान भारत के रजिस्ट्रेशन को ही लीजिए। इसके नाम पर कुछ लोगों ने ठगी का धंधा शुरू कर दिया है। और वे ठगे जा रहे जो सोशल मीडिया पर आयी खबरों पर तुंरत विश्वास कर लेते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से आयुष्मान भारत योजना का ऐलान किया था। इसे 25 सितंबर से लागू करने की बात भी कही। लेकिन कुछ लोग फर्जी वेबसाइट बनाकर आयुष्मान भारत योजना के नाम पर रजिस्ट्रेशन कर रहे हैं और व्हाट्सएप पर कई फर्जी मैसेज भी चला रहे हैं।

कुछ लोगों ने आयुष्मान भारत योजना की सरकारी जैसी दिखने वाली वेबसाइट बना ली है और उस वेबसाइट को सच दिखाने के लिए प्रधानमंत्री की तस्वीर भी लगाई है। अब तक आयुष्मान भारत का पोर्टल लाइव नहीं हुआ है। लोगों से 1000 से 1200 रुपए रजिस्ट्रेशन के लिए वसूला जा रहा है।

ये भी पढ़ें- झूठी खबर: आधी रात में आपको बच्चे के रोने की आवाज आए तो दरवाजा मत खोलिएगा

आयुष्मान भारत योजना के सीईओ इंदु भूषण ने एक इंटरव्यू में बताया कि आयुष्मान भारत भारत सरकार की बहुत ही महत्वकांक्षी योजना है। इसमें 50 करोड़ लोग कवर किए जायेंगे। इस योजना के तहत करीब 10 करोड़ परिवारों को प्रति वर्ष पांच लाख रुपए का मेडिकल कवर मिलेगा। सरकार के अनुसार, यह योजना ट्रस्ट मॉडल या इंश्योरेंस मॉडल पर काम करेगी और पूरी तरह कैशलेस होगी। इस योजना के लाभकारी कौन हैं इसका चयन हमने सर्वे के द्वारा किया हुआ है।

योजना के नाम पर धांधली का दौर अभी से शुरू हो गया है। योजना से जुड़ी अलग-अलग फर्जी वेबसाइट बनाकर उसमें रजिस्ट्रेशन कराने के लिए बोला जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना के लाभ पाने वालों की लिस्ट तैयार कर ली गई है, आपसे अगर कोई इस योजना का लाभ दिलवाने की बात करता है तो गलत है। पैसे लेने-देने की कोई बात है ही नहीं। हमारे पास कई ऐसे व्हाट्सऐप मैसेज आयें है, उस मैसेज में प्रधानमंत्री जी की फोटो भी लगा रखी है और उसका नाम भी आयुष्मान रखा हुआ है। इसमें रजिस्ट्रेशन करने के लिए 1000- 1200 रुपए की मांग कर रहे हैं। इस मैसेज में यह भी कहा जा रहा है कि आप अपने घर में काम करने वालों का, नौकर, ड्राइवर और दूधवाले का रजिस्ट्रेशन करिए। यह फर्जी है। इसपर बिल्कुल ध्यान मत दीजिए।

ये भी पढ़ें- क्या वाकई मक्का में होटल की बिल्डिंग गिरने से हाजी शहीद हुए हैं?

इंदु भूषण आगे बताते हैं कि इस योजना के लाभकारी आप हैं या नहीं अगर आपको पता करना है तो आप अपने आशा से एएनएम या सरकारी अस्पताल से पता कर सकते हैं। उनके पास इसकी सूची है। इसके अलावा जितने भी लाभार्थी हैं हम उनके पास चिट्ठी भेजेंगें। आपको एक महीने के अंदर अगर चिट्ठी मिलती है तो इसका मतलब है कि आप इस सूची में हैं। आप सिर्फ सरकारी व्यक्ति से ही इसके बारे में पता करिए।"

फर्जीवाड़े में न फंसे

अभी तक आयुष्मान भारत का कोई पोर्टल नहीं बनाया गया है।

आयुष्मान भारत योजना में कहीं भी आवेदन नहीं देना है और न ही कहीं पर इसका रजिस्ट्रेशन करवाना है। क्योंकि लाभ पाने वाले लोगों का चयन सर्वे द्वारा किया जा चुका है।

परिवारों का चयन सामाजिक आर्थिक जनगणना के आधार पर किया गया है।

आपको योजना का प्रीमियम नहीं जमा करवाना है। आयुष्मान भारत योजना मुफ्त है।

इस योजना का लाभ पाने वाले लोगों को इसकी सूचना एक पत्र भेजकर दी जाएगी।

फर्जी वेबसाइट और फर्जी व्हाट्सएप मैसेज पर ध्यान न दें।

Share it
Top