देश

भारत बंद : बिहार में कई जगह बवाल, MP के भिंड-मुरैना में कर्फ्यू, राजस्थान में आंशिक असर

सोशल मीडिया के जरिए विभिन्न संगठनों की ओर से कथित भारत बंद के आह्वान के बाद मंगलवार को कई राज्यों में इसका असर देखने को मिला। बिहार में कई जगह बवाल सामने आए तो मध्य प्रदेश के भिंड-मुरैना के कई क्षेत्रों में सोमवार रात से ही कर्फ्यू लगा दिया गया है। कई स्थानों पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। वहीं, राजस्थान में जयपुर समेत छह जिला प्रशासन ने इंटरनेट सेवाएं 24 घंटे के लिए स्थगित कर दी हैं और निषेधाज्ञा लागू कर दी है।

दो अप्रैल को हुई हिंसा के विरोध में 10 अप्रैल को सोशल मीडिया के जरिए कथित तौर पर भारत बंद का आह्वान किया गया है। ऐसे में देश के गृह मंत्रालय की ओर से कथित भारत बंद के मद्देनजर कई राज्यों को एडवाइजरी जारी करते हुए सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रखने और हिंसा रोकने के निर्देश दिए थे।

बिहार के कई क्षेत्रों में बंद समर्थक सुबह से ही सड़क पर उतर गए। आरा में बंद समर्थकों ने सड़क और रेल मार्ग जाम कर प्रदर्शन किया। आरा स्टेशन पर भारत बंद समर्थकों ने लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस और एक पैसेंजर ट्रेन रोकी। इस दौरान दो गुटों में झड़प होने की भी सूचना है। इसके अलावा दरभंगा, जहानाबाद, बेगूसराय में भी बंद समर्थक सड़कों पर उतरे और टायर जलाकर मार्ग को अवरुद्घ किया। सीतामढ़ी जिले के रुन्नीसैदपुर टोल प्लाजा के पास भी बंद समर्थक सड़क पर उतरे और सड़क जाम किया।

आरा स्टेशन में ट्रेन रोक प्रदर्शन करते भारत बंद समर्थक।

पटना के भी कई क्षेत्रों में मार्ग जाम किया गया। बंद समर्थकों का कहना है कि सभी जातीय समूहों में निर्धन लोग शामिल हैं। ऐसे में आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू किया जाना चाहिए। इस बीच बंद को देखते हुए राजधानी पटना के अधिकांश निजी स्कूलों को बंद रखा गया है।

ये भी पढ़ें- SC-ST विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी अफसरों के अधिकारों का किया था बचाव, जानें क्या है पूरा मामला

दूसरी ओर मध्य प्रदेश राज्य में सरकार ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। भिंड-मुरैना के कई क्षेत्रों में सोमवार रात से ही कर्फ्यू लगा दिया गया है, वहीं प्रदेश की राजधानी भोपाल सहित अन्य कई जिलों में निषेधाज्ञा धारा 144 लागू किए जाने के साथ कुछ स्थानों पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

ये भी पढ़ें- एससी-एसटी विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने फैसले पर नहीं लगाई रोक, 10 दिन बाद फिर होगी सुनवाई

भारी पुलिस बल, रेपिड एक्शन फोर्स, होमगार्ड, रेलवे पुलिस की जगह-जगह तैनाती की गई है। राजधानी भोपाल में जिलाधिकारी ने मंगलवार सुबह छह बजे से निषेधाज्ञा लगाई गई है, जो 24 घंटे प्रभावशाली रहेगी। पांच से ज्यादा व्यक्ति एकजुट होकर धरना, प्रदर्शन नहीं कर सकेंगे। धरना, प्रदर्शन, रैली पर पूरी तरह रोक है, कोई भी व्यक्ति लाठी, डंडा लेकर नहीं निकल सकेगा। विवाह समारोह, बारात, शव यात्रा, सरकारी दफ्तरों, अस्पताल, स्कूल, होटल, निजी संस्थान इससे दूर रहेंगे।

चंबल क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) संतोष सिंह ने बताया, “भिंड और उसके कस्बे मालनपुर, मेहगांव, गोहद के अलावा मुरैना शहर में सोमवार की रात से कर्फ्यू लगाया गया है, जो शाम तक जारी रहेगा, समीक्षा के बाद कोई फैसला होगा।“ आगे बताया, “इसी तरह ग्वालियर के थाटीपुर, गोला का मंदिर, मुरार, डबरा शहर और ग्रामीण में भी रात को कर्फ्यू लगा रहा। दिन में निषेधाज्ञा लगाई गई है। इसके अलावा ग्वालियर-चंबल के अधिकांश हिस्सों में इंटरनेट सेवा को बंद किया गया है।“

ये भी पढ़ें- एससी - एसटी एक्ट : 17 फीसदी दलित वोटर, लोकसभा की आरक्षित 131 सीटें और सियासत

वहीं उत्तर प्रदेश में कथित भारत बंद आह्वान का असर अभी तक कोई देखने को नहीं मिला। हालांकि कुछ समूहों द्वारा मेरठ में रोजगार और शिक्षा में जाति आधारित आरक्षण के विरोध करने की सूचना जिला प्रशासन को थी। इसके तहत शहर में पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के पूरी व्यवस्था की है।

भारत बंद : राजस्थान में आंशिक असर

राजस्थान में कड़े सुरक्षा प्रबंध के कारण भारत बंद का असर बहुत कम नजर आ रहा है। अधिकारिक एवं पुलिस सूत्रों ने बताया कि प्रदेश में किसी भी स्थान से अप्रिय वारदात, रेल, बस रोके जाने की सूचना नहीं है। जयपुर समेत छह जिला प्रशासन ने भारत बंद के आह्वान को देखते हुए इंटरनेट सेवाएं 24 घंटे के लिए स्थगित कर दी हैं और निषेधाज्ञा (धारा 144) लागू कर दी है। प्रांतीय राजधानी में कुछ दुकानें खुली हुई हैं। नगरीय एवं परिवहन सेवाएं यथावत संचालित हो रही हैं। जगह-जगह सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये हैं।

जयपुर पुलिस आयुक्तालय के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कानून तोड़ने वाले व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। अनुसूचित जाति जनजाति के कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के खिलाफ पूर्व में भारत बंद के दौरान व्यापक हिंसा और आगजनी हुई थी। उस दौरान अलवर जिले में एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी।

(एजेंसी)

ये भी पढ़ें- उन्नाव: गैंग रेप मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेगर का भाई गिरफ्तार

ये भी पढ़ें- देशवासियों को स्वच्छता की शपथ दिलाएंगे पीएम मोदी